उच्च रक्तचाप से जुड़े जीन कोड मिले

  • 12 सितंबर 2011
इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK
Image caption अध्ययन में दो लाख लोगों से लिए गए आंकड़ों का विश्लेषण किया गया.

दुनिया के 24 देशों के वैज्ञानिकों के एक अंतरराष्ट्रीय दल ने आनुवांशिक कोड (जीन का कोड) के 20 से अधिक वर्गों को हाई ब्लड प्रेशर यानी उच्च रक्तचाप से जोड़ा है.

'नेचर' और 'नेचर जेनेटिक्स' नाम की विज्ञान पत्रिकाओं में प्रकाशित इस अध्ययन के मुताबिक करीब सभी लोगों में यह असंगति पाई जाती है. शोधकर्ताओं को विश्वास है कि उनके इस अध्ययन से इलाज के नए तरीके खोजने करने में मदद मिलेगी.

वहीं ब्रिटिश हार्ट फाउंडेशन का कहना है कि अच्छे रक्चाप की कुंजी अभी भी जीवन शैली ही है.

आनुवांशिक कारण

बीबीसी के स्वास्थ्य मामलों के रिपोर्टर जेम्स गैलाघर का कहना है कि इस अध्ययन के मुताबिक मोटापा, व्यायाम और खाने में नमक की मात्रा की वजह से किसी परिवार में उच्च रक्तचाप की संभावना बनी रह सकती है.

उच्च रक्तचाप के लिए आमतौर पर जीवन शैली के ख़तरों को जिम्मेदार माना जाता है लेकिन आनुवांशिक कारणों को कम करके आंका जाता है.

शोधकर्ताओं का कहना है कि उन्होंने अब जीन की भूमिका को समझने की राह को आसान बना दिया है.

इससे पहले अध्ययन में दुनिया के 24 देशों के वैज्ञानिकों ने दो लाख लोगों से लिए गए आंकड़ों का विश्लेषण किया. इस दौरान उन्होंने जीनोम में रक्त चाप से जुड़े 16 बिंदुओं की पहचान की.

अध्ययन से जुड़े लंदन मेडिकल स्कूल के प्रोफ़ेसर मार्क कॉलफ़िल्ड कहते हैं, "एक आनुवांशिक विसंगति कम से कम पाँच फ़ीसद लोगों में पाई गई. वहीं कुछ आम विसंगतियां तो 14 फ़ीसदी से अधिक लोगों में मौज़ूद थीं."

रक्तचाप के आनुवांशिक कारणों पर से पर्दा उठने से इसकी शारीरिक प्रक्रियाओं का पता चला है जिसे एक दिन दवाओं से ठीक किया जा सकेगा.

प्रोफ़ेसर कॉलफ़िल्ड कहते हैं, "शोध के इन निष्कर्षों को प्रयोगशाला से क्लिनिक में ले जाने की पर्याप्त क्षमता है."

शोधकर्ताओं का कहना है कि वे अब तक रक्तचाप में आनुवांशिक योगदान का केवल एक फ़ीसदी हिस्सा ही खोज पाए हैं.

'नेचर जेनेटिक्स' में प्रकाशित एक दूसरे अध्ययन में आनुवांशिक कोड के छह नए हिस्सों की पहचान की गई है.

ब्रिटिश हार्ट फ़ाउंडेशन के मेडिकल निदेशक प्रोफ़ेसर पीटर विसबर्ग कहते हैं, "दुनिया भर के शोधकर्ताओं ने रक्तचाप पर नियंत्रण करने वाले जीन की पहचान की है, यह भविष्य में रक्तचाप के इलाज का रास्ता खोलेगा."

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार