हाइपरसोनिक जेट की उड़ान फिर नाकाम

 गुरुवार, 16 अगस्त, 2012 को 04:00 IST तक के समाचार
वेवराइडर

पहली परीक्षण उड़ान में वेवराइडर नाकाम रहा था

अमरीकी वायुसेना ने कहा है कि उसके हाइपरसोनिक जेट वेवराइडर विमान को 5795 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ाने का परीक्षण नाकाम हो गया है.

इस मानव रहित विमान को ध्वनि की गति से छह गुनी रफ्तार पर उड़ान भरने के लिए तैयार किया गया था, लेकिन अधिकारियों का कहना है कि ये विमान परीक्षण के दौरान नियंत्रण पंखों में खामी के चलते अपने लक्ष्य में कामयाब न हो सका और दुर्घटनाग्रस्त हो कर समंदर में जा गिरा.

अमरीकी वायुसेना के अनुसार उड़ान भरने के चंद सेकंडों के भीतर विमान दुर्घनाग्रस्त हो गया. इसे प्रशांत महासागर में बी-52 बॉमर से छोड़ा गया था.

दूसरी बार नाकामी

ये दूसरा मौका है जब अमरीकी वायुसेना योजना के मुताबिक इस तकनीक का सफल परीक्षण करने में नाकाम रही है.

इससे पहले वेवराइडर ने अपनी पहली परीक्षण उड़ान जून 2011 में भरी थी. तब भी ये अपने लक्ष्य के अनुरूप रफ्तार हासिल नहीं कर पाया था.

वेवराइडर परियोजना उन कई परियोजनाओं में से एक है जिनके तहत हाइपरसोनिक विमान बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं.

इस शोध की मदद से यात्री विमान भी बनाए जा सकेंगे जो मौजूदा जेट विमानों की तुलना में कहीं अधिक तेजी से उड़ेंगे.

अगर भविष्य में हाइपरसोनिक जेट वेवराइडर का परीक्षण सफल होता है तो इससे लंदन से न्यूयॉर्क या फिर दिल्ली से लंदन की दूरी सिर्फ एक घंटे में तय की जा सकती है.

पेंटागन और नासा इस परियोजना का इस्तेमाल मौजूदा प्रक्षेपास्त्रों से ज्यादा तेज प्रक्षेपास्त्र बनाने में करना चाहते हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.