BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
शुक्रवार, 10 अगस्त, 2007 को 07:39 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
बँटवारे के साए में भारत-पाक संबंध
 
नेहरू और जिन्ना
कांग्रेस नेता नेहरू और जिन्ना के रिश्ते कभी भी बहुत अच्छे नहीं रहे
भारत के विभाजन के साठ साल पूरे होने पर बीबीसी के एंड्रयू व्हाइटहेड ने जायज़ा लिया कि क्यों ब्रिटेन से मिलने वाली आज़ादी के साथ ही दो अलग देश भारत और पाकिस्तान अस्तित्व में आए और भारत-पाकिस्तान रिश्ते किस-किस दौर से गुज़रे हैं.

''एक बड़े क्षेत्र के बहुसंख्यकों को उनकी इच्छा के विपरीत एक ऐसी सरकार के शासन में रहने के लिए बाध्य नहीं किया सकता जिसमें दूसरे समुदाय के लोगों का बहुमत हो. और इसका एकमात्र विकल्प है विभाजन.''

इन शब्दों के साथ ही भारत में ब्रिटेन के अंतिम वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन ने घोषणा की कि ब्रिटेन एक देश को नहीं बल्कि दो देश को स्वतंत्रता देने जा रहा है. तब भारत की एकता बनाए रखने के साथ ही अल्पसंख्यक मुसलमानों के हितों को सुरक्षित रखने के ब्रिटेन के सभी संवैधानिक फॉर्मूले विफ़ल हो चुके थे.

माउंटबेटन ने अपना यह बयान 3 जून 1947 को दिया था और उसके 10 सप्ताह बाद ही उन्होंने दोनों देशों के स्वतंत्रता दिवस समारोह में भाग भी लिया.

14 अगस्त को कराची में वे स्पष्ट मुस्लिम पहचान के साथ गठित राष्ट्र के गवाह बने और इसके अगले दिन दिल्ली में भारत के पहले स्वतंत्रता दिवस समारोह में हिस्सा ले रहे थे. भारत की आबादी पाकिस्तान की तीन गुनी थी और ज़्यादातर लोग हिंदू थे.

ब्रिटिश जज रैडक्लिफ़ को दोनों देशों के बीच सीमा का निर्धारण करने का दायित्व सौंपा गया था.

रैडक्लिफ़ न तो इससे पहले भारत आए थे और न ही इसके बाद कभी आए. इसके बावजूद उन्होंने दोनों देशों के बीच जो सीमारेखा खींची उससे करोड़ों लोगों अंसतुष्ट हो गए.

जल्दबाज़ी में किए गए इस विभाजन ने 20वीं शताब्दी की सबसे बड़ी त्रासदियों में से एक को जन्म दिया.

करोड़ों मुस्लिम सीमा के एक तरफ़ और हिंदू-सिख दूसरी तरफ पहुँच गए.

 एक बड़े क्षेत्र के बहुसंख्यकों को उनकी इच्छा के विपरीत एक ऐसी सरकार के शासन में रहने के लिए बाध्य नहीं किया सकता जिसमें दूसरे समुदाय के लोगों का बहुमत हो. और इसका एकमात्र विकल्प है विभाजन
 
लॉर्ड माउंटबेटन

भारी संख्या में दोनों तरफ़ के लोगों को सीमा के पार जाना पड़ा. तनाव बढ़ा और सांप्रदायिक संघर्ष शुरू हो गए. इसमे कितने लोग मारे गए इसका सही आँकड़ा कोई नहीं बता सका.

इतिहासकार मानते हैं कि पाँच लाख से अधिक लोग मारे गए, 10 हज़ार महिलाओं के साथ या तो बलात्कार हुआ या फिर उनका अपहरण हो गया.

एक करोड़ से भी अधिक लोग शरणार्थी हो गए जिसका असर आज भी दक्षिण एशिया की राजनीति और कूटनीति पर दिखता है.

धार्मिक विभाजन

भारत पिछली शताब्दी से ही स्वशासन की माँग कर रहा था और वर्ष 1920 से लेकर 1930 के बीच में महात्मा गाँधी के नेतृत्व में इसने ज़ोर पकड़ा.

भारत में अल्पसंख्यक मुस्लिम सुमदाय में से अनेक लोगों को ऐसा प्रतीत होने लगा था कि हिंदू बहुल देश में रहना फ़ायदेमंद नहीं होगा.

मुस्लिम लीग के नेता मोहम्मद अली जिन्ना ने इस माँग को काफ़ी मज़बूती से उठाया.

मुस्लिम लीग मुसलमानों के लिए अलग देश की माँग करने लगी थी. विश्व युद्ध के बाद राज्यों में हुए चुनावों में मुस्लिम लीग के मज़बूत प्रदर्शन के बाद यह स्पष्ट हो गया था कि अलग पाकिस्तान की उनकी माँग की अधिक दिनों तक अब अनदेखी नहीं की जा सकती है.

विभाजन और हिंसा
अनुमान है कि विभाजन के दौरान हिंसा में पाँच लाख लोग मारे गए

सत्ता हस्तांतरण से साल भर पहले कलकत्ता (अब कोलकाता) में दोनों समुदायों में हिंसा शुरू हो गई जो धीरे-धीरे फैलने लगी थी.

आज़ादी के दो दिन बाद ही जब यह घोषणा हो गई कि सीमाएं कहाँ होंगी तो पंजाब हिंसा की आग में जल उठा.

ट्रेनों में सीमा पार कर रहे लोगों की लाशें भेजी जाने लगीं और कई बार तो उनके अंग भी क्षत-विक्षत होते थे. दोनो तरफ ही महिलाएं हिंसा और बलात्कार की शिकार हुईं.

कश्मीर और पूर्वी पाकिस्तान के मुद्दे

इसके बाद से वर्षों से यह बहस का विषय बना हुआ है कि विभाजन सही था या ग़लत, इससे बचा जा सकता था या नहीं.

लेकिन दक्षिण एशिया के इतिहासकार मानते हैं कि अगर ब्रिटेन ने विभाजन के लिए इतनी जल्दबाज़ी नहीं दिखाई होती और इसे थोड़ी तैयारी के साथ अंजाम दिया जाता तो काफ़ी हद तक कत्लेआम को टाला जा सकता था.

जम्मू-कश्मीर मसले की वजह से दोनों देशों के बीच संघर्ष बढ़ा. यह राज्य भारत और पाकिस्तान की सीमा पर मुस्लिम बहुल राज्य था लेकिन यह किस देश के साथ जुड़े ये फ़ैसला जम्मू-कश्मीर के हिंदू शासक को करना था.

आज़ादी के कुछ ही महीनों बाद कश्मीर को लेकर भारत-पाकिस्तान में युद्ध शुरू हो गया लेकिन इस विवाद का अब तक कोई हल नहीं निकल पाया.

पाकिस्तान के भूगोल को लेकर भी गंभीर समस्या थी. इसके पूर्वी हिस्से में बंगाली बोलने वाले लोगों का बहुमत था और पश्चिमी हिस्से में पंजाबी बहुल लोग थे.

पूर्वी हिस्से की जनसंख्या अधिक थी लेकिन सत्ता और प्रभाव पश्चिमी पाकिस्तान का अधिक था. वर्ष 1971 में भारतीय सेना ने पश्चिमी पाकिस्तान से आज़ादी के संघर्ष में पूर्वी पाकिस्तान के लोगों का साथ दिया और एक नए देश बांग्लादेश का जन्म हुआ.

बढ़ते मतभेद

भारत और पाकिस्तान में लगातार प्रतिद्वंद्विता बनी रही और इसकी वजह से दक्षिण एशिया में क्षेत्रीय सहयोग कभी पनप नहीं पाया.

भारत में आज भी बड़ी संख्या में मुस्लिम अल्पसंख्यक हैं, कुल आबादी का लगभग सातवां हिस्सा. इस वजह से पाकिस्तान से तनाव के कारण भारत की धर्मनिरपेक्ष जीवन पद्धति और धार्मिक सहिष्णुता झुलस चुकी है.

नियाज़ी और अरोड़ा
वर्ष 1971 के युद्ध के बाद पाकिस्तान से अलग होकर बांग्लादेश अस्तित्व में आया

1980 के दशक के अंत में कश्मीर में अलगाववादी गतिविधि शुरू होने के बाद से दोनों देशों के बीच रिश्ते और भी ख़राब हुए हैं.

पाकिस्तान लगातार कहता रहा है कि वह कश्मीर के अलगाववादियों को सिर्फ़ नैतिक समर्थन दे रहा है जबकि भारत मानता है कि पड़ोसी देश मुस्लिम चरमपंथियों को संगठित करने के साथ ही हथियार मुहैया करा रहा और प्रशिक्षण भी दे रहा है.

भारत और पाकिस्तान, उस हिंसा के साए से निकलने के लिए कोशिश करते रहे हैं जिसके बीच दोनों देशों का जन्म हुआ था. कश्मीर अधूरे विभाजन का एक पहलू भर है. दोनों देशों के बीच राष्ट्रीय पहचान बिल्कुल अलग हैं.

इन सबके बावजूद भारत और पाकिस्तान थोड़ी झिझक और कभी-कभी दर्द के साथ ही रिश्तों में मिठास घोलने की कोशिश करते हैं. अगर यह सफल हो गया तो दक्षिण एशिया में 1947 के विभाजन की कड़वी यादें हमेशा के लिए ख़त्म हो जाएगी.

 
 
महिलाबीबीसी ब्लॉग
पिछले 60 बरसों में भारतीय महिलाओं की स्थिति पर क्या है आपकी राय...
 
 
भारतीय संसदबीबीसी ब्लॉग
भारतीय राजनीति के 60 बरस पर उपराष्ट्रपति पद के दावेदार रशीद मसूद...
 
 
फाइल फ़ोटोबीबीसी ब्लॉग
भारत में नौकरशाही के 60 वर्षों पर पढ़िए, चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी की राय...
 
 
रणधीर कपूर बीबीसी ब्लॉग
भारत की आज़ादी के बाद के हिंदी फ़िल्म उद्योग पर रणधीर कपूर की राय.
 
 
खेलबीबीसी ब्लॉग
पिछले 60 बरसों के दौरान भारत में खेल की स्थिति पर अजीतपाल सिंह की राय.
 
 
किताबबीबीसी ब्लॉग
पिछले 60 बरसों के दौरान भारत में शिक्षा के क्षेत्र में हुए बदलावों पर टिप्पणी...
 
 
दलितबीबीसी ब्लॉग
आज़ादी के 60 बरस बाद क्या भारत में दलितों की स्थिति कुछ बदली है या...
 
 
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>