एलियंस के अस्तित्व पर हॉकिंग की मुहर

प्रोफ़ैसर स्टीवन हॉकिंग
Image caption स्टीवन हॉकिंग का कहना है कि मानव को दूसरे ग्रहों के प्राणियों से सम्पर्क करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए

इस ब्रह्मांड के दूसरे ग्रहों में प्राणी अवश्य ही हैं लेकिन लोगों को उनसे बचकर रहना चाहिए. ये चेतावनी है ब्रिटेन के जाने-माने वैज्ञानिक स्टीवन हॉकिंग की.

टेलीविज़न के डिस्कवरी चैनल पर एक सिरीज़ दिखाई जा रही है जिसमें स्टीवन हॉकिंग ने माना कि यह पूरी तरह से तार्किक है कि बौद्धिक प्राणी अन्य ग्रहों पर भी होंगे.

उन्होंने कहा कि संभव है कि वो संसाधनों की तलाश में पृथ्वी पर हमला करें और फिर आगे बढ़ जाएं.

उन्होने कहा, "अगर एलियन पृथ्वी पर आते हैं तो उसका वैसा ही परिणाम होगा जैसा कोलम्बस के अमरीका पहुंचने पर वहां के मूल निवासियों का हुआ था".

स्टीवन हॉकिंग मानते हैं कि दूसरे ग्रहों के प्राणियों से संपर्क करने की कोशिश करने से बेहतर ये होगा कि हम उससे बचें.

इसकी व्याख्या करते हुए उन्होने कहा, "इसके लिए हमें अपने आपको देखने की ज़रूरत है कि बौद्धिक जीव का विकास उस शक्ल में हो सकता है जिससे हम न मिलना चाहें".

अतीत में मानव ने अंतरिक्ष में ऐसे खोजी यान भेजे हैं जिनमें मानव के नक्काशीदार चित्र और पृथ्वी की स्थिति बताने वाले नक्शे रखे हुए थे.

इसके अलावा अंतरिक्ष में रेडियो संकेत भी भेजे गए हैं जिससे वो किसी एलियन सभ्यता तक पहुंच सकें.

स्टीवन हॉकिंग ने कहा कि इस ब्रह्मांड में अनगिनत आकाशगंगाएं हैं इसलिए यह सोचना कि उनमें कहीं न कहीं जीवन होगा बिल्कुल तार्किक है.

उन्होंने कहा, "सबसे बड़ी चुनौती यह पता करना है कि वो देखने में कैसे होंगे".

डिस्कवरी चैनल पर दिखाई जाने वाली इस सिरीज़ में कई तरह के जीवों की कल्पना की गई है जिनमें दो पैरों पर चलने वाले शाकाहारी जीव से लेकर शिकार करने वाले छिपकलीनुमा जीव शामिल हैं.

लेकिन स्टीवन हॉकिंग का मानना है कि इस ब्रह्मांड में जीवन साधारण सूक्ष्म जीवाणुओं वाला ही होगा.

हमारे सौर मंडल पर तैयार की गई बीबीसी की एक सिरीज़ में मैनचैस्टर विश्वविद्यालय में भौतिकी के प्रोफ़ेसर ब्रायन कॉक्स ने कहा था कि हमारे सौर मंडल में भी जीवन हो सकता है.

उनका कहना था कि बृहस्पति ग्रह के एक चंद्रमा यूरोपा में जो बर्फ़ की परतें जमा हैं उनके नीचे सूक्ष्म जीव हो सकते हैं.

संबंधित समाचार