अंतरिक्ष में न्यूटन के सेब का पेड़

न्यूटन के प्रख्यात सेब के पेड़ का टुकड़ा
Image caption न्यूटन के ऐतिहासिक सेब के पेड़ का ये टुकड़ा इस साल प्रदर्शनी में रखा जाएगा

महान वैज्ञानिक सर आइज़क न्यूटन को गुरुत्वकर्षण बल के खोज की प्रेरणा देना वाला मशहूर सेब का पेड़ अब उसी गुरूत्वाकर्षण बल की अवहेलना करने वाला है.

इस प्रख्यात सेब के पेड़ का एक टुकड़ा नासा के अगले अभियान में अंतरिक्ष ले जाया जाएगा.

ये टुकड़ा सामान्यतः रॉयल सोसायटी के संग्रहालय में रहा करता है जिसे अब ब्रिटेन में जन्मे अंतरिक्षयात्री डॉक्टर पियर्स सेलर्स को दिया गया है जो इसे अंतरिक्ष में ले जाएँगे.

नासा का रॉकेट अटलांटिस 14 मई को छह अंतरिक्षयात्रियों को लेकर अंतरिक्ष रवाना होने वाला है.

अटलांटिस 12 दिनों के अंतरिक्ष अभियान पर जा रहा है और समझा जा रहा है कि नासा का ये अंतिम अंतरिक्ष अभियान होगा.

गर्व का क्षण

Image caption सर आइज़ैक न्यूटन ने लगभग सवा तीन सौ साल पहले गुरूत्वाकर्षण की खोज की थी

ब्रिटेन की वैज्ञानिक संस्था रॉयल सोसायटी की 350वीं वर्षगांठ पर न्यूटन के सेब के पेड़ के टुकड़े को अंतरिक्ष भेजा जा रहा है.

अटलांटिस न्यूटन की एक तस्वीर को भी अंतरिक्ष लेकर जाएगा जिसे रॉयल सोसायटी ने ही दिया है.

रॉयल सोसायटी के अध्यक्ष लॉर्ड रीस ने कहा,"हमें ये सोचकर बहुत ख़ुशी और गर्व हो रहा है कि वैज्ञानिक इतिहास का एक ऐसा असाधारण हिस्सा अंतरिक्ष की ऐसी ऐतिहासिक यात्रा पर जा रहा है."

उन्होंने बताया कि सेब के पेड़ के इस टुकड़े और तस्वीर को इस साल रॉयल सोसायटी के इतिहास के बारे में होनेवाली एक प्रदर्शनी में दिखाया जाएगा और बाद में इसे स्थायी तौर पर संस्था में प्रदर्शन के लिए रख दिया जाएगा.

अंतरिक्ष भेजे जाने के लिए वैज्ञानिक डॉक्टर पियर्स सेलर्स का चुनाव 1996 में हुआ था.

न्यूटन के ऐतिहासिक सेब के पेड़ के टुकड़े को अंतरिक्ष ले जाने की बात से डॉक्टर सेलर्स भी बेहद प्रसन्न हैं.

डॉक्टर सेलर्स कहते हैं,"मुझे पूरा विश्वास है कि सर आइज़ैक भी ये देखकर ख़ुश होते."

न्यूटन

1643 में जन्मे ब्रिटिश वैज्ञानिक सर आइज़ैक न्यूटन को अपने समय के महानतम वैज्ञानिकों में गिना जाता है.

भौतिकशास्त्री और गणितज्ञ न्यूटन ने 1687 में अपने खगोलविद् साथी एडमंड हेली के साथ मिलकर मैथेमेटिकल प्रिंसिपल्स ऑफ़ नैचुरल फ़िलोसॉफ़ी नामक कृति लिखी थी.

इस कृति में पहली बार ब्रह्मांड में गुरूत्वाकर्षण के महत्व को समझाया गया था.

न्यूटन ने गुरूत्वाकर्षण की खोज के लिए गिरते सेब से प्रेरणा मिलने की बात एक विद्वान विलियम स्टुकली को बताई थी जिन्होंने 1752 में न्यूटन की जीवनी में इस घटना का उल्लेख किया था.

संबंधित समाचार