स्मार्टफोन की लाइट आंखों के लिए बुरी

स्मार्टफोन

इमेज स्रोत, AFP

स्मार्टफोन की स्क्रीन से निकलने वाली नीली रोशनी आंखों को नुकसान पहुंचाती है.

इसीलिए कहते हैं कि बहुत देर तक स्क्रीन को देखने से आंखों पर असर पड़ने लगता है, पानी गिरने लगता है या फिर आंखें थकी हुई दिखाई देती हैं.

ऐसी नीली रोशनी स्मार्टफोन, टैबलेट, लैपटॉप सभी से आती है इसलिए इसका इलाज सभी डिवाइस के लिए करना होगा.

डेस्कटॉप और लैपटॉप के लिए यहां पर जानकारी मिल जाएगी, और आईफोन के फीचर के लिए यहां पढ़ सकते हैं.

एंड्राइड के नए ऑपरेटिंग सिस्टम, नुगाट में 'नाइट मोड' है जो आंखों पर बहुत ज़्यादा ज़ोर नहीं पड़ने देता है. लेकिन उससे पहले के ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए अलग-अलग ऐप का इस्तेमाल करना होगा.

बस ये याद रखिए की ये आपकी आंखों के लिए बेहतर रहेगा.

नुगाट से पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम वाले एंड्राइड स्मार्टफोन के लिए सीएफ लुमेन , फ्लक्स और ट्वाईला नाम के ऐप में से कोई भी चुन सकते हैं.

इमेज स्रोत, AP

ट्वाईलाईट के लिए हैंडसेट को रुट करने की ज़रुरत नहीं है जबकि बाकी दोनों के लिए डिवाइस को रुट करना ज़रूरी है. लेकिन वो करने के बाद इन दोनों ऐप में ट्वाईलाइट से कहीं ज़्यादा फीचर हैं.

अगर ये बदलाव अपने स्मार्टफोन या टैबलेट के लिए आप करते हैं तो स्क्रीन नीले की जगह लाल रंग की दिखेगी.

इमेज स्रोत, AFP

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
विवेचना

नई रिलीज़ हुई फ़िल्मों की समीक्षा करता साप्ताहिक कार्यक्रम

एपिसोड्स

समाप्त

शुरुआत में ऐसी स्क्रीन पर काम करना बहुत आसान नहीं होगा लेकिन ऐसी स्क्रीन को देखते-देखते ही आदत बदलेगी.

सोने के ठीक पहले नीले रंग की लाइट आपके आंखों पर क्या असर करती है उसे जानने के लिए यहां पढ़ सकते हैं.

दुनियाभर में हो रहे रिसर्च के बारे में यहां जानकारी मिल सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)