पाकिस्तान में फिर शिया यात्रियों पर हमला

  • 28 जून 2012
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption बस में लगभग 60 शिया श्रद्धालु बैठे थे जब उसपर पहाड़ से रॉकेट हमला हुआ

पाकिस्तान के क्वेटा शहर में ईरान जाने वाली एक यात्री बस में हुए धमाके में छह लोग लाग मारे गए और 15 अन्य घायल हो गए.

पुलिस का कहना है कि उस यात्री बस में शिया समुदाय के लोग सवार थे, जो अपने धार्मिक स्थलों की ज़ियारत के लिए ईरान जा रहे थे.

क्वेटा पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि शहर के हजारगंज इलाके में यात्री बस के करीब उस वक़्त धमाका हुआ, जब वह पुलिस की सुरक्षा में पाकिस्तान के समीवर्ती इलाके ताफतान के लिए रवाना हो रही थी.

ग़ौरतलब है कि ताफतान इलाका राजधानी क्वेटा से करीब 700 किलोमीटर की दूरी पर पूर्व में स्थित है और यह शहर पाक-ईरान सीमा पर है.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि धमाके में एक पुलिसकर्मी सहित छह लोग मारे गए और 15 अन्य घायल हो गए. घायलों में महिलाएँ और बच्चे भी शामिल हैं.

उन्होंने कहा कि बस में 60 के करीब यात्री सवार थे, जिसमें से अधिकतर शिया समुदाय के हज़ारा कबीले से है.

धमाके के तुरंत बाद राहतकर्मी घटनास्थल पर पहुँच गए और घायलों को शहर के अस्पतालों में भर्ती किया गया.

जाँच जारी

पुलिस और अर्धसैनिक बलों ने इलाके को घेर लिया और जाँच का काम शुरु कर दिया. धमाके के बाद क्वेटा और आसपास के इलाक़ों में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है.

पुलिस का कहना है कि अभी तक यह पता नहीं चल सका है कि धमाका किस ने किया और न ही किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है.

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक़ यात्री बस को करीबी पहाड़ों से रॉकेट के ज़रिए निशाना बनाया गया, जिसके बाद भीषण धमाका हुआ और बस उलट गई.

ग़ौरतलब है कि पाकिस्तान में शिया समुदाय पर लगातार हमले हो रहे हैं और कुछ समय से इस में बढ़ोतरी देखी जा रही है.

बलूचिस्तान की राजधानी क्वेटा और कराची के शिया समुदाय इसका सबसे ज़्यादा शिकार होते हैं.

कुछ हफ्ते पहले भी क्वेटा से सटे मस्तोंग इलाके में शिया समुदाय की एक बस को गोलीबारी की गई थी, जिसमें 16 लोग मारे गए थे और कई अन्य घायल हो गए थे.

शिया समुदाय अपने उपर हो रहे हमलों के खिलाफ लगातार विरोध प्रदर्शन करते रहते हैं और उनके मुताबिक़ इस संबंध में सरकार कोई कदम नहीं उठा रही है.

संबंधित समाचार