साइबेरिया में 18 हज़ार साल से बर्फ़ में दफ़न 'कुत्ते' को देख वैज्ञानिक हैरान

  • 2 दिसंबर 2019
18 साल पुराना दफ़न पिल्ला इमेज कॉपीरइट LOVE DALEN

किसी के मृत शरीर को कुछ दिनों या महीनों तक तो फ्ऱीज़ करके रखा जा सकता है लेकिन साइबेरिया में एक 18 हज़ार साल पुराना कुत्ते का शव मिला है जो इतने सालों इस बर्फ़ीले इलाक़े में दफ़न था.

हालांकि, शोधकर्ता अभी ये पता करने की कोशिश कर रहे हैं कि ये शव कुत्ते का है या भेड़िये का.

वैज्ञानिकों का अनुमान है कि जब इस कुत्ते की मौत हुई थी तो ये दो साल का था.

इमेज कॉपीरइट SERGEY FEDOROV

रेडियोकार्बन थेरेपी से मौत के वक़्त, इस कुत्ते की उम्र और वो कितने सालों से बर्फ़ में दबा था, ये पता किया गया.

हज़ारों साल तक दबे रहने के बावजूद भी इसके शरीर के बाल, नाक और दांत बिल्कुल सही सलामत हैं.

वैज्ञानिकों का कहना है कि इस कुत्ते का शव भेड़ियों और आधुनिक कुत्तों के बीच एक कड़ी का काम कर सकता है.

इमेज कॉपीरइट SERGEY FEDOROV

कुत्ते का नाम डोगर रखा गया

स्वीडन के सेंटर फॉर पेलियोजेनेटिक्स में शोधकर्ता डेव स्टेनटन ने सीएनएन को बताया कि कुत्ते की डीएनए सीक्वेंसिंग से पता चलता है कि वह ऐसी प्रजाति से है जो कुत्तों और भेड़ियों के समान पूर्वज हुआ करते थे.

उन्होंने कहा, ''हमें उस शव से बहुत सारा डाटा मिला है और इतने ज़्यादा डाटा से आप ये पता करने की उम्मीद कर सकते हैं कि वो कुत्ता किस प्रजाति से है.''

इसी सेंटर के एक शोधकर्ता लव डेलन ने एक ट्वीट में सवाल किया है कि क्या ये शव भेड़िये के बच्चे का है या सबसे पुराना कुत्ता मिला है.

इमेज कॉपीरइट LOVE DALEN

इस कुत्ते का नाम डोगर रखा गया है याकुट भाषा में जिसका मतलब होता है दोस्त.

आधुनिक कुत्तों के लिए माना जाता है कि वो भेड़ियों के वंशज हैं लेकिन कुत्ते कब पालतू बने इसे लेकर बहस ज़ारी है.

2017 में प्रकाशित हुए एक अध्ययन में बताया गया था कि कुत्तों को पालतू बनाने की शुरुआत 20 से 40 हज़ार साल पहले हुई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार