इस साल मिली पौधों की दस नई प्रजातियां

  • 22 दिसंबर 2018
वर्षावन के पेड़ इमेज कॉपीरइट MARTIN CHEEK

पौधों पर शोध करने वाले और उनका संरक्षण करने वाले लोगों ने बीते कई सालों में पौधों की कई दुर्लभ प्रजातियों की खोज की है.

साल 2018 की बात की जाए तो लंदन के क्यू ज़िले में स्थित रॉयल बोटेनिक गार्डन के वैज्ञानिकों ने 100 से अधिक नए पौधों की खोज की.

सिएरा लियोन के राष्ट्रीय वनस्पति संग्रहालय के प्रोफेसर अइया लेबी ने सिएरा लियोन के झरने के पास एक पौधा देखा जो झरने की चट्टान से चिपका हुआ था.

उन्होंने उस पौधे के नमूने को इकट्ठा किया और उसे क्यू भेजा. यहां इस पौधे को एक नई प्रजाति के रूप में पहचाना गया.

इस पौधे का नाम अइया लेबी के नाम पर ही लेब्बिया ग्रेंडीफ्लोरा रखा गया.

अइया लेबी ने बीबीसी को बताया, ''यह पौधा बाकी पौधों से काफी अलग है, झरने के पास मिलने वाले पौधों से अलग होने की वजह से ही मेरी नज़र इस पर पड़ी, और अब मेरा नाम इसके साथ हमेशा के लिए जुड़ गया है."

इमेज कॉपीरइट RBG KEW

इस पौधे को बेहद दुर्लभ और लुप्त होने वाले पौधे के तौर पर माना गया है. ये एक ऐसे इलाके में पाया गया हैं जहां खनन और हाइड्रो-इलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट का ख़तरा बना हुआ है. इसकी वजह से वैज्ञानिकों का मानना है कि ये पौधे कुछ सालों में लुप्त हो सकते हैं.

प्रोफेसर लेबी ने कहते हैं, ''पृथ्वी पर मौजूद पौधों की हर एक प्रजाति हमारे अस्तित्व के लिए बेहद ज़रूरी है. अगर हम कहें कि हम इनका संरक्षण नहीं करेंगे तो मेरे लिए इसका मतलब होगा हम अपनी दुनिया को खोने जा रहे हैं."

बग ईटर या कीड़े खाने वाले पौधे

इमेज कॉपीरइट MARTIN CHEEK, RBG KEW

दुनिया में पिचर प्लांट यानी कीड़ों को खाने वाले पौधों की 150 से अधिक प्रजातियां हैं. इसी तरह के एक और पिचर प्लांट की खोज इंडोनेशिया के बियाक नामक छोटे से द्वीप में हुई है. इसका नाम नेपेंथेस बियाक है.

इन पौधों को असल नुकसान तब होने लगा जब इस द्वीप पर पर्यटकों के जहाज़ रुकने लगे.

क्यू के वनस्पतिविद डॉक्टर मार्टिन चीक इस संबंध में कहते हैं,''ऐसा माना जाता है कि पर्यटकों ने अपने लिए रास्ता बनाने की कोशिश की होगी, जिसके चलते ये पौधे तोड़ दिए गए. इन पौधों को संरक्षित करने की ज़रूरत है."

डॉक्टर मार्टिन चीक कहते हैं कि इन पौधों को भविष्य के लिए बचाकर रखना हमारा काम है. ये पिचर प्लांट कई तरह की दवा बनाने के काम आते हैं.

कैंसर से बचाने वाला फूल

इमेज कॉपीरइट MARTIN CHEEK

इस नए पौधे का नाम किंडिया गंगन है, ये कॉफ़ी की एक प्रजाति है. यह पौधा क्यू के वैज्ञानिकों को पश्चिमी अफ़्रीका के किंडिया शहर में एक फील्ड ट्रिप के दौरान मिला.

वैज्ञानिकों ने पता लगाया है कि इस पौधे में औषधीय गुण हैं जो कैंसर के इलाज में कारगर साबित हो सकते हैं.

जंगलों से तस्करी होने वाला ऑर्चिड

इमेज कॉपीरइट ADUNYADETHLUANGAPHAY

लाओस में पाया गया कि शानदार ऑर्किड का पौधा. इस पौधे को जंगल से तस्करी कर बेचा जा रहा था. इसे स्लिपर ऑर्किड भी कहा जाता है और वैज्ञानिकों ने इसका नाम पैफिओपेडिलम पैपिलीओ-लाओटियस रखा है.

यह एक बेहद दुर्लभ पौधा है.

एक पुरानी फ़ोटो से मिला जिमीकंद

इमेज कॉपीरइट GARETH CHITTENDON

ऊपर की ओर उगने वाला जिमीकंद का पौधा, जिसे दुनिया के कई हिस्सों में एक फल की तरह इस्तेमाल किया जाता है. इस पौधे को सबसे पहले एक तस्वीर में देखा गया जो साल 2002 में क्यू भेजी गई थी. एक दशक से भी अधिक समय के बाद इस पौधे से जुड़े कई नमूनों को मिलाया गया.

बैंगनी रंग के फूल वाले इस पौधे का नाम डायोस्कोरिया हर्तेरी रखा गया जो कि दक्षिण अफ्रीका के क्वाज़ुलुलु-नटाल के छह स्थानों पर पाया गया. ये विलुप्त होने की प्रजातियों में शामिल है.

वियतनाम का थरथराने वाला फूल

इमेज कॉपीरइट SADIE BARBER

ये एक नई प्रजाति का पौधा है जिसका नाम ओरियोचेरिस ट्राईब्रेक्टिटा रखा गया है. इसे उत्तरी वियतनाम में देखा गया. बाद में वैज्ञानिकों ने इसे ब्रिटेन में भी उगाया.

वर्षावन के पेड़

पश्चिमी अफ्रीका के वर्षावन में एक पेड़ को बढ़ते देखा गया. बसंत ऋतु में इस पेड़ पर गुलाबी रंग के फूल देखे गए. इस पौधे का नाम तालबोटेला चीकी रखा गया और विज्ञान की दुनिया साल 2015 तक इससे अनजान थी.

मसालों का पेड़

इमेज कॉपीरइट THAISVASCONSCELOS3

पिमेंटा बर्सिलिया नामक इस पेड़ का संबंध आलस्पाइस (ये काली मिर्च जैसा मसाला है) से है जो खाने में प्रयोग होने वाले मसाले के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है. इसके अलावा इसका प्रयोग सौंदर्य उत्पादों में भी होता है.

गुलाबी फूल वाला पौधा

इमेज कॉपीरइट MT MARTINEZ

गुलाबी फूल वाला ये पौधा बोलिविया की घाटी में देखा गया था.

विलुप्त पेड़

कैमरून में पाया जाने वाला एक पेड़ वेप्रिस बाली केवल बामेंडा की पहाड़ियों के जंगलों में ही देखने को मिलता था. ऐसा माना जाता है यहां हुए निर्माण कार्यों की वजह से यह पेड़ विलुप्त हो गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार