मोबाइल कंपनियों का फ्री क्लाउड स्टोरेज

स्मार्ट फोन

अब सभी मोबाइल कंपनियां फ्री क्लाउड स्टोरेज दे रही हैं और फ्री क्लाउड स्टोरेज देकर वो ग्राहकों को दूसरे नेटवर्क पर जाने से रोकना चाहती हैं.

टेलीकॉम कंपनियां अब आपके स्मार्टफोन के लिए स्टोरेज की जगह बांट रही हैं.

रिलायंस जिओ, एयरटेल और वोडाफोन जैसी कंपनियां अपने ग्राहकों को अपने पास बांध कर रखने के लिए क्लाउड स्टोरेज का हथकंडा अपना रही हैं.

कंपनियों को क्लाउड स्टोरेज देने से ये फायदा होता है कि कोई भी सब्सक्राइबर उस डेटा को छोड़ कर दूसरे नेटवर्क पर नहीं जा सकता है.

इसमें उनके फोटो हो सकते हैं या उनके पसंदीदा गानों का कलेक्शन.

अब 'जिओ क्लाउड' या 'एयरटेल बैक अप' सभी स्मार्टफ़ोन इस्तेमाल करने वालों के ऑनलाइन स्टोरेज का बढ़िया विकल्प लेकर आये हैं.

रिलायंस जिओ पर आपको 5 गीगाबाइट का स्टोरेज मिलता है लेकिन एयरटेल पर सिर्फ 2 गीगाबाइट का स्टोरेज मिलता है.

अपने फोटो, म्यूजिक, विडियो के अलावा कॉल लॉग का भी बैक अप दोनों पर रखा जा सकता है.

दोनों कंपनियां चाहती हैं कि अपने स्मार्टफोन पर आप उनके ऐप डाउनलोड करें.

अगर एयरटेल के ऐप के ज़रिये रात को आप क्लाउड सर्विस के लिए डेटा अपलोड करते हैं तो उसे आप फ्री कर सकते हैं.

वोडाफोन पर भी ये सर्विस मिलेंगीं लेकिन ये छोटे बिज़नस के लिए बनाये गए हैं.

इसलिए ऐसी छोटी कंपनी के ईमेल, वेबसाइट और दूसरी क्लाउड सर्विस के लिए वोडाफोन की सर्विस मिलती है.

गूगल के साथ मिलकर गूगल के सभी ऐप इस सर्विस के साथ काम करेंगे.

वोडाफोन ने ऐसी सर्विस के लिए ऑनलाइन स्टोरेज कंपनी ड्रॉपबॉक्स से करार भी किया है.

क्लाउड सर्विस में ग्राहकों को अपने स्मार्टफोन या उसके एसडी कार्ड पर डेटा स्टोर करने की ज़रुरत नहीं होती है. इसलिए उनके फोटो, विडियो और म्यूजिक को स्टोर करके कहीं भी उसे डाउनलोड करना बहुत आसान हो जाता है.

मोबाइल फ़ोन के बाजार में अब नए ग्राहक ढूंढना बहुत मुश्किल है क्योंकि अब सभी बड़े शहरों में सभी के पास मोबाइल फ़ोन हैं.

जैसे जैसे स्मार्टफोन का बाजार बढ़ रहा हैं उसे देखते हुए मोबाइल फ़ोन कंपनियां चाहती हैं कि जो नए लोग स्मार्टफोन खरीद रहे हैं वो हर सर्विस के लिए डेटा का इस्तेमाल करें.

इससे उन कंपनियों को अपने वायरलेस इंटरनेट के लिए हमेशा ग्राहक मिलते रहेंगे.

देश में 100 करोड़ से ज़्यादा मोबाइल फ़ोन इस्तेमाल करने वाले हैं और उनमें 90 फीसदी लोग प्रीपेड सर्विस के ग्राहक हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)