अटलांटिस की अंतिम उड़ान की तैयारी

अटलांटिस का चालक दल इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अटलांटिस के साथ ही नासा ये उड़ानें रोक देगा और निजी कंपनियाँ मैदान में उतरेंगी

अमरीकी अंतरिक्ष संगठन नासा के अंतरिक्ष यानों की अंतिम उड़ान के लिए अंतिम तैयारियाँ ज़ोरों पर हैं और शुक्रवार को होने वाली इस उड़ान के चालक दल के सदस्य फ्लोरिडा पहुँच चुके हैं.

नासा अब अपने अंतरिक्ष यानों को रिटायर कर रहा है ताकि निजी कंपनियाँ अब इस मैदान में अपनी सेवाएँ मुहैया करा सकें.

अटलांटिस यान शुक्रवार को कैनेडी अंतरिक्ष केंद्र से छोड़ा जाएगा जिसके लिए तीन पुरुष और एक महिला अंतरिक्ष यात्री अंतिम तैयारियाँ कर रहे हैं.

ये उड़ान स्थानीय समय के अनुसार 11:26 (15:26 जीएमटी) बजे होगी जिसे देखने के लिए भारी भीड़ इकट्ठा हो रही है.

इस अंतिम उड़ान में अटलांटिस यान पर साढ़े तीन टन भोज सामग्री भेजी जाएगी जो अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र में मौजूद वैज्ञानिकों को एक साल के लिए पर्याप्त होगी.

ये सामग्री भेजे जाने के बाद नासा को इस बात की ज़्यादा चिंता नहीं रहेगी कि निजी और व्यावसायिक कंपनियाँ अगर अपनी ज़िम्मेदारियों को पूरा करने में कुछ मुश्किलें महसूस करती हैं तो अंतरिक्ष केंद्र में मौजूद अंतरिक्ष वैज्ञानिकों को किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा.

अटलांटिस में चार वैज्ञानिक सवार होंगे जिनमें कमांडर क्रिस फ़रग्यूसन, पायलट डॉ हरली और मिशन विशेषज्ञ सैंडी मैगनस और रेक्स वॉलहीम होंगे. ये वैज्ञानिक टैक्सस के ह्यूस्टन स्थित अपने प्रशिक्षण केंद्र से कैनेडी पहुँच चुके हैं.

इतिहास और ख़ुशी

चार जुलाई को अमरीका का स्वतंत्रता दिवस था इसलिए इन वैज्ञानिकों ने फोटोग्राफ़र्स के सामने देश का झंडा लहराने में कोई झिझक नहीं दिखाई.

ये वैज्ञानिक इस बात को लेकर बहुत ख़ुश हैं कि नासा की अंतिम शटल उडा़न के लिए अटलांटिस यान को चुना गया है.

Image caption अटलांटिस को कैनेडी के दर्शक परिसर में रख दिया जाएगा

आठ जुलाई को अंतरिक्ष के लिए 135वीं यान उड़ान होगी और अटलांटिस की ये 33वीं उड़ान होगी.

इस उड़ान के बाद कुल 135 अंतरिक्ष मिशन पूरे हो जाएंगे जिनके लिए 355 लोगों ने 852 बार उड़ान भर ली होगी. पहला अंतरिक्ष यान 12 अप्रैल 1981 को उड़ा था.

अंतरिक्ष कार्यक्रम के दौरान पृथ्वी की कक्षा का चक्कर लगाने वाले यानों ने कुल मिलाकर 864,401,200 किलोमीटर (537,114,016 मील) का सफ़र तय किया है जो तीन बार पृथ्वी से सूरज तक जाने और वापिस लौटने के बराबर है.

अटलांटिस यान इस सफ़र में क़रीब 65 लाख किलोमीटर (40 लाख मील) और जोड़ देगा.

इस अंतिम दौर को शुरू करने वाला पहला यान डिस्कवरी था जिसने मार्च 2011 में अपनी अंतिम उड़ान भरी थी. उसके बाद एंडीवर को भी एक जून को अंतिम उड़ान के बाद संग्रहालय में रख दिया गया है.

इन उड़ानों के बाद सभी अंतरिक्ष यानों को संग्रहालय में पहुँचाया जा रहा है. अटलांटिस को अंतिम उड़ान के बाद कैनेडी अंतरिक्ष केंद्र के दर्शक परिसर में रखा जाएगा.

संबंधित समाचार