BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
रविवार, 24 मई, 2009 को 19:52 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
'मिंगोरा से तालेबान का सफ़ाया जल्द'
 
विस्थापित लोग
संघर्ष के कारण लाखों लोग विस्थापित हुए हैं

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता का कहना है कि तालेबान लड़ाकों को स्वात घाटी के मिंगोरा शहर से अगले 7 से 10 दिन में खदेड़ दिया जाएगा.

उल्लेखनीय है कि मिंगोरा में तालेबान लड़ाकुओं के साथ पाकिस्तानी सेना का भीषण संघर्ष चल रहा है.

मेजर जनरल अतहर अब्बास ने बीबीसी को बताया कि अब सड़कों पर संघर्ष चल रहा है और घर घर तलाशी अभियान चलाया जा रहा है.

उनका कहना था कि सेना ने शहर की पाँच में से तीन मुख्य सड़कों पर कब्ज़ा कर लिया है.

 अब सड़कों पर संघर्ष चल रहा है और घर घर तलाशी अभियान चलाया जा रहा है.
 
मेजर जनरल अतहर अब्बास, पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता

उनका बताया कि इस कार्रवाई की गति 'बहुत ही धीमी' है.

उन्होंने कहा, "ये एक बहुत ही मुश्किल और बहुत ही ख़तरनाक अभियान है क्योंकि एक-एक सड़क और एक-एक घर से सफ़ाया करना पड़ रहा है."

अहम अभियान

इस बीच तालेबान के एक प्रवक्ता ने इस बात की पुष्टि की है कि सेना मिंगोरा में प्रवेश कर चुकी है मगर इन ख़बरों से इनकार किया कि इस दौरान कोई चरमपंथी मारा भी गया है.

प्रवक्ता का कहना था कि तालेबान, सेना का अंतिम साँस तक सामना करेंगे.

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तानी सेना ने मिंगोरा में शनिवार से अपना अभियान शुरु किया था.

उनसे रविवार को पाँच चरमपंथियों को मारने और 14 को गिरफ़्तार कर लेने का दावा किया है.

सेना के मुताबिक उसने एक अन्य प्रमुख नगर मट्टा से तालेबान का सफ़ाया कर दिया है.

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी के अनुसार इस संघर्ष के कारण एक महीने में लगभग 15 लाख लोग विस्थापित हो चुके हैं.

इस्लामाबाद से बीबीसी संवाददाता का कहना है कि स्वात घाटी में संघर्ष तालेबान के विरुद्ध सेना का अब तक का सबसे महत्त्वपूर्ण अभियान है.

संवाददाता के अनुसार सेना को अगर जल्दी ही जीत मिल जाती है तो चरमपंथियों के विरुद्ध सेना की इस कार्रवाई को आम जनता का समर्थन और मज़बूत होगा.

 
 
तालेबान तालेबान का 'मुख्यालय'
स्वात का ख़ूबसूरत क्षेत्र गट पियुचार तालेबान का गढ़ कैसे बना?
 
 
तालेबान के विरुद्ध प्रदर्शन तालेबान आ भी चुके...
तालेबान आ भी चुके और जा भी चुके.. बता रहे हैं मोहम्मद हनीफ़.
 
 
स्वात के बच्चे 'सिर्फ़ स्वात नहीं छोड़ा'
बीबीसी के लिए डायरी लिखने वाली छात्रा भी पलायन पर मजबूर हो गई.
 
 
स्वात के स्कूल पढ़ाई पर हावी लड़ाई
स्वात में स्कूल पर हो रहे चरमपंथी हमले से बच्चों का भविष्य मुश्किल में है.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>