BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
सोमवार, 31 जुलाई, 2006 को 16:08 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
जेसिका मामले में समयसीमा तय
 
प्रदर्शन
जेसिका लाल हत्याकांड मामले में न्याय की माँग करते हुए आम लोग भी प्रदर्शन करते आए हैं
भारत में दिल्ली हाई कोर्ट ने पुलिस से कहा है कि वो दो महीने के अंदर इस बात की जाँच पूरी करे कि जेसिका लाल हत्याकांड मामले की छानबीन में किसी तरह की चूक हुई थी या नहीं.

इस बारे में जेसिका लाल की बहन सबरिना लाल ने कहा, मैं उम्मीद करती हूँ कि ये मामला लंबा नहीं चलेगा. ये मामला जितना लंबा चलेगा उतना ही ये कमज़ोर पड़ जाएगा.

इस साल फ़रवरी में एक निचली अदालत ने अपर्याप्त सुबूत के अभाव में नौ लोगों को जेसिका लाल हत्याकांड मामले में बरी कर दिया था.

लेकिन दिल्ली पुलिस ने इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ याचिका दायर की थी.

अभियोजन पक्ष का कहना है कि जेसिक लाल की हत्या मनु शर्मा ने वर्ष 1999 में दिल्ली के एक रेस्तरां में की थी जब जेसिका ने मनु को शराब देने से मना कर दिया था.

मुन शर्मा कांग्रेस पार्टी के एक नेता का बेटा है.

लेकिन इस मामले में कई गवाह अपने बयानों से मुकर चुके हैं. इसके बाद एक निचली अदालत ने मनु शर्मा समेत नौ लोगों को इस मामले में बरी कर दिया था.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि इस फ़ैसले के बाद सार्वजनिक स्तर पर लोगों में काफ़ी आक्रोश देखा गया और इस मामले को दोबारा खोला गया.

इसके बाद सभी आरोपियों को फिर गिरफ़्तार किया गया लेकिन इस समय सभी ज़मानत पर जेल से बाहर हैं.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
मनु शर्मा, सात अन्य को ज़मानत मिली
18 अप्रैल, 2006 | भारत और पड़ोस
पीड़ित का परिवार भी अपील कर सके: खरे
09 अप्रैल, 2006 | भारत और पड़ोस
सभी नौ अभियुक्तों के ख़िलाफ़ वारंट
22 मार्च, 2006 | भारत और पड़ोस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>