दिमाग को पढ़ लेगा कंप्यूटर

दिमाग़
Image caption शोध का उद्देश्य स्मरणशक्ति से जुड़ी परेशानियों को दूर करना है

ब्रिटेन के एक वैज्ञानिक समूह का कहना है कि उसने एक ऐसा कंप्यूटर प्रोग्राम विकसित कर लिया है जो मानव की स्मृति को पढ़ सकता है.

शोधकर्ताओं के अनुसार मस्तिष्क की गतिविधियों पर नज़र रखकर किसी भी शख़्स की स्मृति यानी याददाश्त को समझा जा सकता है.

वैज्ञानिकों ने अपने शोध को 'ईपीसोडिट मेमोरी' का नाम दिया है, इसका अर्थ होता है, व्यक्तिगत अनुभवों की स्मृति, जिसमें लोग क्या करते आए हैं और उसे कैसा मसहूस किया, इसकी जानकारी होती है.

स्मरणशक्ति

इस शोध का उद्देश्य उन मरीज़ों की मदद करना है जिन्हें स्मरणशक्ति से जुड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

लेकिन वैज्ञानिकों को आशंका है कि इस तकनीक का इस्तेमाल व्यक्ति की जानकारी के बिना ही किया जा सकता है और किसी भी व्यक्ति के दिमाग़ को पढ़ा जा सकता है.

ये शोध 'करंट बायोलॉजी' नामक एक प्रतिष्ठित पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.

इससे पहले इन वैज्ञानिकों ने ये शोध किया था कि स्मृति से जुड़ी कुछ बुनियादी चीज़ों को किस तरह डीकोड किया जा सकता है या समझा जा सकता है.

ताज़ा शोध इससे आगे की कड़ी मानी जा रही है.

संबंधित समाचार