सेहत के लिए कितनी हानिकारक है चॉकलेट?

  • 3 जनवरी 2018
स्नेक्स इमेज कॉपीरइट Getty Images

इंग्लैंड में छोटे बच्चे खान-पान के जरिए जो शुगर लेते हैं, उसकी आधी मात्रा सेहत के लिए नुकसानदेह माने जाने वाले स्नैक्स और ड्रिंक्स के जरिए उनके जिस्म में पहुंचती है.

ये जानकारी इस बारे में जुटाए गए आंकड़ों के जरिए सामने आई है.

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (पीएचई) के मुताबिक़, प्राइमरी स्कूल के छात्र औसतन एक दिन में कम से कम तीन मीठी चीज़ें खाते हैं.

इसका मतलब ये हुआ कि बच्चे जरुरत से तीन गुना ज्यादा चीनी की मात्रा का सेवन करते हैं.

फ़ास्टफ़ूड में भारतीय तड़का.. कैसा लगेगा ?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्या होना चाहिए स्वस्थ नाश्ता?

पीएचई ने एक अभियान की शुरुआत की है. इसका मकसद बच्चों के मां-बाप को ऐसे स्नैक्स के बारे में जानकारी देना है, जिनमें 100 से ज़्यादा कैलोरी न हो और एक दिन में बच्चे इसका सेवन दो बार से ज्यादा न कर सकें.

आठ हफ्तों तक चलने वाले चैंज4लाइफ नाम के अभियान में खाने के फ्री वाउचर दिए जाएंगे. इसके तहत कुछ सुपरमार्केट में माल्ट लॉफ, कम शुगर वाली दही और बिना शुगर वाली ड्रिंक्स के लिए छूट वाले वाउचर दिए जाएंगे.

पीएचई के नेशनल डाइट एंड न्यूट्रिशियन सर्वे में पाया गया है कि 4 से 10 साल के बच्चे सेहत के लिए हानिकारक स्नेक्स खाने से लगभग 51.2 प्रतिशत शुगर लेते हैं. इनमें बिस्कुट, केक, पेस्ट्री, बन्स, स्वीट्स और जूस ड्रिंक्स शामिल होते हैं.

आंकड़े बताते हैं कि हर साल एक बच्चा औसतन 400 बिस्किट, 120 केक, बन और पेस्ट्री, मिठाईयों के 100 टुकड़े, 70 चॉकलेट, आइसक्रीम और 150 जूस ड्रिंक्स के पाउच खाते-पीते हैं.

दांत खराब और ज्यादा मोटे होने की एक वजह ज़्यादा मात्रा में शुगर लेना भी हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

किस स्नेक्स में होती कितनी कैलोरी?

  • 1 आईसक्रीम: लगभग 175 कैलोरी
  • 1 पैकेट चिप्स: 190 कैलोरी
  • 1 चॉकलेट बार: 200 कैलोरी
  • 1 पेस्ट्री: 270 कैलोरी

स्रोत: कांतार रिसर्च ग्रुप

100 कैलोरी से कम वाले स्नेक्स

  • सोरीन माल्ट लंचबॉक्स (सेब, केला, आदि)
  • स्ट्रॉबेरी, रसभरी, ताजा फल
  • ताजा फलों का रस
  • कटी हुई सब्जियां, भीगे छोले
  • बिना शुगर की जैली
  • पनीर (कम वसा वाला), प्लेन चावल

स्रोत: पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड

'सॉफ्ट ड्रिंक्स पर टैक्स लगाओ, जंक फूड पर प्रतिबंध'

बच्चों के मोटापे की अनदेखी ख़तरनाक

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लंचबॉक्स में स्नैक्स

पीएचई का कहना है कि उन्होंने अपनी ऐप में भी सुधार किया है, जिसमें खाने में शुगर, नमक, वसा आदि की मात्रा का पता चल सकेगा.

पीएचई के चीफ न्यूट्रिशनिस्ट डॉ अलीन टेडस्टॉन ने बीबीसी को बताया कि इस कैंपेन से उन्हें उम्मीद है कि यह बच्चों के खान-पान के लिए उनके माता-पिता को सशक्त बनाने में मदद करेगा.

उन्होंने कहा, "यदि आप सुपरमार्केट जाते हैं तो आप देख सकते हैं कि वहां स्नेक्स के रूप में कई चीजें मौजूद होती हैं. समय बदल गया है. लंचबॉक्स स्नैक्स से भरा होता है, जिससे दोपहर के खाने में कैलोरी की मात्रा बढ़ रही है."

पीएचई ने पहले भी शुगर के व्यवसाय में 2020 तक 20 प्रतिशत और 2017 तक 5 प्रतिशत तक कटौती के लिए कहा था लेकिन जानकारों ने सवाल किया कि इसे कैसे लागू किया जा सकता है.

ब्रिटेन में शुगर टैक्स की घोषणा हो चुकी है, जो आने वाले अप्रैल से लागू हो जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे