पाकिस्तान में पोलियो अभियान पर तालिबान का साया

पाकिस्तान में पोलियो अभियान इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पाकिस्तान में पोलियो अभियान पिछले बरसों में कई बार बाधित हुआ है

पाकिस्तान में सोमवार से पोलियो के खिलाफ एक अभियान शुरु हुआ है. लेकिन पाकिस्तान के कबायली इलाके में ढाई लाख बच्चों को पोलियो की दवा नहीं मिल सकेगी क्योंकि उन इलाकों में तालिबान ने प्रतिबंध लगा दिया है.

तालिबान ने हाल ही में उत्तरी और दक्षिणी वजीरिस्तान में पोलियो के टीकाकरण पर रोक लगा दी थी और कहा था कि जब तक अमरीका इन इलाकों में ड्रोन के हमले नहीं रोकता वो टीकाकरण नहीं होने देंगे.

तालिबान की रोक के बाद से पाकिस्तान में यह पहला पोलियो अभियान है.

पाकिस्तान उन तीन देशों में से एक है जहाँ पोलियो का अभी भी व्यापक असर है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रवक्ता ने तालिबान के इस कदम को पोलियो टीकाकरण कार्यक्रम के लिए झटका बताया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के वरिष्ठ कोऑर्डिनेटर इलियास दरी ने बीबीसी से कहा, "यदि ये प्रतिबंध लंबे समय तक लागू रहता है तो कार्यक्रम पर इसका गंभीर असर पड़ेगा. हम उन इलाकों में काफी अभियान चला रहे हैं, प्रतिबंध के बाद ये पहला अभियान है."

अधिकारी गत जून में पोलियो का टीका लगाने के लिए वजीरिस्तान के कबायली इलाकों में पहुँचने में सफल रहे थे लेकिन उनका कहना है कि वे आश्वस्त नहीं हैं कि वे इस बार ऐसा कर सकेंगे.

प्रधानमंत्री सचिवालय के एक अधिकारी मज़हर निसार ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया, "उत्तरी और दक्षिणी वज़ीरिस्तान और ख़ैबर के बारा जिले में अभियान स्थगित कर दिया गया है."

बाधाएँ

सरकार का कहना है कि टीकाकरण कार्यक्रम हाल के वर्षों में कई वजहों से बाधित हुआ है, जिसमें भारी बाढ़ और तालिबान के खिलाफ सैन्य अभियान शामिल है.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption तालिबान की शर्त है कि पहले अमरीका कबायली इलाकों में ड्रोन हमले बंद करे

इससे पहले के वर्षों में स्वात और पाकिस्तान के उत्तर-पश्चिम के दूसरे इलाकों में चरमपंथी नेताओं ने टीकाकरण के खिलाफ बयान जारी किए थे.

कुछ ताक़तवर मौलवियों की ओर से भी इसका विरोध होता रहा है.

कहा जाता है कि टीकाकरण अभियान के बहाने ही सीआईए ने ऐबटाबाद में अल कायदा नेता ओसामा बिन लादेन का पता लगाया था इसका नाकारात्मक असर भी टीकाकरण कार्यक्रम पर पड़ा है.

लैंसेट मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2011 में पाकिस्तान में करीब 200 बच्चे पोलियो का शिकार हुए, जो एक दशक का सबसे खराब आंकड़ा है.

एएफ़पी ने पाकिस्तान के अधिकारियों के हवाले से कहा है कि सोमवार से शुरु हुए पोलिया टीकाकरण अभियान में 3.40 करोड़ बच्चों को दवा पिलाने का लक्ष्य रखा गया है.

संबंधित समाचार