दुनिया में पहली बार मृत महिला के गर्भाशय से पैदा हुआ बच्चा

  • 5 दिसंबर 2018
गर्भाशय प्रत्यारोप इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

किसी व्यक्ति के मरने के बाद उसके अंगों को ज़िंदा लोगों के शरीर में प्रत्यारोपण किया जाना बेहद आम बात है.

लेकिन दुनिया में ये पहला मामला है जब किसी मृत महिला का गर्भाशय ज़िंदा महिला में प्रत्योरोपित किया गया हो. यही नहीं, इस गर्भाशय को लेने वाली महिला ने एक स्वस्थ बच्ची को भी जन्म दिया है.

ब्राज़ील के साओ पॉलो शहर में साल 2016 में मृत महिला के शरीर से गर्भाशय निकालकर मां बनने वाली महिला के शरीर में प्रत्यारोपित किया गया था.

दस घंटे तक चले प्रत्यारोपण के बाद इस महिला का फ़र्टिलिटी ट्रीटमेंट किया गया.

इससे पहले दुनिया भर में मृत महिलाओं के गर्भाशयों को प्रत्यारोपित करने की कोशिश की गई थी.

लेकिन इन सभी मामलों में ऑपरेशन या तो असफल हुए हैं या महिलाओं का गर्भपात हो गया था.

कैसे सफल हुआ ये ऑपरेशन?

इस मामले में जिस महिला का गर्भाशय लिया गया वो तीन बच्चों की मां थी और उनकी मौत दिमाग़ में ख़ून बहने की वजह से हो गई थी.

वहीं, गर्भाशय पाने वाली महिला मेयर-रोकिटानस्की-होज़र सिंड्रोम पीड़ित थी जो हर साढ़े चार हज़ार महिलाओं में से एक महिला में पाई जाती है.

इस सिंड्रोम की वजह से योनि और गर्भाशय सही ढंग से विकसित नहीं हो पाता है. हालांकि, इस मामले में गर्भाशय पाने वाली महिला का अंडाशय बिलकुल ठीक था.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

डॉक्टरों ने मां बनने वाली महिला के शरीर से अंडे डासने से पहले उन्हें पिता बनने वाले व्यक्ति के स्पर्म से फ़र्टिलाइज़ कराया.

इसके बाद महिला को ऐसी दवाइयां दी गईं जिससे उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम हो जाए.

रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होने से वो गर्भाशय के शरीर में ठीक ढंग से व्यवस्थित होने में बाधा खड़ी कर सकता था.

इसके छह हफ़्तों बाद महिला को मासिक धर्म होना शुरू हो गए.

फिर, सात महीनों बाद फ़र्टिलाइज़्ड अंडों को महिला के गर्भाशय में डाला गया.

इसके बाद 15 दिसंबर 2017 को गर्भाशय पाने वाली महिला ने ऑपरेशन के ज़रिए 2.5 किलोग्राम की स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया.

इमेज कॉपीरइट Science Photo Library
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

साओ पाओलो के हॉस्पिटल दास क्लीनिक से जुड़े डॉ. दानी एज़ेनबर्ग कहते हैं, "जीवित दानकर्ताओं के गर्भाशय का प्रत्यारोपण मेडिकल क्षेत्र के लिए मील का पत्थर साबित हुआ था. इससे मां बनने में असमर्थ कई महिलाओं को मां बनने में मदद मिलेगी".

"लेकिन जीवित दानकर्ता का मिलना एक बड़ी चुनौती है. ऐसे दानकर्ताओं का मिलना लगभग दुर्लभ होता है जो अपनी और परिवार की इच्छा से दान करने के लिए तैयार हों."

वहीं, लंदन स्थित इंपीरियल कॉलेज से जुड़े डॉ. सरदजान सासो कहते हैं, "इसके नतीजे बहुत ही उत्साहजनक हैं."

"इसके बाद अब संभावित दानकर्ताओं की संख्या बढ़ जाएगी और इसमें ख़र्च भी कम होगा. इसके बाद अब जीवित दानकर्ताओं के गर्भाशय के प्रत्योरोपण में सामने आने वाले जोख़िम से भी बचा जा सकता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार