अल्जाईमर्स जीन का डायबिटीज से संबंध

  • 15 जून 2012
Image caption वैज्ञानिकों को डायबिटीज़ और अल्ज़ाईमर्स में संबंध का पता है मगर इसके कारण की जानकारी नहीं है

वैज्ञानिकों का कहना है कि उन्होंने डायबिटीज़ और अल्ज़ाईमर्स बीमारी के बीच जीन संबंध होने के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी मिली है.

ये बात पहले से पता थी कि डायबिटीज़ ग्रस्त लोगों को अल्ज़ाईमर्स होने का ख़तरा अधिक होता है मगर ये पता नहीं है कि ऐसा क्यों है.

अब अमरीकी वैज्ञानिकों ने जेनेटिक्स नामक जर्नल में लिखा है कि वर्म या कीड़ों के बारे में एक अध्ययन से ये संकेत मिला है कि अल्ज़ाईमर्स का एक जीन इंसुलिन के काम करने के तरीके पर असर डालता है.

मस्तिष्क को प्रभावित करनेवाली बीमारी डिमेन्शिया के विशेषज्ञों का कहना है कि इस बारे में अभी और अध्ययन ज़रूरी है. डिमेन्शिया होने का सबसे समान्य कारण अल्ज़ाईमर्स है जिससे ब्रिटेन में 8,20,000 लोग प्रभावित हैं.

अभी ऐसी चिकित्सा उपलब्ध है जिससे कि अल्ज़ाईमर्स होने की गति को धीमा किया जा सकता है मगर इसे पूरी तरह से रोकने का कोई इलाज नहीं है.

अल्ज़ाईमर्स होने का एक महत्वपूर्ण लक्षण रोगी के मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में एमिलॉयड नामक चिपचिपा प्रोटीन बनना है, मगर इसे रोगी की मौत के बाद ही देखना संभव है.

वैज्ञानिकों ने इससे पहले एक जीन में होनेवाले परिवर्तनों का भी पता लगाया है जो एमिलॉयड प्रोटीन को प्रभावित करता है.

नई संभावना

न्यूयॉर्क के सिटी कॉलेज की एक टीम ने इस नए अध्ययन में एमिलॉयड से जुड़े जीन की ही तरह के, नेमैटोड कीड़ों में मिले एक जीन के ऊपर शोध किया.

वैज्ञानिक अध्ययनों में अक्सर इन कीड़ों पर प्रयोग करते हैं क्योंकि कई बार इनसे इंसानों के बारे में शोध में मदद मिलती है.

प्रोफ़ेसर क्रिस ली की अगुआई में शोध कर रहे दल ने पाया कि ये जीन इंसुलिन बनने की प्रक्रिया पर भी असर डालता है यानी ऐसी रासायनिक प्रतिक्रियाओं पर जिनसे कि इन्सुलिन के निर्माण और उसके बाद उसके काम पर असर पड़ता है.

उन्होंने कहा,”टाइप टू श्रेणी के डायबिटीज़ रोगियों को डिमेन्शिया का ख़तरा अधिक होता है. इन्सुलिन बनने के दौरान होनेवाली क्रियाओं से कई चीज़ों पर असर पड़ता है और मस्तिष्क के नर्वस सिस्टम को स्वस्थ रखने में भी ये मददगार होता है.”

प्रोफ़ेसर ली ने कहा कि फ़िलहाल डायबिटीज़ और अल्ज़ाईमर्स के बीच संबंध होने के बारे में निश्चित रूप से कुछ कह पाने के लिए और काम किया जाना ज़रूरी है.

जेनेटिक्स जर्नल के प्रमुख संपादक मार्क जॉन्स्टन ने इस खोज को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा,”हमें पता है कि अल्ज़ाईमर्स और डायबिटीज़ में एक संबंध है, मगर अभी तक ये रहस्य ही है. इस खोज से बीमारी की इलाज और रोकथाम के नए रास्ते खुल सकेंगे“.

संबंधित समाचार