BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
रविवार, 31 अगस्त, 2008 को 17:58 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
तटबंध टूटने का मतलब धारा बदलना नहीं
 

 
 
सुनसारी कोसी बांध

ये कहना कि कोसी नदी ने धारा बदल ली इसलिए बिहार में प्रलयंकारी बाढ़ कि स्थिति पैदा हुई है, बिल्कुल बेबुनियाद है.

हमे याद रखना चाहिए कि नदी ने ख़ुद धारा नहीं बदली बल्कि प्राकृतिक धारा को रोक कर बनाए गए बराज या तटबंध के टूटने के कारण ये स्थिति पैदा हुई है.

ब्रिटिश हुकूमत सौ वर्षों तक इस बात पर विचार करती रही कि बिहार का शोक कही जाने वाली इस नदी की धारा को नियंत्रित करने के लिए बराज बनाया जाए या नहीं.

ब्रितानी सरकार ने तटबंध नहीं बनाने का फ़ैसला इस बिना पर किया कि तटबंध टूटने से जो क्षति होगी उसकी भरपाई करना ज़्यादा मुश्किल साबित होगा.

लेकिन आज़ादी के बाद भारत सरकार ने नेपाल के साथ समझौता कर 1954 में बराज बनाने का फ़ैसला कर लिया.

उस समय पचास के दशक के शुरुआती वर्षों में इस तटबंध के ख़िलाफ़ स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन तक किए थे. आज भी विशेषज्ञों का एक तबका ये मानता है कि कोसी की धारा के साथ कृत्रिम छेड़छाड़ इस तरह की भयानक स्थिति के लिए ज़िम्मेदार है.

तटबंध बनाकर नदी की धारा को नियंत्रित दिशा दी गई. अब जब अतिरिक्त पानी के दबाव में तटबंध का जो हिस्सा टूटेगा उसी से होकर नदी बहेगी जो बिल्कुल स्वाभाविक है. इसलिए ये कहना बिल्कुल ग़लत है कि नदी ने ख़ुद धारा बदली.

बांध की क्षमता

जब बांध बनाया गया तो पिछले सौ वर्षों के इतिहास को ध्यान में रखा गया और पानी का औसत बहाव मापने की कोशिश की गई.

पहले भी टूटा है तटबंध
1963 - डलबा (नेपाल)
1991- जोगनिया (नेपाल)
2008- कुशहा (नेपाल)
1968- जमालपुर (भारत)

इस हिसाब से ये कहा गया कि तटबंध साढ़े नौ लाख घन फुट प्रति सेकेंड (क्यूसेक) पानी के बहाव को बर्दाश्त कर सकता है.

ये भी बताया गया कि बांध की आयु 25 वर्ष है जो बिल्कुल अवैज्ञानिक तथ्यों पर आधारित है. हम पिछले इतिहास के आधार पर भविष्य की गणना नहीं कर सकते. कौन जानता है कि बांध बनने के अगले ही साल सबसे ज़्यादा पानी का दबाव उसे झेलना पड़े.

ख़ैर इस वर्ष तो हद हो गई क्योंकि जब 18 अगस्त को बांध टूटा तो पानी का बहाव महज एक लाख 44 हज़ार क्यूसेक था.

पहले भी टूटा है तटबंध

कोसी पर बना तटबंध सात बार टूट चुका है और बाढ़ से तबाही पहले भी हुई है.

वर्ष 1968 में तटबंध पाँच जगहों से टूटा था और उस समय पानी का बहाव नौ लाख 13 हज़ार क्यूसेक मापा गया था.

हालाँकि पहली बार 1963 में ही तटबंध टूट गया था. वर्ष 1968 में कोसी तटबंध बिहार के जमालपुर में टूटा था और सहरसा, खगड़िया और समस्तीपुर में भारी नुकसान हुआ था.

नेपाल में यह तटबंध 1963 में डलबा, 1991 में जोगनिया और इस वर्ष कुसहा में टूट चुका है.

बांध टूटने का एक बड़ा कारण कोसी नदी की तलहटी में तेज़ी से गाद जमना है. इसके कारण जलस्तर बढ़ता है और तटबंध पर दबाव पड़ता है.

(बीबीसी संवाददाता आलोक कुमार से बातचीत पर आधारित)

 
 
कोसी का रुख़ बदला
बिहार में बाढ़ की वजह है कोसी का रास्ता बदलना. आइए नक्शे में देखते हैं.
 
 
लालू प्रसाद यादव बाढ़ में रेलवे की मदद
रेलमंत्री ने अपने गृहप्रदेश के बाढ़ पीड़ितों के लिए 70 करोड़ देने की घोषणा की.
 
 
प्रलय में बदलती बाढ़ प्रलय में बदलती बाढ़
बिहार में बाढ़ ने जलप्रलय का रूप ले लिया है.
 
 
समुद्री तूफ़ान तूफ़ान से तबाही
समुद्री तूफ़ान गुस्ताव ने कैरिबियाई क्षेत्र में जमकर तबाही मचाई है.
 
 
बिहार में जलप्रलय बिहार में जलप्रलय
बाढ़ से बुरी तरह बदहाल हो चले बिहार पर बीबीसी की विशेष सामग्री यहाँ पढ़ें.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
भारी बारिश से राहत कार्य बाधित
31 अगस्त, 2008 | भारत और पड़ोस
'अब भगवान भरोसे हैं, जिएं या मरें...'
30 अगस्त, 2008 | भारत और पड़ोस
'इंतज़ार में..., कि वापस कब आओगे'
29 अगस्त, 2008 | भारत और पड़ोस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>