'दुनिया के सबसे बड़े विमान' ने पहली बार भरी उड़ान

  • 14 अप्रैल 2019
विमान इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption दो एयरक्राफ़्ट बॉडी वाले विमान में छह इंजन हैं

पंखों के लिहाज़ से दुनिया के सबसे बड़े विमान ने पहली बार उड़ान भर ली है.

स्ट्रेटोलॉन्च नामक कंपनी ने इसे बनाया है. इस कंपनी को दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ़्टवेयर निर्माता कंपनियों में से एक माइक्रोसॉफ़्ट के सह-संस्थापक पॉल एलन ने 2011 में बनाया था.

इस विमान को वास्तव में सेटेलाइट के लॉन्च पैड के रूप में तैयार किया गया है. इस विमान का मुख्य उद्देश्य अंतरिक्ष में सेटेलाइट को छोड़ने से पहले 10 किलोमीटर तक उड़ना है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस विमान के 385 फ़ुट लंबे पंख किसी अमरीकी फ़ुटबॉल मैदान के जितने बड़े हैं.

अगर यह परियोजना सफल होती है तो अंतरिक्ष में किसी चीज़ को भेजना ज़मीन से रॉकेट से भेजने से ज़्यादा सस्ता हो जाएगा.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस विमान में दो एयरक्राफ़्ट बॉडी हैं जो आपस में जुड़ी हैं और इसमें छह इंजन हैं. यह विमान अपनी पहली उड़ान में 15 हज़ार फ़ुट की ऊंचाई तक गया और इसकी अधिकतम गति 170 मील प्रति घंटा रही.

विमान उड़ान वाले पायलट इवन थॉमस ने पत्रकारों से कहा कि यह 'अद्भुत' था और 'जैसी उम्मीद की गई थी विमान उसी तरह से उड़ा.'

स्ट्रेटोलॉन्च की वेबसाइट के अनुसार, 'जिस तरह से आज व्यावसायिक उड़ान पकड़ना आम बात है उसी तरह से अंतरिक्ष की कक्षा में जाना' उद्देश्य है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ब्रिटिश अरबपति रिचर्ड ब्रेंसन की कंपनी वर्जिन गेलेक्टिक ने भी ऐसा विमान बनाया है जो ऊंचाई से अंतरिक्ष की कक्षा में रॉकेट भेज सकता है.

स्ट्रेटोलॉन्च ने अपने इस विमान को 'दुनिया का सबसे बड़ा विमान' कहा है लेकिन अभी भी ऐसे विमान हैं जो आगे नुकीले हिस्से से लेकर पीछे तक बहुत बड़े हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार