नए रूप में सामने आया याहू

याहू का नया होमपेज
Image caption अपने नए होमपेज़ की रीलांचिंग के लिए याहू ने 10 करोड़ डालर का विज्ञापन अबियान चलाया.

इंटरनेट पोर्टल याहू को नई साज-सज्जा के साथ दोबार लॉंच किया गया है. इसके लिए याहू ने 10 करोड़ डॉलर का प्रचार अभियान चलाया.

याहू को उम्मीद है कि रिलॉंचिंग से साइट पर आने वाले लोगों की संख्या और कमाई दोनों में इज़ाफ़ा होगा.

याहू ने नए होमपेज पर अपने प्रतिद्वंदियों को भी जगह दी है. इसका प्रयोग करने वाले लोग अब याहू के होमपेज से फ़ेसबुक और हॉटमेल जैसी वेबसाइटों और पोर्टल पर सीधे जा सकेंगे.

याहू इन दिनों फ़ायदे में चल रही दुनिया की सबसे लोकप्रिय वेबसाइट की अपनी स्थिति बनाए रखने के लिए संघर्ष कर रहा है. इसकी रिलॉंचिंग याहू के नए बॉस कैरोल बाटर्ज़ का पहला क़दम है.

जब याहू ने इस योजना की घोषणा की थी तो कई विश्लेषकों ने इसका मज़ाक उड़ाया था. उनका कहना था कि इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले अधिकांश लोग अब अपनी मनपसंद वेबसाइट पर जाने के लिए पोर्टल की जगह सर्च इंजन का प्रयोग करते हैं.

यूरोप के लिए याहू के वरिष्ठ उपाध्यक्ष रिच रायले कहते हैं, "याहू का उपयोग करने वाले अधिकांश लोग अब भी पोर्टल पर सबसे पहले जाते हैं. यह याहू को विज्ञापनों के लिए सबसे पसंदीदा जगह बनाता है."

रायले कहते हैं कि पहले पन्ने के विज्ञापन काफ़ी प्रभावशाली होते हैं और एक दिन के लिए विज्ञापन के लिए आपको हज़ारों डालर ख़र्च करने पड़ सकते हैं.

विरोधियों को भी जगह

याहू को विश्वास है कि प्रतिद्वंदियों को होमपेज पर जगह देने से उसकी आमदनी में इज़ाफ़ा होगा.

रिच रायले सर्वेक्षणों का हवाला देते हुए कहते हैं कि ब्रिटेन में याहू का इस्तेमाल करने वाले 60 फ़ीसदी लोग इंटरनेट पर अपने काम को व्यवस्थित करने के लिए एक ही जगह सभी सुविधाएँ चाहते हैं.

अमरीका और ब्रिटेन के लोग पहले ही याहू के नए होमपेज का इस्तेमाल शुरू कर चुके हैं लेकिन 23 सितंबर से दुनिया के बाकी देशों के लोग भी इसका लाभ उठा सकेंगे.

याहू के नए होमपेज पर बहुत से वेबसाइटों के लिंक दिए गए हैं. इनमें ख़बरों, मौसम, वित्त, ईमेल, मैसेजिंग और फ़ोटो सर्विस वाली वेबसाइटें शामिल हैं.

याहू विज्ञापनों से होने वाली आय को अपनी सहयोगी वेबसाइटों के साथ भी साझा करेगा.

रिलॉंचिंग के लिए चलाए गए प्रचार अभियान पर याहू ने 10 करोड़ डालर खर्च किए. इस दौरान उसने अमरीका, ब्रिटेन, भारत, फ़्रांस, ब्राजील, दक्षिण कोरिया, ताइवन, इंडोनेशिया, हांगकांग और कनाडा के बाज़ार पर विशेष ध्यान दिया.

संबंधित समाचार