अब ऐप नहीं बताएगा वो लड़की है कहाँ...

गर्ल्ड अराउंड मी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption फ़ोरस्क्वायर और फ़ेसबुक जैसी जगहों पर मौजूद सार्वजनिक जानकारी का इसमें इस्तेमाल किया गया

सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट पर 'चेक इन' करने यानी किसी विशेष जगह अपनी मौजूदगी की सूचना देने वाली लड़कियों और महिलाओं की जानकारी सार्वजनिक करने वाला मोबाइल ऐप्लिकेशन कई शिकायतों के बाद हटा लिया गया है.

रूसी डेवलपर आई-फ़्री का 'गर्ल्स अराउंड मी' नाम का ये ऐप्लिकेशन या मोबाइल ऐप फ़ोरस्क्वायर ऐप की ओर से सार्वजनिक जानकारी का इस्तेमाल कर रहा था.

दरअसल फ़ोरस्क्वायर एक ऐसा सोशल नेटवर्क ऐप है जो ये जानकारी दर्ज करता है कि उसे इस्तेमाल करने वाला कहाँ मौजूद है.

उसकी इस जानकारी का इस्तेमाल 'गर्ल्स अराउंड मी' ऐप कर रहा था मगर अब फ़ोरस्क्वायर ने ये जानकारी उसे देने से रोक दिया है.

उधर आई-फ़्री कंपनी के एक प्रतिनिधि ने कहा कि उस मोबाइल ऐप के प्रति लोगों की प्रतिक्रिया काफ़ी 'गंभीर ग़लतफ़हमी' का नतीजा है.

'बलि का बकरा'

वॉल स्ट्रीट जर्नल को ई-मेल से भेजे बयान में कंपनी ने कहा है, "निजता से जुड़ी चिंताओं के आधार पर किसी को बलि का बकरा बनाना उचित नहीं है."

बयान के अनुसार "गर्ल्स अराउंड मी ऐप ऐसी कोई भी जानकारी नहीं देगा जो उसका इस्तेमाल करने वालों के लिए पहले से उपलब्ध नहीं हो और न ही वह ऐसी जानकारी लोगों को दे रहा है जो इस्तेमाल करने वाले ने सार्वजनिक न की हो."

कंपनी ने बताया कि उसने अब ये ऐप हटा दिया है. दरअसल ये ऐप फ़ोरस्क्वायर से जानकारी लेता है और फ़ोरस्क्वायर ऐसी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट है जहाँ लोग किसी दुकान या बार जैसी जगह पर अपनी मौजूदगी की जानकारी सार्वजनिक कर देते हैं.

अमरीका में ये ऐप काफ़ी लोकप्रिय है जहाँ बार या दुकानों पर जाकर अपनी वहाँ मौजूदगी की जानकारी सार्वजनिक तौर पर दर्ज कराने पर उन्हें ख़ास डील मिलती है.

'जागरूकता की ज़रूरत'

इसके अलावा ये ऐप फ़ेसबुक जैसी वेबसाइट से भी जानकारियाँ ले रहा था, जिससे लोगों के आस-पास मौजूद लड़कियों या महिलाओं की तस्वीरें और उनकी जानकारियाँ एक मानचित्र पर दिखने लगती थीं.

अब अगर फ़ेसबुक या फ़ोरस्क्वायर पर अपनी जानकारी किसी लड़की या महिला ने छिपाकर नहीं रखी है और सबके देखने के लिए सार्वजनिक कर रखी है तो वो जानकारी इस ऐप के ज़रिए लोग देख सकते थे. उसमें उनकी तस्वीरों से लेकर वो किसी के साथ संबंध में हैं या नहीं ये भी शामिल होता था.

इसके बाद कई ब्लॉगरों ने इसे खतरे की घंटी और जागने का समय बताया है.

ब्लॉगर जॉन ब्राउनली ने लिखा, "गर्ल्स अराउंड मी ऐसा ऐप नहीं है जिसके ज़रिए आप लड़कियों या लड़कों के साथ दोस्ती की शुरुआत कर सकें. दरअसल आपको इसे डाउनलोड करके वहाँ पर जिन लोगों की जानकारी उपलब्ध है उन्हें सबक सिखाना चाहिए कि वे अपनी जानकारी सार्वजनिक करके किस तरह का ख़तरा उठा रहे हैं."

अब ये ऐप बनाने वालों ने कहा है कि वे इस पर और काम करके देखेंगे कि सिर्फ़ वही सूचनाएँ सार्वजनिक हों जो लोग सार्वजनिक जगहों पर जाकर लोगों के लिए उपलब्ध कराते हैं. मगर जब तक फ़ोरस्क्वायर आई-फ़्री को अपने पास से ये जानकारी नहीं देता तब तक ये संभव नहीं हो पाएगा.

संबंधित समाचार