BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
मंगलवार, 08 जनवरी, 2008 को 13:59 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
अल्पसंख्यक आयोग की टीम उड़ीसा पहुँची
 

 
 
हिंसा ग्रस्त इलाके
फुलबनी से लौटते वक्त दल ने कंधामल के अनेक हिंसाग्रस्त स्थानों का नज़ारा लिया
उड़ीसा के कंधामल में पिछले दिनों हुई हिंसा के सिलसिले में राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग की दो सदस्यीय टीम मंगलवार को मुख्यमंत्री और वरिष्ठ अधिकारियों से मिली.

टीम के सदस्य दिलीप पड़गाँवकर ने अधिकारियों से मिलने के बाद भुवनेश्वर में पत्रकारों को बताया कि वे अपनी रिपोर्ट अगले तीन-चार दिनों में आयोग को सौंप देंगे.

उन्होंने कहा कि वे वापस लौटने से पहले कुछ ग़ैर-सरकारी संस्थाओं के अधिकारियों से भी मिलेंगे.

उल्लेखनीय है कि गत 25 दिसंबर को क्रिसमस के मौक़े पर कई चर्चों पर हमले किए गए थे. कंधमाल ज़िले में ब्राह्मणी गाँव सहित कई गाँवों में लोगों पर भी हमले किए गए थे और ईसाई समुदाय के लोगों के घर जला दिए थे.

बाद में यह सांप्रदायिक दंगों में बदल गया था और वहाँ कई दिनों तक कर्फ़्यू लगाना पड़ा था.

यह पूछने पर कि आयोग की टीम ने कंधामल के प्रभावित इलाक़ों का दौरा क्यों नहीं किया, पड़गाँवकर ने कहा, "बड़ा क्षेत्र होने और समय की कमी होने के चलते दल का वहाँ के सभी इलाकों में जाना मुश्किल था लेकिन ज़िला मुख्यालय फुलबनी से वापस लौटते वक्त दल ने अनेक हिंसाग्रस्त स्थानों का दौरा किया."

पड़गाँवकर ने बताया कि उन्होंने हिंसाग्रस्त इलाकों बरखामा और ब्राह्मनीगाँव का पूर्वनियोजित दौरा करने के बजाए हिंसा के शिकार लोगों, सामुदायिक और धार्मिक नेताओं को फुलबनी सर्किट हाउस में बुलाकर बातचीत करना ज़्यादा मुनासिब समझा.

पड़गाँवकर ने कहा कि हालांकि वे हिंसाग्रस्त इलाके में ज़्यादा नहीं गए लेकिन दल जिन लोगों से बात करना चाहता था, उनसे बात करने में सफ़ल हो गया.

उन्होंने कहा, "दल ने मुख्यमंत्री और राज्य के सरकारी अधिकारियों से भी ज़रूरी बात कर ली है जिन्होंने उन्हें सरकार के राहत और पुनर्वास के बारे में किए गए उपायों के बारे में बताया है".

कंधामल मुद्दे पर किए गए निष्कर्षों के बारे में पूछने पर पड़गाँवकर ने कहा, "सबसे पहले यह ज़रूरी है कि हम अपना दृष्टिकोण आयोग के सामने रखें".

इससे पहले उन्होंने फुलबनी में सोमवार को पत्रकारों को बताया कि कंधामल की स्थिति बेहद नाज़ुक है और राज्य में अल्पसंख्यक काफ़ी डरे हुए हैं.

इस बीच, मुकेश सिंह की अध्यक्षता वाला राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का दो सदस्यीय दल भी कंधामल में हुए मानवाधिकारों के कथित हनन की मौका मुआयना करने के लिए मंगलवार को भुवनेश्वर पहुँचा. बुधवार को यह दल कंधामल जाएगा.

'माओवादियों की मदद'

 सरकार पहले ही कह चुकी है कि कंधामल में हुई हिंसा में माओवादियों का हाथ होने का शक करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं
 
गृह सचिव तरुण कांति मिश्रा

इसी संबंध में उड़ीसा सरकार ने उन आरोपों की जाँच कराने का निर्णय लिया है जिनमें कहा गया है कि कंधामल ज़िले में काम कर रही ग़ैर-सरकारी संस्थाओं ने मिल रहे विदेशी फ़ंड को माओवादियों में वितरित किया.

गृह सचिव तरुण कांति मिश्रा ने कहा है कि सरकारी जाँच के अलावा, जाँच आयोग ने पहले ही कंधामल में लगाए गए आरोपों की तहकीकात के लिए एक जाँच बैठा दी है जो संज्ञान में आने पर इन आरोपों के बारे में पता ज़रूर लगाएगी.

उन्होंने कहा कि सरकार पहले ही कह चुकी है कि कंधामल में हुई हिंसा में माओवादियों का हाथ होने का संदेह करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं.

इस घोषणा ने कट्टरपंथी हिंदुओं के दलों को और परेशान कर दिया है जो काफ़ी समय से यह आरोप लगाते रहे हैं कि विदेशी फंड का इस्तेमाल कंधामल में दलितों के धर्मपरिवर्तन के लिए किया जा रहा है.

राज्य विहिप के मुख्य सचिव गौरी प्रसाद राठ ने बीबीसी से कहा, “ब्राह्मनीगाँव में हिंदुओं पर हुए हमले ने हमारे शक को पक्का कर दिया है कि विदेशी मिशनरियों की ओर से आया फ़ंड माओवादियों के पास पहुँच रहा है."

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
'हिंसा में ईसाई भी शामिल थे'
06 जनवरी, 2008 | भारत और पड़ोस
अल्पसंख्यक आयोग उड़ीसा के दौरे पर
05 जनवरी, 2008 | भारत और पड़ोस
उड़ीसा में अब भी हिंसा और आगजनी
02 जनवरी, 2008 | भारत और पड़ोस
उड़ीसा में हिंसा जारी, तीन और मरे
28 दिसंबर, 2007 | भारत और पड़ोस
उड़ीसा में कुछ और गिरिजाघरों पर हमले
27 दिसंबर, 2007 | भारत और पड़ोस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>