108 मेगापिक्सल वाले स्मार्टफ़ोन की तस्वीर कैसी होगी

  • 7 नवंबर 2019
शाओमी इमेज कॉपीरइट XIAOMI

चीन की टेक कंपनी शाओमी ने दुनिया का पहला ऐसा स्मार्टफ़ोन लॉन्च किया है जो 108 मेगापिक्सल के रियर कैमरे के साथ आएगा.

इस कैमरे के एक्स्ट्रा हाई-रिजॉल्यूशन सेंसर को दक्षिण कोरियाई कंपनी सैमसंग ने डिज़ाइन किया है, जो अब तक किसी भी सैमसंग स्मार्टफोन में इस्तेमाल नहीं किया गया है.

कंपनी का कहना है कि इस कैमरे से बेहद साफ़ तस्वीर खींची जा सकती है जो डिटेल के मामले में बेजोड़ होगी.

हालांकि, इसके हालिया टेस्ट में कुछ और ही बात सामने आ रही है. इसकी तस्वीरों में लो-रिजॉल्यूशन कैमरा स्मार्टफ़ोन की तुलना में डिजिटल डिस्टॉर्शन ज़्यादा है.

अभी शाओमी Mi CC9 प्रो प्रीमियम को सिर्फ़ इसके घरेलू बाज़ार यानि चीन में लॉन्च किया गया है और इसकी शुरुआती कीमत 2,799 युआन यानि लगभग 28 हज़ार रखी गई है.

इमेज कॉपीरइट XIAOMI

शाओमी का कहना है कि वह यही कैमरा सेंसर कंपनी Mi नोट 10 में भी इस्तेमाल करेगी जिसे इसी हफ़्ते कंपनी लॉन्च करेगी. इस स्मार्टफोन की बिक्री अंतरराष्ट्रीय स्तर पर की जाएगी.

ये भी पढ़ें- #JioUsers जियो यूज़र्स पर अब क्यों लगेगा IUC चार्ज आईफ़ोन 11 का ट्रिपल कैमरा डराने वाला है?टिकटॉक: क्या फेसबुक को डरना चाहिए?

रिसर्च फ़र्म कैनालिस के मुताबिक़ 9.1% मार्केट शेयर के साथ ये दुनिया की चौथी सबसे ज़्यादा स्मार्टफ़ोन बेचने वाली कंपनी है. शाओमी की बिक्री यूरोप में भी तेज़ी से बिक रही है और भारत में ये सैमसंग को कड़ी टक्कर दे रही है. आने वाले साल यानि 2020 में कंपनी जापान में अपने पैर पसारने की योजना में है.

इमेज कॉपीरइट DXOMARK

ऐसे सेंसर से 'साइड-इफ़ेक्ट'

अब तक 100 से ज़्यादा मेगा पिक्सल के कैमरे मीडियम फॉर्मेट वाले डिजिटल कैमरा में हुआ करते थे जिनकी कीमत हज़ारों पाउंड में हुआ करती थी.

लेकिन, अब बदलते वक़्त के साथ ज़्यादा से ज़्यादा रिज़ॉल्यूशन को छोटे से स्मार्टफोन में एडजस्ट किया जा रहा है. लेकिन ऐसा करने से 'क्रॉस टॉक' होने की संभावना बढ़ जाती है. क्रॉस टॉक एक ऐसी स्थिति होती है जहां एक पिक्सल की इलेक्ट्रिक गतिविधियां दूसरे पिक्सल से टकराने लगती हैं या मिल जाती हैं. इससे जो तस्वीर आती है उसमें डिजिटल नॉइज़ या कहें थोड़ा धुंधलापन होता है.

चूंकि ऐसे कैमरे में एक पिक्सल को साधारण कैमरे के मुताबिक कम जगह मिलती है तो इससे कैप्चर होने वाली लाइट पर भी असर पड़ता है. ऐसे में तस्वीरों में लो-लाइट की समस्या भी हो सकती है.

इमेज कॉपीरइट xiaomi

फोन रिव्यू करने वाली वेबसाइट DXOMark का कहना है कि Mi CC9 प्रो प्रीमियम में टॉप फ़ोन की तुलना में ज़्यादा आर्टिफैक्ट नज़र आ रहे हैं और ये बाकी टॉप मॉडल्स की तुलना में डायनमिक रेंज नहीं देता.

शाओमी ने इससे पहले ऐलान किया था कि वह 108MP कैमरा सेंसर Mi मिक्स अल्फ़ा में देगा जिसे कंपनी ने इस साल सितंबर में लॉन्च किया था. लेकिन इस फ़ोन को लक्ज़री डिवाइस बता कर लॉन्च किया गया जिसकी कीमत रखी गई 19,999 युआन.

जानकारों का कहना है कि इसका फ़ोन कैमरा ही इसे बाज़ार में बाकी फ़ोन से अलग करेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार