BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
सोमवार, 16 मार्च, 2009 को 01:39 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
'बर्ख़ास्त मुख्य न्यायाधीश बहाल होंगे'
 
प्रधानमंत्री गीलानी
प्रधानमंत्री ने मुख्य न्यायाधीश इफ़्तिख़ार चौधरी को बहाल करने की घोषणा की है
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गीलानी ने सोमवार तड़के सुबह देश को संबोधन में बर्ख़ास्त मुख्य न्यायाधीश इफ़्तिख़ार चौधरी को बहाल करने की घोषणा की.

साथ ही उन्होंने बर्ख़ास्त सभी जजों को भी बहाल करने का ऐलान किया.

इसके बाद पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने सोमवार को इस्लामाबाद में प्रस्तावित लॉंग मार्च समाप्त करने की घोषणा कर दी.

प्रधानमंत्री गीलानी ने कहा कि मौजूदा मुख्य न्यायाधीश अब्दुल हमीद डोंगर 21 मार्च को रिटायर हो रहे हैं और उनका स्थान बर्ख़ास्त मुख्य न्यायाधीश इफ़्तिख़ार चौधरी संभालेंगे.

 मौजूदा मुख्य न्यायाधीश अब्दुल हमीद डोंगर 21 मार्च को रिटायर हो रहे हैं और उनका स्थान बर्ख़ास्त मुख्य न्यायाधीश इफ़्तिख़ार चौधरी संभालेंगे
 
प्रधानमंत्री गीलानी

उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी ने वादा किया था कि किसी भी जज को उसके पद से नहीं हटाया जाएगा, इस कारण इफ़्तिख़ार चौधरी को अब्दुल हमीद डोंगर के रहते बहाल करने में मुश्किल आ रही थी.

गीलानी का कहना था कि अब जबकि मुख्य न्यायाधीश अब्दुल हमीद डोंगर अवकाश ग्रहण कर रहे हैं तो अब वादा पूरा करने का समय आ गया है.

उनका कहना था कि इस संबंध में अधिसूचना जारी की जा रही है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के टीवी पर अपने संबोधन के बाद इस्लामाबाद स्थित इफ़्तिख़ार चौधरी के घर पर उनके समर्थकों में खुशी की लहर दौड़ गई.

उल्लेखनीय है कि परवेज़ मुशर्रफ़ ने अपने शासनकाल के दौरान मुख्य न्यायाधीश इफ़्तिख़ार चौघरी समेत 60 अन्य जजों को बर्ख़ास्त कर दिया था जिसमें से कुछ ही जजों को बहाल किया गया था.

उन्होंने लॉंग मार्च के दौरान गिरफ़्तार लोगों को रिहा करने की भी घोषणा की.

नवाज़ का मार्च

पूर्व प्रधानमंत्री और मुस्लिम लीग (नवाज़) के प्रमुख नवाज़ शरीफ़ की ये मुख्य माँग रही है.

नवाज़ शरीफ़
पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ जजों की बहाली के लिए आंदोलन चला रहे थे

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि घोषणा की कि पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ और उनके भाई शहबाज़ शरीफ़ के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट के उस फ़ैसले की समीक्षा के लिए अपील करेगी जिसमें उनके किसी भी निर्वाचित पद पर काम करने से रोक लगा दी गई थी.

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान में सुप्रीम कोर्ट ने 25 फरवरी को अपने फ़ैसले में पूर्व प्रधानमंत्री और पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज़) के प्रमुख नवाज़ शरीफ़ और उनके भाई शाहबाज़ शरीफ़ के किसी भी निर्वाचित पद पर काम करने से रोक लगा दी थी.

गीलानी ने नवाज़ शरीफ़ से आंदोलन समाप्त करने और 'चार्टर ऑफ़ डेमोक्रेसी' पर मिलकर काम करने की अपील की थी.

उल्लेखनीय है कि पूर्व प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो और नवाज़ शरीफ़ ने वर्ष 2006 में इस चार्टर पर हस्ताक्षर किए थे.

दोनों नेताओं ने ये वादा किया था कि देश में लोकतंत्र बहाल किया जाएगा, टकराव से बचने की कोशिश होगी और राजनीति में सेना की भूमिका को ख़त्म किया जाएगा.

 
 
हमले में क्षतिग्रस्त वाहन ख़राब होती छवि
श्रीलंकाई क्रिकेट टीम पर हुए हमले से पाकिस्तान की छवि प्रभावित हुई है.
 
 
एक साल पूरा हुआ
पाकिस्तान में लोकतांत्रिक सरकार का पहला वर्ष पूरा हुआ.
 
 
चिदंबरम 'पाक रुख़ से निराशा'
चिदंबरम ने कहा कि पाकिस्तान मुंबई हमलों के संबंध में कार्रवाई करे.
 
 
परवेज़ मुशर्रफ़ "सौतेला व्यवहार"
परवेज़ मुशर्रफ़ ने कहा कि आतंकवाद पर पाकिस्तान से भेदभाव किया जा रहा है.
 
 
मुशर्रफ़ (फ़ाइल फ़ोटो) 'हमला संभव नहीं'
परवेज़ मुशर्रफ़ ने कहा है कि पाकिस्तान पर लक्षित हमले संभव ही नहीं हैं.
 
 
ज़की उर रहमान लखवी 'अमरीकी दबाव नहीं'
पाक के अनुसार उसपर लश्करे के नेताओं को भारत सौंपने का दबाव नहीं है.
 
 
पाकिस्तान सबसे बड़ी चुनौती
9/11 के बाद पाकिस्तान के सामने अंदर और बाहर दोनों मोर्चे पर चुनौतियाँ हैं.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
नवाज़ शरीफ़ को नज़रबंद किया गया
15 मार्च, 2009 | भारत और पड़ोस
नवाज़ ने 'नज़रबंदी' का उल्लंघन किया
15 मार्च, 2009 | भारत और पड़ोस
संकट सुलझाने के लिए ज़रदारी की पहल
14 मार्च, 2009 | भारत और पड़ोस
पाकिस्तान: राजनीतिक संकट जस का तस
14 मार्च, 2009 | भारत और पड़ोस
'लॉन्ग मार्च' के दौरान कई गिरफ़्तार
12 मार्च, 2009 | भारत और पड़ोस
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>