BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
पिता के चुनाव प्रचार में उतरे नौ बेटे
 

 
 
नारायण हिसारिया को जनसंपर्क में नौ बेटों का साथ मिलता है
चुनाव में प्रत्याशी प्रचार के अलग-अलग तरीके अपनाते हैं. बिहार के चुनावी दंगल में उतरे नारायण प्रसाद हिसारिया ने भी प्रचार का एक नायाब तरीका अपनाया है.

बेगूसराय विधानसभा क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार नारायण प्रसाद हिसारिया अपने नौ बेटों के साथ प्रचार में जुट कर इन दिनों चर्चा का विषय बने हुए हैं.

इतना ही नहीं, भले ही इनका चुनाव चिन्ह हाथी छाप है, लेकिन अपनी नुक्कड़ सभाओं में भीड़ जुटाने के लिए ये कई बार बंदरों को भी साथ कर लेते हैं.

 जीतने के बाद उम्मीदवार के घर पर जब जनता काम से जाती है तो नेताजी का दर्शन दुर्लभ हो जाता है. लेकिन हम नौ भाई हैं, जब जनता आएगी तो हमलोग उनके साथ जुड़ कर उनकी समस्यओं के समाधान करने का प्रयास करेंगे.
 
राजेश हिसारिया

हिसारिया ने पिछले चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी के रुप में 2,733 वोट हासिल किए थे और इस तरह उनकी ज़मानत जब्त हो गई थी.

लेकिन इससे हिसारिया का मनोबल नहीं टूटा और इस बार वे बहुजन समाज पाटीँ के उम्मीदवार के रूप में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.

पेशे से गल्ला व्यवसायी नारायण प्रसाद हिसारिया के नौ पुत्र और दो पुत्रियाँ हैं.

इनके चुनाव प्रचार में नौ बेटे हमेशा साथ रहते हैं.

नारायण के प्रचार दल को देखने लोग जुट जाते हैं

नारायण हिसारिया के बेटे राजेश हिसारिया कहते हैं, "जीतने के बाद उम्मीदवार के घर पर जब जनता काम से जाती है तो नेताजी का दर्शन दुर्लभ हो जाता है. लेकिन हम नौ भाई हैं, जब जनता आएगी तो हमलोग उनके साथ जुड़ कर उनकी समस्यओं के समाधान करने का प्रयास करेंगे."

नारायण के एक अन्य बेटे चंद्रप्रकाश न सिर्फ़ अपने पिताजी की जीत सुनिश्चित बताते हैं बल्कि उनकी योजना तो आगामी चुनावों में पिताजी के साथ अपने कुछ भाइयों को भी चुनावी अखाड़े में उतारने की है.

नारायण प्रसाद हिसारिया की नुक्कड़ सभाओं में जुटने वाली भीड़ उन्हें वोट देती है या नहीं, यह तो चुनाव परिणाम आने के बाद ही पता चलेगा, लेकिन इनका कुनबा प्रचार के लिए जहाँ-जहाँ जाता है चर्चा का विषय ज़रूर बन जाता है.

 
 
66त्रिकोणीय मुक़ाबला
क्या है बिहार का राजनीतिक समीकरण? मणिकांत ठाकुर का विश्लेषण-
 
 
66परीक्षा की घड़ी
बिहार चुनाव केंद्र में सत्तारूढ़ गठबंधन यूपीए के लिए एक अहम चुनौती है.
 
 
66आयोग ने किए उपाय
चुनाव आयोग ने बिहार में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव के लिए कई क़दम उठाए हैं.
 
 
इंटरनेट लिंक्स
 
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
 
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>