BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
शनिवार, 13 सितंबर, 2008 को 13:55 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
दिल्ली में पाँच धमाके, 20 की मौत
 

 
 

भारत की राजधानी दिल्ली में एक के बाद एक पाँच सिलसिलेवार बम धमाकों में कम से कम बीस लोग मारे गए हैं और 90 से ज़्यादा घायल हुए हैं. केंद्र सरकार ने मृतकों के परिजनों को तीन लाख और घायलों को 50 हज़ार रूपए देने की घोषणा की है.

ये धमाके कनॉट प्लेस के सेंट्रल पार्क और बाराखंभा रोड, गफ़्फ़ार मार्केट और ग्रेटर कैलाश-1 में हुए.

शनिवार रात केंद्रीय गृह मंत्री शिवराज पाटिल ने पत्रकारों से बातचीत में 18 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की थी लेकिन समाचार एजेंसियों के मुताबिक उसके बाद अस्पताल में कुछ घायलों ने दम तोड़ दिया.

गृह मंत्री ने कहा कि सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेश हाई एलर्ट पर हैं. महत्वपूर्ण है कि तीन जगहों - सेंट्रल पार्क, रीगल सिनेमा और इंडिया गेट पर बम निष्क्रिय किए गए हैं.

 ग़फ़्फ़ार मार्केट ग्रेटर कैलाश-1, कनॉट प्लेस के बाराखंभा रोड और सेंट्रल पार्क इलाक़ों में धमाके हुए हैं. इनमें से दो जगह पर सीएनजी गैस सिलिंडर के धमाके हुए हैं. घायलों को राम मनोहर लोहिया और लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पतालों में ले जाया जा रहा है
 
दिल्ली पुलिस

दिल्ली में भारतीय समयानुसार लगभग साढ़े छह बजे सबसे पहले करोल बाग- ग़फ़्फ़ार मार्केट इलाक़े में धमाके की ख़बर आई. इसके बाद ग्रेटर कैलाश-1, कनॉट प्लेस के बाराखंभा रोड और सेंट्रल पार्क इलाक़ों में धमाके हुए.

दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता राजन भगत ने बीबीसी को बताया, "ग़फ़्फ़ार मार्केट ग्रेटर कैलाश, कनॉट प्लेस की बाराखंभा रोड और सेंट्रल पार्क इलाक़ों में धमाके हुए हैं. इनमें से दो जगह पर सीएनजी गैस सिलिंडर के धमाके हुए हैं. घायलों को राम मनोहर लोहिया और लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पतालों में ले जाया जा रहा है."

दिल्ली राममनोहर लोहिया अस्पताल के आपात विभाग के प्रमुख डॉक्टर एसके शर्मा ने बीबीसी संवाददाता श्याम सुंदर को बताया, "अस्पताल में 85 घायल लोगों को लाया गया जिनमें से नौ की मौत हो गई. अब भी 35 लोगो गंभीर रूप से घायल हैं और पाँच का ऑपरेशन हो गया है. लेकिन घायल अब भी अस्पताल पहुँच रहे हैं."

 अस्पताल में 85 घायल लोगों को लाया गया जिनमें से नौ की मौत हो गई. अब भी 35 लोगो गंभीर रूप से घायल हैं और पाँच का ऑपरेशन हो गया है. लेकिन घायल अब भी अस्पताल पहुँच रहे हैं
 
आरएमएल अस्पताल के डॉक्टर

बीबीसी संवाददाता आलोक कुमार के अनुसार लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल में आठ घायल लोगों को ले जाया गया जिनमें से से दो हालत गंभीर है.

इन धमाकों के ठीक पहले कुछ समाचार चैनलों को एक ईमेल मिला. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कर्नैल सिंह ने बीबीसी संवाददाता सुशीला सिंह को बताया, "इंडियन मुजाहिदीन नाम के एक संगठन ने ईमेल के ज़रिए इन हमलों की ज़िम्मेदार ली है लेकिन इसकी जाँच और पुष्टि होनी बाक़ी है."

उधर गृह मंत्री शिवराज पाटिल ने कहा कि इस समय किसी भी संगठन का नाम लेना बहुत मुश्किल है लेकिन हम इन कारनामों को अंजाम देने वाले लोगों को ख़ोज निकालेंगे.

 मैंने एक कूड़ेदान के पास से धुँआ उठता देखा और एक महिला को गिरते हुए भी देखा. एक ऑटो में कुछ घायलों को अस्पताल ले जाया गया लेकिन देखते ही देखते ऑटो का फ़र्श ख़ून से भर गया.
 
कनॉट प्लेस में एक प्रत्यक्षदर्शी

अहमदाबाद धमाकों के ठीक पहले भी इसी तरह के ईमेल में इस संगठन ने धमाकों की ज़िम्मेदारी ली थी.

अफ़रा-तफ़री का माहौल

करोल बाग- ग़फ़्फ़ार मार्केट के भीड़-भाड़ वाले इलाक़े में जब विस्फोट हुआ तो वहाँ अफ़रा-तफ़री फैल गई. कई दमकल वाहन उस इलाक़े में पहुँचे लेकिन संकरी गलियों से इन वाहनों और एंबुलेंस का उस क्षेत्र में दाख़िल होने में काफ़ी दिक्कत पेश आई.

उस धमाके में कई लोग हताहत हुए क्योंकि शनिवार की शाम वहाँ काफ़ी गहमागहमी थी. इसके बाद ग्रेटर कैलाश के पॉश इलाक़े की एम-ब्लाक मार्किट और कनॉट प्लेस की बाराखंभा रोड पर धमाकों की ख़बर आई.

 हमें लगा कि किसी गाड़ी में या सिलेंडर में धमाका हुआ है. इसके बाद कुछ अफ़रा-तफ़री सी मच गई. कुछ लोग यह देखने के लिए लपके कि किस वजह से धमाका हुआ है. धमाका होने के कुछ ही देर बल्कि 10-15 मिनट के अंतराल पर ही एक और धमाका हुआ.
 
जय कुमार, प्रत्यक्षदर्शी

कनॉट प्लेस में एक प्रत्यक्षदर्शी ने बीबीसी संवाददाता नादिया परवेज़ को बताया, "बाराखंभा रोड पर गोपालदास इमारत के पास धमाके की आवाज़ सुनाई दी और फिर मैने एक कूड़ेदान के पास से धुँआ उठता देखा. मैंने एक महिला को गिरते हुए भी देखा. एक ऑटो में कुछ घायलों को अस्पताल ले जाया गया लेकिन देखते ही देखते ऑटो का फ़र्श ख़ून से भर गया. कई लोगों को पुलिस वाहनों ने अस्पताल पहुँचाया."

बीबीसी संवाददाता पाणिनी आनंद के अनुसार ग्रेटर कैलाश-1 में प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि उन्हें दो धमाके सुने. पहले धमाके के बाद ही लोगों में अफ़रा-तफ़री फैल गई और मार्किट में भगदड़ मच गई. कई लोगों के शरीर में वाहनों और दुकानों के टूटे हुए शीशे लगे लेकिन किसी को गंभीर चोट नहीं आई.

लेकिन दूसरी ओर लोगों में तनाव इतना बढ़ गया कि इन इलाक़ों के आसपास की सड़कें जाम हो गईं और सभी लोग घटनास्थल से दूर भागने लगे. शहर में तनाव व्याप्त है और अनेक बाज़ार खाली हो गए हैं.

हाल में हुए प्रमुख चरमपंथी हमले इस प्रकार हैं:

  • 29 अक्तूबर 2005 - दिल्ली में तीन जग़हों पर हुए बम धमाकों में 62 लोग मारे गए और अनेक लोग घायल हुए.
  • 7 मार्च 2006 - उत्तर प्रदेश के वाराणसी में रेलवे स्टेशन और संकटमोचन मंदिर में हुए बम धमाकों में 20 लोग मारे गए और दर्जनों लोग घायल हुए.
  • 11 जुलाई 2006 - मुंबई की लोकल ट्रेनों में हुए बम धमाकों में 170 लोग मारे गए और सैकड़ों लोग घायल हुए.
  • 8 सितंबर 2006 - महाराष्ट्र के नासिक ज़िले के मालेगाँव शहर में एक मस्जिद के पास हुए तीन बम धमाकों में 37 लोग मारे गए और 100 से अधिक घायल हुए.
  • 18 फ़रवरी 2007 - दिल्ली से अटारी जा रही समझौता एक्सप्रेस में हुए दो धमाकों में 66 लोग जलकर मारे गए जिसमें से अधिकतर पाकिस्तानी थे.
  • 18 मई 2007 - हैदराबाद की मक्का मस्जिद में नमाज़ के दौरान हुए धमाके में 11 लोग मारे गए और दर्जनों लोग घायल हुए.
  • 25 अगस्त 2007 - हैदराबाद में हुए बम विस्फोट में 42 लोग मारे गए और लगभग सौ लोग घायल हुए.
  • 11 अक्तूबर 2007 - राजस्थान में अजमेर स्थित ख़्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में हुए धमाके में दो लोग मारे गए और 14 लोग घायल हुए.
  • 23 नवंबर 2007 - उत्तर प्रदेश में लखनऊ, फ़ैज़ाबाद और वाराणसी की कचहरियों में हुए बम धमाकों में 13 लोग मारे गए और 75 घायल हुए.
  • 1 जनवरी 2008 - उत्तर प्रदेश के रामपुर में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के शिविर पर हुए चरमपंथी हमले में सात सुरक्षाकर्मियों समेत आठ लोग मारे गए और छह लोग घायल हुए.
 
 
ग्रेटर कैलाश में धमाके ग्रेटर कैलाश में धमाके
ग्रेटर कैलाश पार्ट-1 के एम ब्लॉक का मंज़र बता रहे हैं चश्मदीद जय कुमार...
 
 
विस्फोट के बाद का एक दृश्य 'कई लोग नीचे पड़े थे'
बीबीसी संवाददाताओं ने घटनास्थल पर जाकर कुछ प्रत्यक्षदर्शियों से बात की.
 
 
बड़े सिलसिलेवार धमाके
पिछले कुछ समय में भारत में हुए अनेक सिलसिलेवार धमाके.
 
 
धमाके धमाकों की तस्वीरें
दिल्ली में हुए धमाकों की तस्वीरें.
 
 
विस्फोट जयपुर में विस्फोट
जयपुर में हुए धमाकों के बाद का मंज़र तस्वीरों में..
 
 
घटनास्थल जयपुर में धमाके...
जयपुर में हुए सात धमाकों में 60 लोग मारे गए और सौ से ज़्यादा घायल हुए.
 
 
घायल व्यक्ति एक भयावह मंज़र
धमाकों के बाद का मंज़र बयान कर रहे हैं प्रत्यक्षदर्शी डॉक्टर आलोक मेहरा...
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
'धुँए के बीच लोगों को नीचे पड़े देखा'
13 सितंबर, 2008 | भारत और पड़ोस
पिछले सिलसिलेवार धमाके
13 सितंबर, 2008 | भारत और पड़ोस
हमले अमानवीय कृत्य हैं: पाकिस्तान
13 सितंबर, 2008 | भारत और पड़ोस
भाजपा ने केंद्र पर निशाना साधा
13 मई, 2008 | भारत और पड़ोस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>