BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
गुरुवार, 27 नवंबर, 2008 को 10:36 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
'इराक़ में भी इतना डर नहीं लगा था'
 

 
 
जमाल अलबक्श
हमले अब तक 101 लोगों की मौत हो चुकी है
मुंबई के कोलाबा में हुए हमलों के समय इलाक़े में मौजूद इराक़ी नागरिक जमाल अलबक्श कहते हैं कि उन्हें इतना डर कभी इराक में भी नहीं लगा था जितना मुंबई में लग रहा है क्योंकि यह बिल्कुल अप्रत्याशित था.

वो कहते हैं, "यह असली आतंकवाद है. बिल्कुल अप्रत्याशित था. मैंने कभी सोचा नहीं था कि कोलाबा जैसे इलाक़े में कभी लोग गोलियां चलाएंगे और बम फटेंगे. यहां तो बस पर्यटक रहते हैं."

पूरी घटना को याद करते हुए जमाल कांप जाते हैं. वो कहते हैं, "मैं इराक़ में रहा हूं लेकिन वहां पता होता है कि किस इलाके़ में दिक्कत होगी वहां लोग नहीं जाते हैं. घर में रहते हैं लेकिन यहां तो कॉफी शॉप में गोलियां चल रही हैं. आप कहां सुरक्षित हैं. मुझे इतना डर तो कभी इराक़ में भी नहीं लगा जितना यहां लग रहा है.’"

जमाल कहते हैं, "समझ में नहीं आता कि वो किसको निशाना बनाना चाहते थे. पर्यटकों को या फिर आम लोगों को. ऐसे में तो किसी को भी डर लगेगा अगर कोई सड़क पर आकर अंधाधुंध आप पर गोलियां चलाने लगे तो."

जब लियोपोल्ड कैफ़े में गोलियां चल रही थीं तो जमाल के मित्र गफूर आसपास ही थे. गफूर तस्वीर नहीं खिंचवाना चाहते लेकिन पूरी बात बताते हैं.

अप्रत्याशित

वो कहते हैं, "वो दो लोग थे और उनके पास बड़े हथियार थे. रुसी थे शायद और वो ताबड़तोड़ गोलियां चला रहे थे और ऐसा नहीं था कि किसी को चुनकर मार रहे हो. वो सब पर गोलियां चला रहे थे.मेरे सामने उन्होंने दो लड़कियों पर गोलियां चलाईं."

 यह असली आतंकवाद है. बिलकुल अप्रत्याशित था. मैंने कभी सोचा नहीं था कि कोलाबा जैसे इलाक़े में कभी लोग गोलियां चलाएंगे और बम फटेंगे. यहां तो बस पर्यटक रहते हैं
 
जमाल अलबक्श, इराक़ी नागरिक

बगदाद के रहने वाले गफ़ूर कहते हैं कि दोनों हमलावर देखने में विदेशी थे और एक के बाल तो सुनहरे थे. वो कहते हैं, "एक के तो लंबे बाल थे और सुनहले थे. ये नहीं बता सकता कि किस देश के होंगे लेकिन उनकी त्वचा भारतीयों जैसी नहीं थी. वो बड़े आत्मविश्वास से चल रहे थे और आराम से गोलियां चला रहे थे."

वो कहते हैं कि लियोपोल्ड की एक गली के पास गोली चलाने के बाद ये दोनों हमलावर ताज होटल की तरफ चले गए और फिर वहां से उन्होंने फायरिंग की आवाजें सुनीं.

उल्लेखनीय है कि कुछ हमलावरों ने ताज होटल में धमाके किए और लोगों को बंधक बनाकर भी रखा है.

जमाल की आवाज़ पूरी घटना बताते बताते कांपने लगती है. वो कहते हैं कि वो घटनास्थल पर मौजूद नहीं थे लेकिन फिर भी उन्हें डर लग रहा है

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
हमले देश के लिए चुनौती हैं: आडवाणी
27 नवंबर, 2008 | भारत और पड़ोस
मुंबई: कई इलाकों में अचानक हुआ हमला
27 नवंबर, 2008 | भारत और पड़ोस
भारत में हमलों की व्यापक निंदा
27 नवंबर, 2008 | भारत और पड़ोस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>