दवा खाने से एचआईवी संक्रमण का ख़तरा घटता है

एचआईवी वायरस इमेज कॉपीरइट SPL
Image caption ये शोध तीन महाद्वीपों में 1763 दंपत्तियों पर हुआ

एक नए शोध से पता चला है कि यदि एचआईवी से संक्रमित पुरुष और महिलाएँ सेहतमंद रहते हुए ही इलाज शुरु करें और एंटी-रोट्रोवायरल दवाएँ खानी शुरु कर दें और उनका किसी अन्य व्यक्ति को संक्रमित करने का ख़तरा बहुत घट जाता है.

इस अध्ययन के अनुसार ऐसी स्थिति में संक्रमण का ख़तरा 96 फ़ीसदी तक घट सकता है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे एचआईवी संक्रमित लोगों के इलाज में एक महत्वपूर्ण क़दम बताया है.

एड्स से लड़ रहे राहत संगठनों ने इस शोध को ऐसे सबूत बताया है जिन्हें विश्व नज़रअंदाज़ नहीं कर सकता है.

शोध की प्रक्रिया

अमरीका के राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थानों ने 1763 दंपत्तियों के नमूने जाँचें जिनमें में से कम से कम एक एचआईवी संक्रिमित था.

ये अध्ययन 2005 में शुरु हुआ था और अफ़्रीका, एशिया और अमरीकी महाद्वीप में लोगों पर शोध किया.

एचआईवी संक्रमित लोगों को दो ग्रुपों में बांटा गया और एक ग्रुप को तत्काल एंटी-रेट्रोवायरल दवाएँ दी गईं.

दूसरे ग्रुप के लोगों को दवा तब दी गई जब उनके ख़ून में व्हाइट ब्लड सेल्स की संख्या गिरनी शुरु हुई.

जबकि पहले ग्रुप में केवल एक ही व्यक्ति ने अपने पार्टनर को संक्रमित किया, वहीं दूसरे ग्रुप में संक्रमण के 27 मामले सामने आए.

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि नए एचआईवी संक्रमण में 80 प्रतिशत यौन संबंध के कारण होते हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन की महानिदेशक मार्ग्रेट चैन ने कहा, "इस शोध से जो जानकारी मिली है उसे हमारे संगठन की ओर से जुलाई में एचआईवी संक्रमित लोगों के साथ रह रहे लोगों को सलाह देने में और मदद मिलेगी."

संबंधित समाचार