सोशल लॉगइन इस्तेमाल करने में सावधानी बरतें

इमेज कॉपीरइट Reuters

कई वेबसाइट पर जब आप जाते हैं तो आपके पास फेसबुक या गूगल अकाउंट से लॉगइन करने का विकल्प होता है. इन्हें सोशल लॉगइन कहा जाता है.

ऑनलाइन कंपनियां इन्हें काफी पसंद करती हैं क्योंकि उनके सब्सक्राइबर के बारे में पूरी जानकारी उन्हें तुरंत मिल जाती है.

कंपनियों का कहना है कि सोशल लॉगइन रखने वाले सब्सक्राइबर को एक और पासवर्ड याद रखने की ज़रुरत नहीं होती है. और एक ही पासवर्ड को कई वेबसाइट पर इस्तेमाल करना भी सिक्योरिटी के लिहाज़ से ख़तरनाक है.

लेकिन अगर आप एंड्राइड स्मार्टफोन पर ऐसे सोशल लॉगइन का इस्तेमाल करते हैं तो इस बात का ध्यान रखिए कि आपके बारे में बहुत ज़्यादा डेटा कंपनी के पास तुरंत पहुंच जाएगा.

ऐसी वेबसाइट पर अगर आप अपने गूगल अकाउंट का इस्तेमाल करके लॉगइन करते हैं तो ये जानना ज़रूरी है कि गूगल के पास आपके बारे में क्या जानकारी है.

गूगल क्रोम को आपके गूगल अकाउंट के बारे में पूरी जानकारी होती है. दूसरे गूगल के प्रोडक्ट को भी आपके गूगल अकाउंट के बारे में पूरी जानकारी हो सकती है.

अपने गूगल अकाउंट पर लॉगइन कर इस लिंक पर ऐप को जो भी जानकारी लेने की इजाज़त दी है उसे एक बार फिर से जांच लें.

इमेज कॉपीरइट AFP

अगर कोई भी ऐप को आप नहीं चाहते हैं कि आपके बारे में जानकारी इकट्ठा करें तो उसे वहां से हटा सकते हैं.

फेसबुक पर भी सभी कनेक्टेड ऐप के बारे में आपको जानकारी मिल जाती है और उसकी इजाज़त अगर आपने दी हुई है तो उसे बाद में बदला जा सकता है.

'लॉग इन विथ फेसबुक' का अगर आप कई वेबसाइट पर इस्तेमाल करते हैं तो ऐप को दी हुई इजाज़त को एक बार फिर से जांच लें. ऐसा करने से आप ऑनलाइन सुरक्षा के दायरे में रहते हैं.

इमेज कॉपीरइट PA

ये बात आपको समझनी चाहिए कि अगर फेसबुक, गूगल या ट्विटर के लॉग इन का इस्तेमाल करके आप दूसरे वेबसाइट पर जाते हैं तो उन कंपनियों को आपके इंटरनेट की आदतों के बारे में सभी जानकारी हो जाती है.

ऐसी वेबसाइट कई बार आपके लिए सोशल लॉग इन को बहुत आसान बना देती हैं. लेकिन गूगल और फेसबुक पर किसी भी सब्सक्राइबर के बारे में इतनी पर्सनल जानकारी होती है कि सोशल लॉग इन के बारे में बहुत सावधान होना ज़रूरी है.

कुछ लोगों का मानना है कि एक ऐसा फेसबुक या गूगल अकाउंट बना लीजिये जिसे सिर्फ सोशल लॉगइन के लिए इस्तेमाल किया जाए.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ये कोशिश अगर आप स्मार्टफोन के ज़रिए करेंगे तो कहीं ऐसा न हो कि स्मार्टफोन में रखा डेटा ये वेबसाइट चुरा लें. इसलिए अगर कोई और लॉग इन इस्तेमाल करना है तो वो अपने डेस्कटॉप या लैपटॉप से ही कीजिये.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)