एपल बनी नंबर वन कंपनी

  • 27 मई 2010
Image caption एपल कंप्यूटर, आईपॉड, आईफ़ोन और आईपैड बनाता है

माइक्रोसॉफ़्ट को पछाड़ एपल विश्व की सबसे बड़ी टेक्नॉलॉजी कंपनी बन गई है.

निवेशकों ने माइक्रोसॉफ़्ट की कीमत 219 अरब डॉलर आँकी है जबकि बुधवार को शेयर बाज़ार पर एपल की कीमत 222 अरब डॉलर थी.

इसे मार्केट कैपेटेलाइज़ेशन कहते हैं.इसका मूल्यांकन शेयर की वर्तमान कीमत को कंपनी के शेयरों की संख्या से गुना करके निकाला जाता है.

एपल कंप्यूटर, आईपॉड, आईफ़ोन और आईपैड बनाता है. 90 के दशक में ऐसा समय भी आया था जब एपल का कारोबार लगभग चौपट हो गया था.

2001 में जब आईपैड आया तो एपल में विकास का दौर शुरु हुआ. इससे पहले 1989 में ऐसा हुआ था कि एपल माइक्रोसॉफ़्ट से आगे था.

आईपैड की धूम

विश्व के ज़्यादातर लोग अपने कंप्यूटरों पर माइक्रोसॉफ़्ट का ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल करते हैं. लेकिन 90 के दशक के अपने बेहतरीन दौर के मुकाबले कंपनी की विकास दर अब उतनी अच्छी नहीं है.

हालांकि माइक्रोसॉफ़्ट में सेल्स के पिछले आँकड़ें एपल से ज़्यादा थे.

इस हफ़्ते ब्रिटेन समेत नौ देशों में एपल का आईपैड टेबलेट कंप्यूटर लॉन्च किया जाएगा.

जबकि अगले महीने आईफ़ोन का अगला जेनरेशन लोगों के सामने पेश किया जाएगा. इससे लोगों को चलते-फिरते, आते-जाते इंटरनेट की सुविधा का फ़ायदा मिलने लगा है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार