वैज्ञानिकों ने खोजे सूर्य से बड़े तारे

आर136ए
Image caption एक तारे का द्रव्यमान हमारे सूर्य से 265 गुना अधिक है.

वैज्ञानिकों ने कुछ विशालकाय सितारों की खोज की है. ये भारी-भरकम तारे इतने बड़े हैं जितने वैज्ञानिकों ने कभी कल्पना भी नहीं की थी.

इनमें से एक तारा जिसे सामान्य तौर पर आर136ए के नाम से जाना जाता है, अब तक खोजे गए तारों में सबसे बड़ा है.

इसका द्रव्यमान हमारे सूर्य से 265 गुना अधिक है. ताज़ा अध्ययनों से पता चलता है कि जन्म के समय यह और बड़ा रहा होगा.

बौना दिखेगा सूर्य

ब्रिटेन के शेफ़ील्ड विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर पॉल क्राउथर कहते हैं कि शायद इसका वज़न हमारे सूर्य से 320 गुना अधिक था.

उन्होंने बीबीसी से कहा, ''अगर इसे हमारे सूर्य के स्थान पर रख दिया जाए तो यह उसी तरह से चमकेगा जिस तरह से पूर्णिमा के चंद्रमा की तुलना में हमारा सूर्य चमकता है.''

इन तारों की पहचान प्रोफ़ेसर पॉल क्राउथर की टीम ने की. इस खोज में चिली में लगाई गई एक बड़ी दूरबीन और अंतरिक्ष में लगाई गई हबल दूरबीन से पहले भेजे गए आंकड़ों के विश्लेषण से की गई.

वैज्ञानिकों के इस समूह ने अंतरिक्ष में एनजीसी 3603 और आरएमसी 136ए के नाम से मशहूर क्षेत्र का अध्ययन किया.

एनजीसी 3603 पृथ्वी से 22 हज़ार प्रकाश वर्ष दूर है. वहीं आमतौर पर आर136 के नाम से जाना जाने वाला आरएमसी 136ए तो और भी दूर है.

इस दल ने पाया कि इन तारों के सतह का तापमान 40 हज़ार डिग्री से अधिक है जो कि हमारे सूर्य के ताप से सात गुना अधिक है.

इस अध्ययन से पता चलता है कि ये तारे अविश्वसनीय रूप से अत्यधिक चमकदार, बड़े और व्यापक हैं. आर136ए की त्रिज्या तो हमारे सूर्य की त्रिज्या से 30 गुना अधिक है.

संबंधित समाचार