BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
बुधवार, 20 दिसंबर, 2006 को 09:06 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
प्रधानमंत्री ने प्रस्ताव का स्वागत किया
 

 
 
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह
प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान के नए प्रस्ताव का स्वागत किया
अमृतसर में एक रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पाकिस्तानी राष्ट्रपति के शांति बहाली के नए प्रस्ताव का स्वागत किया है.

हालांकि प्रधानमंत्री ने सीधे तौर पर पाकिस्तानी राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ़ का नाम तो नहीं लिया पर कहा कि दोनों देशों के बीच शांति बहाली की प्रक्रिया में नए सुझावों का वो स्वागत करते हैं.

उन्होंने कहा कि नए प्रस्ताव स्वागत योग्य हैं क्योंकि इनकी मदद से वर्तमान विचार-विमर्श की प्रक्रिया को और प्रभावी बनाया जा सकता है.

पिछले दिनों मुशर्रफ़ ने कश्मीर मसले के हल के लिए जो चार सूत्रीय फ़ॉर्मूला सुझाया था, उसमें पहला था- कश्मीर की सीमा में कोई परिवर्तन नहीं करना.

उनका दूसरा सुझाव था कि पूरे क्षेत्र को स्वायत्तता दी जाए या ‘स्वशासन’ हो लेकिन आजादी नहीं.

तीसरा सुझाव था धीरे-धीरे इस क्षेत्र से सेना हटाने का. मुशर्रफ़ ने चौथे सुझाव के तहत साझा निगरानी प्रणाली बनाने की बात कही थी जिसमें भारत, पाकिस्तान और कश्मीर का प्रतिनिधित्व होता.

चुनावी मौसम

अपने एक दिन के दौरे पर पंजाब पहुँचे प्रधानमंत्री ने अपने दिनभर के कार्यक्रम की शुरुआत अमृतसर में स्थित सिखों के तीर्थ स्थल स्वर्ण मंदिर में मत्था टेककर की.

बाद में उन्होंने अमृतसर में एक जनसभा को संबोधित भी किया और राज्य के विकास के लिए कई योजनाओं की घोषणा भी की.

इन घोषणाओं में राज्य के सीमावर्ती इलाके पठानकोट से नागरिक उड़ानों की शुरुआत, बटाला शहर में एक नए औद्योगिक क्षेत्र का विकास, अमृतसर में 2500 एकड़ के विशेष आर्थिक क्षेत्र और भारत-पाकिस्तान की सीमा पर स्थित वाघा क्षेत्र तक चार लेन की हाईवे के निर्माण की बात भी शामिल है.

ग़ौरतलब है कि राज्य में इस नए वर्ष की शुरुआत में ही आम चुनाव होने हैं और इन घोषणाओं को इससे जोड़कर देखा जा रहा है.

उन्होंने राज्य में किसानों की स्थिति चिंताजनक होने से सहमत होते हुए कहा कि इसके लिए केंद्र सरकार गंभीरता से विचार कर रही है.

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को केंद्र की ओर से मदद दी जा रही है ताकि किसानों को कर्ज़ से राहत दी जा सके.

साथ ही उन्होंने पंजाब कृषि विश्वविद्यालय के लिए 100 करोड़ की राशि उपलब्ध कराने की भी घोषणा की ताकि राज्य में कृषि की स्थिति में सुधार लाया जा सके. इसकी घोषणा करते हुए उन्होंने किसानों का आह्वान किया कि वे दूसरी हरित क्रांति लाएं.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
'कश्मीर पर नए विचारों का स्वागत है'
16 दिसंबर, 2006 | भारत और पड़ोस
मनमोहन सिंह के बयान से उठा विवाद
10 दिसंबर, 2006 | भारत और पड़ोस
पाक कार्रवाई करके दिखाए-मनमोहन
04 अक्तूबर, 2006 | भारत और पड़ोस
'गेंद अब मुशर्रफ़ के पाले में है'
24 सितंबर, 2006 | भारत और पड़ोस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>