आईपैड की टक्कर में ब्लैकबेरी प्लेबुक

ब्लैकबेरी प्लेबुक

ब्लैकबेरी मोबाइल फ़ोन बनाने वाली कंपनी ने एपल आई-पैड के मुक़ाबले में एक नया उपकरण मैदान में उतारने की घोषणा की है.

कंप्यूटर की तरह के इस टच-स्क्रीन टैबलेट का नाम प्लेबुक रखा गया है.

कनाडा की कंपनी रिसर्च इन मोशन (रिम) ने सैन फ़्रांसिस्को में एक कॉंफ़्रेंस में मंगलवार को इसका उदघाटन किया.

ये नया उपकरण अगले साल उपभोक्ताओं के लिए बाज़ार में होगा.

बीबीसी के तक़नीकी मामलों के संवाददाता मार्क ग्रीगोरी का कहना है कि आई-पैड के मुक़ाबले में ब्लैकबेरी के नए उपकरण की स्क्रीन छोटी है लेकिन यह एपल के उपकरण के मुक़ाबले हल्का है.

उनका कहना है, "इसका मतलब ये हुआ कि ये उन व्यवसायिक लोगों को अपनी ओर आकर्षित करेगा जो एक जगह नहीं रहते और जो लोग ब्लैकबेरी ख़रीदते हैं."

उनका कहना है कि पहले छह महीने में लगभग 60 लाख आईपैड की बिक्री हुई थी इसलिए ये कहा जा सकता है कि ब्लैकबेरी बनाने वाली कंपनी रिसर्च इन मोशन (रिम) वाले ऐपल के बाज़ार में सेंध लगाना चाहते हैं.

मुक़ाबला

उन्होंने बताया कि जो उपकरण रिम लेकर आ रहा है वह आई-पैड से अलग है, इसमें फ़्लैश वीडियो चलता है जो इंटरनेट पर काफ़ी लोकप्रिय भी है.

इसके विपरीत एपल के उपकरण पर फ़लैश नहीं चलता है क्योंकि वीडियो तक़नीक के मैदान में काम करने वाली कंपनी अडोब का 'एपल' के साथ झगड़ा है.

Image caption इस नए उपकरण में वीडियो चलाने की सहूलत है.

रिम के मुख्य कार्यकारी माइक लज़ारिडिस ने कहा, "ये हमारे इतिहास के सबसे रोचक लम्हों में से एक है."

उन्होंने कहा, "रिम ने अपने इंजीनियरों से एक ऐसा उपकरण बनाने के लिए कहा जो इस उद्योग में सबसे आगे हो और जो ज़बरदस्त हो, जिसके ऑप्रेटिंग सिस्टम में काफ़ी लचीलापन हो."

विश्लेषकों का मानना है कि ब्लैकबेरी वालों का ये नया उपकरण प्लेबुक दूसरे सारे प्रतिद्वंदवियों के उपकरणों से आगे है और इससे एपल को कड़ी चुनौती मिलेगी.

लेकिन उनका ये भी कहना है कि इसे बाज़ार में आला उपभोक्ता मिल जाएंगे लेकिन ये सीधे-सीधे एप्पल को ख़त्म नहीं करेगा.

मोबाइल तक़नीक की वेबसाईट पॉकेटलिंट के संपादक स्टूवार्ट माइल्स ने बीबीसी से कहा, "रिम का ब्लैकबेरी प्लेबुक आइ-पैड के लिए वास्तविक चुनौती के तौर पर नज़र आ रहा है जिसकी नज़र आईपैड की व्यवसायिक साख पर है. ये सिर्फ़ एक ख़ुशी देने वाली मशीन नहीं है."

बहरहाल, इस नए उपकरण प्लेबुक का लोगों को बेसबरी से इंतिज़ार है.

संबंधित समाचार