BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
सोमवार, 04 मई, 2009 को 10:08 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
प्रचंड ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफ़ा दिया
 
प्रचंड
प्रचंड राष्ट्रपति के क़दम से नाराज़ थे
नेपाल में सेनाध्यक्ष को हटाए जाने का मामले पर राष्ट्रपति रामबरन यादव से मतभेद के बाद पुष्प कमल दहाल यानी प्रचंड ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया है.

सोमवार को टेलीविज़न पर राष्ट्र के नाम संबोधन में प्रचंड ने अपने त्यागपत्र की घोषणा की. उन्होंने कहा, "मैंने प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफ़ा दे दिया है. राष्ट्रपति का क़दम असंवैधानिक और लोकतंत्र के ख़िलाफ़ है. देश का अंतरिम संविधान राष्ट्रपति को एक समांतर शक्ति के रूप में काम करने की अनुमति नहीं देता."

सेनाध्यक्ष रुकमनगुद कटवाल को हटाए जाने के मामले ने ज़्यादा तूल ले लिया था. लेकिन मामले में उस समय ज़बरदस्त मोड़ आया, जब राष्ट्रपति रामबरन यादव ने इस फ़ैसले को असंवैधानिक बताते हुए सेनाध्यक्ष को अपने पद पर बने रहने को कहा.

रविवार को कैबिनेट की विशेष बैठक में सेनाध्यक्ष रुकमनगुद कटवाल को हटा दिया गया था.

राष्ट्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहाल यानी प्रचंड ने अपने पद से त्यागपत्र देने की घोषणा की और कहा कि राष्ट्रपति ने लोकतंत्र के ख़िलाफ़ काम किया है और एकतरफ़ा क़दम उठाया है.

 मैंने प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफ़ा दे दिया है. राष्ट्रपति का क़दम असंवैधानिक और लोकतंत्र के ख़िलाफ़ है. देश का अंतरिम संविधान राष्ट्रपति को एक समांतर शक्ति के रूप में काम करने की अनुमति नहीं देता
 
प्रचंड

सेना में पूर्व माओवादी विद्रोहियों को शामिल करने के मुद्दे पर सरकार और सेनाध्यक्ष में मतभेद थे. रविवार को कैबिनेट की विशेष बैठक में सेनाध्यक्ष कटवाल को हटाने का फ़ैसला किया गया था.

हालाँकि कैबिनेट की बैठक में भी मतभेद उभरे लेकिन बहुमत से सेनाध्यक्ष को हटाने का फ़ैसला हुआ.

इस फ़ैसले के बाद नेपाल में कई विपक्षी पार्टियों ने सरकार के विरोध में प्रदर्शन किया और लोगों ने टायर जलाकर अपने ग़ुस्से का इज़हार किया.

अंतरिम सरकार में दूसरे सबसे बड़े दल कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ नेपाल (एकीकृत माओवादी लेनिनवादी) ने नेपाली प्रधानमंत्री प्रचंड के फ़ैसले से नाराज़ होकर सरकार से समर्थन वापस ले लिया. इस कारण माओवादियों के बहुमत वाली सरकार अल्पमत में आ गई.

संकट के कारण दो साल पहले माओवादियों और नेपाल सरकार के बीच हुए शांति समझौते के भविष्य को लेकर भी आशंका जताई जा रही है.

बर्ख़ास्तगी

सेनाध्यक्ष को सरकारी आदेशों के उल्लंघन के आरोप में हटाने का फ़ैसला किया गया था.

नेपाल में विरोध
सेनाध्यक्ष को बर्ख़ास्त किए जाने की ख़बर आने के बाद काठमांडू में प्रदर्शन हुए

माओवादियों की इच्छा थी कि पूर्व माओवादी विद्रोहियों को सेना में शामिल कर लिया जाए लेकिन जनरल कटवाल इसके पक्ष में नहीं थे.

इस मुद्दे पर नेपाल में पिछले कुछ समय से सरकार और सेना के बीच तनातनी चल रही थी.

ये मामला अदालत में भी गया और मार्च में नेपाली सुप्रीम कोर्ट ने रक्षा मंत्रालय के सेना के आठ जनरलों को सेवानिवृत्त किए जाने के फ़ैसले पर रोक लगा दी थी.

जनरल कटवाल चार महीने बाद अवकाश प्राप्त करनेवाले हैं. सेनाध्यक्ष को बर्ख़ास्त करने के फ़ैसले से नेपाल में राजनीति गरमा गई है.

रविवार को उन्हें हटाए जाने के बुलाई गई मंत्रिमंडल की बैठक से गठबंधन के कई घटकों के प्रतिनिधियों ने विरोध जताया और बैठक से उठकर चले गए.

मगर कई सहयोगी दलों के विरोध के बावजूद प्रचंड ने सेनाध्यक्ष को बर्ख़ास्त कर उनकी जगह सेना में दूसरे नंबर के अधिकारी जनरल कुल बहादुर खड़का को कार्यवाहक सेनाध्यक्ष नियुक्त कर दिया.

भारत की प्रतिक्रिया

भारत ने नेपाल के घटनाक्रम को वहाँ का आंतरिक मामला बताया है. विदेश मंत्रालय के एक बयान में आशा व्यक्त की गई है कि मौजूदा संकट का समाधान इस तरह हो कि उससे शांति प्रक्रिया को पूरा करने में भी सहायता मिल सके.

नेपाल में सेना और माओवादी विद्रोहियों के बीच एक दशक तक भारी लड़ाई चली थी जिसमें लगभग 13 हज़ार लोग मारे गए.

वर्ष 2006 में नेपाल सरकार और माओवादियों के बीच एक शांति समझौते के बाद इस गृहयुद्ध का अंत हुआ.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
नेपाल सरकार पर संकट के बादल
03 मई, 2009 | भारत और पड़ोस
दक्षिण एशिया के पत्रकारों को 'ख़तरा'
24 मार्च, 2009 | भारत और पड़ोस
संग्रहालय बना नेपाल का महल
26 फ़रवरी, 2009 | भारत और पड़ोस
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>