सिगरेट पीते हैं तो अपने बच्चों पर इतना रहम कीजिए

  • 20 अगस्त 2018
सिगरेट की लत इमेज कॉपीरइट Getty Images

आप अपने घर में बच्चों और सिगरेट दोनों से एक साथ प्यार नहीं कर सकते हैं. अगर भला चाहते हैं तो दोनों में से किसी एक को छोड़ना पड़ेगा.

अमरीका के एक शोध में पता चला है कि अगर बच्चे सिगरेट पीने की लत के शिकार मां-बाप के साथ बड़े होते हैं तो उन्हें फेफड़े की जानलेवा बीमारी हो सकती है.

ये बीमारी पैसिव स्मोकिंग की वजह से उन्हें हो सकती है. पैसिव स्मोकिंग यानी जब एक शख़्स सिगरेट पी रहा होता है तो उसके आसपास के लोगों को अनायास ही धुआं लेना पड़ता है.

शोधकार्ताओं का कहना है कि सिगरेट न पीने वाले प्रति एक लाख वयस्कों की मौत में सात और मौतें जुड़ जाती हैं जो पैसिव स्मोकिंग के कारण होती हैं.

अमरीका कैंसर सोसाइटी के अध्ययन में 70,900 सिगरेट न पीने वाले पुरुष और महिलाओं को शामिल किया गया था जिनके मां-बाप सिगरेट पीते थे.

विशेषज्ञों का कहना है कि बेहतर तरीक़ा यह होगा कि मां-बाप अपने बच्चों के लिए सिगरेट छोड़ दें.

अध्ययन में पाया गया है कि जो बच्चे स्मोकिंग की लत के शिकार मां-बाप के साथ बड़े होते हैं उन्हें दूसरी तरह की भी बीमारियां हो सकती हैं.

ई-सिगरेट भी लगाती है जिगर में आग

इमेज कॉपीरइट EPA

कैसी बीमारी होने की आशंका

बच्चा अगर सप्ताह में 10 या उससे ज़्यादा घंटे सिगरेट के धुएं के साए में होता है तो उसे दिल की बीमारी होने की आशंका 27 फ़ीसदी तक बढ़ जाती है. वहीं मस्तिष्क आघात की आशंका 23 फ़ीसदी और फेफड़े की जानलेवा बीमारी होने का जोख़िम 42 फ़ीसदी तक बढ़ जाता है.

यह तुलना उन बच्चों से की गई है जो सिगरेट नहीं पीने वाले मां-बाप के साथ रहते हैं. इस अध्ययन को अमरीकन जर्नल ऑफ़ प्रिवेंटिव मेडिसिन में प्रकाशित किया गया है.

अध्ययन में शामिल 70,900 लोगों से वैसे वक़्त का हिसाब-किताब लिया गया जब वो अपने मां-बाप के सिगरेट के धुएं के बीच थे. अगले 22 सालों तक उनके स्वास्थ्य का परीक्षण किया गया.

स्मोकिंग के ख़िलाफ़ अभियान चलाने वाली हेज़ल चेसमैन ने कहा, "यह नया अध्ययन अभियान में शामिल किया गया है और बताता है कि बच्चों की ख़ातिर लोगों को घर के बाहर स्मोकिंग करना चाहिए. अच्छा तो ये होगा कि मां-बाप स्मोकिंग छोड़ दें."

इमेज कॉपीरइट PA

उन्होंने नेशनल हेल्थ सर्विस को नए अध्ययन का डेटा भेजा है और इस क्षेत्र में अधिक राशि देने की मांग की है.

ब्रिटिश लंग फ़ाउंडेशन के सलाहकार डॉक्टर निक हॉपकिंसन भी इस पर सहमति जताते हैं. वो कहते हैं, "पैसिव स्मोकिंग का असर बचपन के बाद भी रहता है. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि स्मोकिंग छुड़ाने वाली सेवाओं की अमरीका में कटौती की जा रही है. यह ज़रूरी है कि सिगरेट की लत वाले हर मां-बाप ख़ासकर गर्भवती मां को इसकी लत छुड़ाने में मदद मिले."

अध्ययन में यह भी बताया गया है कि सिगरेट पीने वाले मां-बाप के साथ रहने वाले बच्चे को दमा हो सकता है और फेफड़े का विकास प्रभावित हो सकता है.

यह भी पढ़ें -

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए