वफ़ादार कुत्ता भी ले सकता है मालिक की जान, ऐसे करें पहचान

  • 24 दिसंबर 2017
बेथनी स्टीफेन्स इमेज कॉपीरइट CBS
Image caption पुलिस के मुताबिक 22 साल की बेथनी स्टीफेन्स को उनके कुत्तों ने मार डाला.

अमरीका के रूरल वर्जिनिया में 22 साल की बेथेनी स्टीफंस अपने दो कुत्तों को घुमाने निकली थीं और उन्हीं कुत्तों ने उनकी जान ले लिया. ये स्थानीय पुलिस की थ्योरी है, जिसके बाद कई सवाल उठ रहे हैं.

पुलिस ने ट्विटर पर बताया कि जांचकर्ताओं के अनुसार बेथनी के सिर पर जो चोटें आई थीं वो किसी भालू या भेड़िये जैसे बड़े जानवर ने नहीं की थीं, बल्कि ये दांत से काटे जाने के निशान थे.

लोग पूछ रहे हैं कि क्या कुत्ता अपने मालिक की जान ले सकता है?

बेथनी पिटबुल नस्ल के इन कुत्तों को तब से पाल रही थीं, जब वो छोटे पिल्ले थे. वर्जिनिया के गूचलैंड में रहने वाले बेथनी के पड़ोसी इस घटना से डरे हुए हैं.

जानकारों का कहना है कि बेथनी के मामले में बातें पूरी तरह साफ़ नहीं है. लेकिन देखा जाए तो, पालतू कुत्तों के अपने मालिक पर हमला करने के कुछ कारण हो सकते हैं.

कुत्ते जो अंतरिक्ष पहुंचे, बने हीरो

कुत्ते पालने से लंबी हो सकती है ज़िंदगी

कुछ बातें जिनका ध्यान कुत्ते पालने वालों को रखना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट Twitter @Kristen Smith

क्रिसमस का तनाव उन्हें पसंद नहीं

ब्रिटेन में बीमार जानवरों के एक जाने-माने अस्पताल में पशु चिकित्सक सीन वेन्सली कहते हैं कि अगर कुत्ते खुद के लिए ख़तरा महसूस करते हैं तो वो आक्रामक हो जाते हैं.

सीन वेन्सली कहते हैं, "कुत्ते के काटने के कई कारण हो सकते हैं जिनमें से एक है डर."

"और भी कारण हो सकते हैं लेकिन ये इतने गंभीर नहीं होते, जैसे कि अपनी पसंदीदा चीज़, या अपने आराम करने की जगह या अपना बिस्तर बचाने की कोशिश में भी ये जानवर काट सकते हैं."

कुत्ते क्यों होते हैं इंसानों के सबसे अच्छे दोस्त?

पुतिन को नहीं चाहिए तोहफ़े में जापानी कुत्ता

कुत्तों की शारीरिक भाषा

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Costas Baltas

सीन वेन्सली कहते हैं कि कभी कभी ये कुत्ते "अपना खाना बचाने के लिए भी काट सकते हैं".

कुत्तों के व्यवहार का अध्ययन करने वालीं डॉग ट्रेनर कैरोलिन मेन्तीथ कहती हैं कि कुत्ते अधिकतर छुट्टियों के मौसम में लोगों को काटते हैं लेकिन वो अपने मालिक को नहीं काटते.

मेहमानों से भरे घर, इधर-उधर भागते बच्चे और ज़रूरत से कम चलने पर भी कुत्ते बोर हो सकते हैं और सोचना बंद कर देते हैं.

मेन्तीथ कहती हैं, "हम लोग बात करने वाले प्राणी हैं तो जब हम खुश नहीं होते हम ये बात कह सकते हैं. लेकिन हमारे कुत्ते ऐसा नहीं कर सकते. वो अपनी बॉडी लैंग्वेज से इसका अंदाज़ा देते हैं."

"ये बहुत मुश्किल है कि हम अपने इस पालतू जानवर के सब इशारों को ठीक से समझ सकें. ख़ास कर जब हमारे सामने क्रिसमस की तैयारी करने का बड़ा काम हो."

दो नाक वाला कुत्ता टोबी

तकलीफ के कारणों का पता लगाएं

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Sergio Moraes

अगर आपके पास दो या अधिक कुत्ते हैं तो मौसम से इतर यह देखना चाहिए कि ये कुत्ते आपस में कैसा बर्ताव कर रहे हैं.

सीन वेन्सली कहते हैं, "अगर दोनों एक दूसरे के साथ कंपीट करपने की कोशिश कर रहे हैं तो इसका मतलब है कि दोनों में गुस्सा बढ़ रहा है और ये ध्यान ना देने पर मालिक के ख़िलाफ़ भी जा सकता है."

मिलनसार और ख़ुशमिजाज़ कुत्ता भी अगर परेशान हो तो उसके हमला करने की अधिक आशंका होती है. उदाहरण के तौर पर अगर आप उसे दरवाज़े के पास से खींचकर हटा रहे हैं और ऐसा करते वक़्त अनजाने में उसे चोट पहुंचा देते हैं तो वो नाराज़ हो सकता है.

लिवर की बीमारी या ब्रेन ट्यूमर के कारण भी कुत्ते अजीब बर्ताव कर सकते हैं. लिवर की बीमारी का असर दिमाग पर हो सकता है.

फ़ेसबुक रिसर्च: आप कुत्ता प्रेमी हैं तो...

बच्चे आस-पास हों तो सावधान रहें

इमेज कॉपीरइट MANJUNATH KIRAN/AFP/Getty Images

साल 2014 और 2015 के लिए जारी किए गए विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों से पता चलता है कि 7,227 लोगों को 'कुत्ते के काटने' के कारण इलाज की ज़रूरत हुई थी. इनमें बच्चों की संख्या अधिक थी.

कुत्ते के काटने के कारण 1,159 बच्चों को अस्पताल जाना पड़ा था.

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में प्रकाशित एक जांच रिपोर्ट के अनुसार, 70 फीसदी बच्चों को उनके छोटे कद का होने के कारण कुत्तों ने उनके होंठों, नाक और गालों पर काटा था.

ख़ास तौर पर गले पर काटने का घाव बेहद घातक हो सकता है क्योंकि अगर कैरोटिड आर्टरी कट जाए तो ज़्यादा ख़ून बहने से मौत भी हो सकती है.

साढ़े सात करोड़ का कुत्ता! देखा है कभी

कुत्ता अगर होंठ के ऊपरी हिस्से पर जीभ फिराए तो सावधान

इमेज कॉपीरइट EPA/DAVID CHANG

वेन्सली कहते हैं कि अगर कुत्ते को बच्चों की आदत ना हो तो उनकी मौजूदगी उन्हें परेशान कर सकती है.

"एक नन्हे बच्चे का व्यवहार आम तौर पर थोड़ा असामान्य होता है, वो चीख सकता है, कसकर कुत्ते को पकड़ सकता है, उन्हें उठाने की कोशिश कर सकता है या फिर उन पर अपना हाथ फिरा सरकता है. इस व्यवहार से कुत्ते डर सकते हैं."

लेकिन काटने से पहले कुत्ते आम तौर पर परेशान होने के संकेत देते हैं.

वो अपने होंठ के ऊपरी हिस्से पर जीभ फिराते हैं, झुकाव की मुद्रा ले लेते हैं, अपने कान पीछे कर लेते हैं या फिर अपनी दुम को अपने पैरों के बीच में दबा लेते हैं. बच्चे हर बार इन संकेतों को समझ नहीं पाते और कभी-कभी उन्हें लगता है कि अगर कुत्ता अपने दांत दिखा रहा है तो वो खुश है और हंस रहा है.

स्निफ़र डॉग नहीं तो पालतू कुत्ता ही सही!

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कैरोलिन मेन्तीथ कहती हैं कि जब कोई कुत्ता अपने मालिक पर हमला करता है तो लोग समझते हैं कि उसने कोई चेतावनी नहीं दी और हमला किया, लेकिन ऐसा नहीं है. कुत्ता महीनों से कुछ कहने की कोशिश कर रहा होगा.

वो कहती हैं, "पहले तो हम कुत्तों को अपनी ज़िदगी का हिस्सा बने लेते हैं और फिर हम उनकी बात नहीं सुनते."

कुत्ते का मांस खाने के पीछे ये तर्क दे रहे हैं लोग

कुत्तों को ट्रेन करना ज़रूरी है

अगर आप सोचते हैं कि अपने कुत्तों को अनजान बच्चों और लोगों के बीच छोड़ना सही है तो अपने पिछले अनुभव पर ज़रूर ग़ौर करें. क्या आपका पालतू कुत्ता बच्चों को पसंद करता है? क्या आप वाकई ये सुनिश्चित कर सकते हैं कि वो आपकी ग़ैरमौजूदगी में अच्छा बर्ताव करेगा?

सीन वेन्सली कहते हैं, "एक समस्या यह भी दिखती है कि कभी-कभी छोटे पिल्ले रोज़मर्रा की तस्वीरें देखने और आवाज़ सुनने के आदी नहीं होते."

इमेज कॉपीरइट David Paul Morris/Getty Images

"हो सकता है कि वो अपने कुत्ता घर में ही पले-बढ़े हों जहां आस-पास कुछ भी ना हो, या फिर गांव में पले हों. और फिर कोई उन्हें ऑनलाइन खरीद लेता है या फिर हाइवे के पास मौजूद किसी जगह से खरीद कर अपने घर ले जाता है जो उनके लिए एकदम अलग माहौल होता है. यहां वो उम्मीद करता है कि कुत्ता अपनी इस नई दुनिया में खुश होगा जिसमें उसने अचानक कदम रखा है."

"वो बहुत घबरा सकते हैं और डर सकते हैं और इसका नतीजा हो सकता है कि वो किसी पर हमला कर दें."

इस तरह की घटनाएं न हों इसके लिए ज़रूरी है कि कम उम्र में यानी जब वो नन्हे पिल्ले हों तभी से उन्हें ट्रेन किया जाए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे