माँ और शिशु को जोड़ने वाली गर्भनाल कब काटी जानी चाहिए?

  • 27 नवंबर 2019
बच्चा इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने इसी साल नवंबर महीने की शुरुआत में एक एडवाइज़री जारी की.

मंत्रालय के विशेष सचिव एवं मिशन निदेशक (राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन) मनोज झालानी द्वारा जारी की गई इस एडवाइज़री में गर्भनाल को बांधने और काटने (क्लैंपिंग) से जुड़ी सलाह दी गई है.

यह एडवाइज़री सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को भेजी गई है. इस एडवाइज़री में डिलीवरी के बाद प्लेसेंटा के ख़ुद बाहर आने, उसके बाद क्लैंपिंग और उससे जुड़े फ़ायदों के बारे में सलाह दी गई है.

इमेज कॉपीरइट NAtional Health Mission

क्या है विश्व स्वास्थ्य संगठन की सलाह ?

हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन की वेबसाइट पर कॉर्ड( गर्भनाल) क्लैपिंग को लेकर ऐसी कोई सलाह नहीं है लेकिन डब्ल्यूएचओ भी यह मानता है कि कॉर्ड क्लैंपिंग कम से कम एक मिनट बाद ही की जानी चाहिए.

WHO के मुताबिक, जन्म के वक़्त नवजात शिशु गर्भनाल (अंबिकल कॉर्ड) के द्वारा मां से जुड़ा रहता है. जोकि प्लेसेंटा (इसे भ्रूण की पोषक थैली भी कहते हैं जिसके एक सिरे से गर्भनाल जुड़ी होती है और दूसरा सिरा बच्चे की नाभि से) का एक हिस्सा है.

आमतौर पर बच्चे को प्लेसेंटा से अलग करने लिए अंबिकल कॉर्ड को बांधकर काट दिया जाता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक़, अमूमन कॉर्ड क्लैंम्पिंग (गर्भनाल को बांधना और काटना) के लिए 60 सेकंड का वक़्त लिया जाता है. इसे अर्ली कॉर्ड क्लैंम्पिंग कहते हैं. लेकिन कई बार इसके लिए 60 सेकंड यानी एक मिनट से ज़्यादा का समय भी लिया जाता है, जिसे डिलेड कॉर्ड क्लैंम्पिंग कहते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption गर्भनाल

नाल को जब देर से काटते हैं तो नवजात बच्चे और प्लेसेंटा के बीच खून का प्रवाह बना रहता है, जिससे बच्चे में आयरन का स्तर बढ़ता है और इसका असर बच्चे के जन्म के छह महीने तक बना रहता है. डब्ल्यूएचओ के मुताबिक़, ये उन नवजात बच्चों के लिए ज़्यादा प्रभावी साबित होगा जिन्हें जन्म के बाद अच्छा खानपान मिलना मुश्किल हो.

विश्व स्वास्थ्य संगठन की सलाह है कि गर्भनाल को एक मिनट से पहले नहीं काटने से बच्चे और उसके साथ ही मां की सेहत भी बेहतर रहती है.

साल 2012 में ही विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बच्चे के जन्म को लेकर कुछ सलाह जारी की थीं. जिसके अनुसार, अगर बच्चे को जन्म के बाद वेंटिलेशन की ज़रूरत नहीं है तो कॉर्ड को एक मिनट से पहले नहीं काटा जाना चाहिए.

अगर बच्चे को जन्म के बाद वेंटिलेशन की ज़रूरत है तो कॉर्ड को तुरंत काटा जाना चाहिए और बच्चे को ज़रूरी वेंटिलेशन दिया जाना चाहिए. इसमें देरी करने की सलाह डब्ल्यूएचओ बिल्कुल नहीं देता.

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के राष्ट्रीय सलाहकार प्रोफ़ेसर डॉ. अरुण कुमार सिंह ने कॉर्ड क्लैंपिग पर शोध किया है. वो यह तो मानते हैं कि डिलेड क्लैंपिंग फ़ायदेमंद है लेकिन वो प्लेसेंटा के सेल्फ़ डिस्चार्ज (नेचुरल तरीक़े से बाहर आने) की भी वक़ालत करते हैं.

डिलेड क्लैंपिंग को क्यों माना जाता है बेहतर?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उनके अनुसार, प्राचीन मिस्र के ऐसे बहुत से उदाहरण मिलते हैं जिसमें प्लेसेंटा के नेचुरल तरीक़े से बाहर आने के बाद अंबिकल कॉर्ड काटने की पुष्टि होती है. हालांकि यह बिल्कुल भी स्पष्ट नहीं है कि कब और कैसे यह तरीक़ा बदल गया.

उनका मानना है कि बीते कुछ दशकों में अर्ली कॉर्ड क्लैंपिंग काफी प्रचलित हुआ है और अब यही स्टैंडर्ड भी बन चुका है.

लेकिन फोर्टिस हॉस्पिटल की असोसिएट डायरेक्टर मधु गोयल इस बात से इनक़ार करती हैं. उनका कहना है कि ऐसा नहीं है कि अर्ली कॉर्ड क्लैंपिंग ही की जा रही है. आमतौर पर डॉक्टर डिलेड कॉर्ड क्लैंपिंग ही करते हैं लेकिन अगर गर्भवती महिला की स्थिति सामान्य ना हो या फिर बच्चे को सेहत से जुड़ी कोई दिक़्क़त हो तो अर्ली कॉर्ड क्लैंपिंग की जाती है.

बकौल डॉक्टर मधु "प्रेग्नेंसी के हर केस को एक ही तरीक़े से नहीं देखा जा सकता है. हर केस की अपनी कॉम्प्लिकेशन होती हैं और कई बार डिलीवरी के दौरान परिस्थितियां बदल जाती हैं, ऐसे में एक तय नियम के साथ काम नहीं किया जा सकता."

हालांकि वो ये मानती हैं कि डिलेड क्लैंपिंग बच्चे के लिए फ़ायदेमंद है, क्योंकि इससे बच्चे में खून की कमी नहीं होती और इससे बच्चे के एनिमिक होने का ख़तरा कम रहता है.

जब हमने उनसे इस एडवाइज़री के संदर्भ में पूछा तो उन्होंने यह तो माना कि इस बारे में सुना ज़रूर है लेकिन यह डिलीवरी की प्रचलित विधि नहीं है.

वहीं अमरीकन जर्नल ऑफ़ पेरेंटोनोलॉजी में प्रकाशित स्टडी का हवाला देते हुए डॉक्टर अरुण कुमार सिंह कहते हैं गर्भ में पल रहे बच्चे का बाहरी दुनिया में आना एक बेहद मुश्किल प्रक्रिया है. ऐसे में हर चीज़ का ध्यान रखा जाना ज़रूरी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उनके अनुसार, आज के समय में ज़्यादातर डिलीवरी (क़रीब 70 फ़ीसदी) सी-सेक्शन से ही की जाने लगी है. उनके मुताबिक़, जब एक बच्चे का जन्म होता है तो उसके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों पर ही ध्यान देने की ज़रूरत होती है. ख़ासतौर पर मानसिक स्वास्थ्य के लिए क्योंकि मनुष्य का दिमाग़ शुरुआती हज़ार दिनों में (गर्भावस्था के नौ महीने और उसके बाद के लगभग दो साल) लगभग नब्बे फ़ीसदी विकासित हो जाता है.

वो कहते हैं कि ऐसे में ये ज़रूरी है कि जिस वक़्त बच्चा गर्भ में है और जब गर्भ से बाहर आ रहा है तो उन बातों का विशेष ध्यान रखा जाए जिससे उसके दिमाग़ पर बुरा असर ना पड़े.

डॉक्टर अरुण कुमार सिंह के मुताबिक़, "अब डिलीवरी को लेकर एक अजीब सी हड़बड़ी नज़र आती है जिसमें मां को शुरू में ही ऑक्सीटोसिन हॉर्मोन का इंजेक्शन दे दिया जाता है जबकि यह सब नेचुरल तरीक़े से होना चाहिए. इसे इंडेक्शन ग्युमेंटेशन कहते हैं."

ऑक्सीटोसिन एक नेचुरल हॉर्मोन है जो बच्चे के जन्म के समय मददगार होता है. लेकिन नेचुरल तरीक़े से शरीर में इसका रिसाव तभी होता है जब मां को अनुकूल परिस्थिति मिले.

डॉक्टर सिंह के अनुसार, बच्चे के जन्म के लगभग पांच मिनट के बाद प्लेसेंटा ख़ुद बाहर आ जाता है. यहीं से बच्चा पोषक तत्व के साथ-साथ ऑक्सीजन भी लेता है. लेकिन जब बच्चा गर्भ से बाहर आता है तो उसे हवा से ऑक्सीजन लेनी होती है और उसके फेफड़ों को सक्रिय होने में कम से कम एक मिनट का वक़्त लगता है.

नेचुरल तरीक़े को बेहतर मानने की वजहें

इमेज कॉपीरइट Getty Images

डॉक्टर अरुण कहते हैं कि एक बार जब बच्चा इस बदलाव के अनुरूप ढल जाता है तो प्लेसेंटा भी बाहर निकल आता है. उनका मानना है कि डिलीवरी के बाद प्लेसेंटा के बाहर आने का इंतज़ार करना चाहिए और उसके बाद कॉर्ड क्लैंपिंग करनी चाहिए.

उनका दावा है कि बच्चे के पैदा होने के साथ ही अगर कॉर्ड क्लैपिंग की जाए तो बच्चे की हार्ट-बीट बढ़ जाती है.

हालांकि वो ये ज़रूर कहते हैं कि ये फ़ॉर्मूला हर बच्चे पर लागू नहीं किया जा सकता है क्योंकि हर बच्चे की बर्थ-कंडिशन अलग-अलग होती है. उनका मानना है कि अगर डिलीवरी बिल्कुल नॉर्मल होनी है और किसी भी तरह की परेशानी नहीं है तो इस तरीक़ा अपनाया जा सकता है. लेकिन अगर किसी भी तरह की कॉम्प्लिकेशन है तो डॉक्टर की सलाह से ही आगे बढ़ना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार