भारत में जूते साफ करने पर बार एसोसिएशन 'नाराज'

ख़ुर्शीद ख़ान (फाइल फोटो) इमेज कॉपीरइट pti
Image caption ख़ुर्शीद ख़ान ने ऐसा कर भारत में कई लोगों का दिल जीत लिया था.

डिप्टी अटॉर्नी जनरल खुर्शीद खान के भारत में गुरुद्वारों में जूते साफ करने पर पाक सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन नाराज़ है और वह उनके खिलाफ नोटिस जारी करने पर विचार कर रहा है.

दरअसल गत मार्च में जब खुर्शीद खान भारत आए थे, तो उन्होंने पंजाब के गुरुद्वारों में सेवा के तौर पर आम लोगों के जूते साफ किए थे.

इस मामले में खबर मिली है कि पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट एसोसिएशन नाराज़ है और उनके खिलाफ कारण-बताओ नोटिस जारी करने पर विचार कर रहा है.

बीबीसी से बातचीत में खुर्शीद खान ने कहा कि उन्हें नोटिस अभी तक मिला नहीं है.

उन्होंने कहा, “मैं इस नोटिस का जवाब अदालत में दूंगा. एक तरफ अजमल कसाब है, जो भारत में हमला करता है और पाकिस्तानी मुसलमान साबित होता है और दूसरी तरफ खुर्शीद खान है जो भारत में पाकिस्तान और मुसलमानों की छवि सुधारने के लिए धार्मिक सेवा करता है. इस तरह की सेवा को बदनामी करार कैसे दिया जा सकता है? मैं पिछले दो सालों से पाकिस्तान समेत दूसरे क्षेत्रों में ऐसी धार्मिक सेवाएं करता आया हूं.”

जनरल खुर्शीद खान ने कहा कि वे एक बैठक के सिलसिले में भारत आए थे जब पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने उन्हें राज्य में राजकीय मेहमान के तौर पर आमंत्रित किया था.

उन्होंने पंजाब में कुछ गुरुद्वारों का दौरा किया था जहां उन्होंने सेवा करने की इच्छा जताई.

गुरुद्वारों में लोगों के जूतों को साफ करना सिख धर्म में एक धार्मिक सेवा के रूप में देखा जाता है.

मार्च की घटना पर अब नोटिस जारी करने की तैयारी के सवाल पर उन्होंने कहा कि समय लगना ये दर्शाता है कि इसके पीछे किसी की बुरी मंशा ही है.