जानिए व्हाट्सऐप के नए फीचर्स

  • 21 सितंबर 2016
इमेज कॉपीरइट PA

एप्पल के फेसटाइम की सफलता और गूगल के डुओ के लॉन्च के बाद व्हाट्सऐप विडियो कॉलिंग के फीचर को लॉन्च कर सकता है. ये फीचर, और उसके साथ दुनिया के सबसे बड़े मेस्सजिंग प्लेटफार्म पर और बदलाव

जल्दी ही लॉन्च किये जाने की उम्मीद की जा रही है.

इंडियन एक्सप्रेस की इस रिपोर्ट के अनुसार, व्हाट्सऐप कैमरे से फोटो लेने के लिए फ़्लैश जैसा एक फीचर भी लॉन्च कर सकता है.

इससे कम लाइट में सेल्फी लेना बहुत आसान हो जाएगा और उसे तुरंत किसी के साथ शेयर किया जा सकेगा.

ये फीचर कई स्मार्टफोन में है जिससे कम लाइट में फ़ोन का स्क्रीन फ़्लैश की तरह काम करता है.

स्टिल फोटो ही नहीं विडियो शूट करते समय बस एक बार स्क्रीन छू कर विडियो के साइज को बड़ा या छोटा किया जा सकेगा - स्नैपचैट पर देखा गया ये फीचर अब व्हाट्सऐप पर भी हो सकता है.

जब ये बदलाव काम करने लगेंगे तो जो भी तस्वीरें लोगों को आप फॉरवर्ड करते हैं उनमें कुछ स्केच करना संभव होगा. व्हाट्सऐप यूजर के लिए तरह तरह के स्टिकर भेजना भी संभव होगा.

इमेज कॉपीरइट Reuters

व्हाट्सऐप के कैमरे से ली गयी तस्वीर में बदलाव करना, उसपर कुछ लिख देना या फिर तस्वीर को क्रॉप करना - ये सभी नए व्हाट्सऐप में करना आसान होगा.

एंड्राइड पुलिस के अनुसार किसी भी तस्वीर में स्टिकर लगाना आजकल लोग काफ़ी पसंद कर रहे हैं. ये फीचर युवाओं और बड़ों में भी काफ़ी पसंद किया जाता है. इनके साथ एक 'अनडू' का भी विकल्प होगा ताकि अगर एक स्टिकर पसंद नहीं आया तो उसे बदल कर दूसरा लगा सकते हैं.

एशियाई देशों में इमोजी काफ़ी पसंद किये जाते हैं और चूंकि इनकी भाषा सबको समझ में आती है इसलिए इमोजी में हो रहे बदलाव के बारे में कई लोग जानना चाहते हैं. जिन लोगों को इमोजी पसंद हैं, उनके लिए स्क्रीन पर अब बड़े साइज में इमोजी दिखाई देंगे.

व्हाट्सऐप दुनिया का सबसे बड़ा मेस्सजिंग प्लेटफार्म है और हर दिन इसे 100 करोड़ से ज़्यादा लोग इस्तेमाल करते हैं. फेसबुक ने इसे 2014 में ख़रीदा था और अब सभी सब्सक्राइबर के बारे में जानकारी को फेसबुक के साथ शेयर करने की तैयारी है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption व्हाट्सऐप के नए फीचर

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे