नाहक ही बदनाम है सोमवार

 सोमवार, 27 अगस्त, 2012 को 08:41 IST तक के समाचार

लोगों का कहना है कि वो शुक्रवार को छोड़ कर सभी काम करने वाले दिनों में तनाव में रहते हैं

कहने को तो सोमवार एक नए हफ्ते की शुरुआत होती है, लेकिन छुट्टी के बाद वापस काम पर जाना कम ही लोगों को भाता है. इसलिए सोमवार को अच्छा दिन नहीं माना जाता. लेकिन एक ताजा अध्ययन इस धारणा को गलत बताता है.

इसके मुताबिक कामकाजी लोगों के लिए मंगलवार, बुधवार और गुरुवार भी ठीक वैसे ही हैं जैसा सोमवार.

अमरीकी शोधकर्ताओं के इस अध्ययन में तीन लाख चालीस हज़ार लोगों के मूड का जायजा लिया गया जिससे पता चला कि शुक्रवार को छोड़कर हफ्ते के बाकी कामकाजी दिन उनके लिए एक जैसे ही हैं, चाहे वो सोमवार हो या फिर कोई और दिन.

लेकिन सप्ताह के आखिरी दिन शुक्रवार आते आते वे खुश होते जाते हैं क्योंकि इसके बाद छुट्टी के दो दिन होते हैं.

ग़लत धारणा

"चूंकि रविवार की तुलना में सोमवार को लोगों के मूड में काफी बदलाव दिखाई देता है. इसलिए सोमवार को कुछ ज्यादा ही बदनाम कर दिया गया है"

प्रोफ़ेसर आर्थर स्टोन

अध्ययनकर्ताओं ने 'जर्नल ऑफ पॉजिटिव साइकॉलोजी' को बताया कि सोमवार के बारे में जो आम धारणा है, उसे बदला जाना चाहिए.

स्टोनी ब्रुक यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर आर्थर स्टोन का कहना है कि सोमवार के बारे में संसार भर में प्रचलित धारणा के बावजूद वो इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि ये सही नहीं है.

प्रोफेसर स्टोन की टीम का ये विश्लेषण टेलीफोन पर लोगों से की गई बातचीत पर आधारित है.

इसमें पता चला कि लोग शुक्रवार, शनिवार और रविवार को हफ्ते के बाकी दिनों की तुलना में कहीं ज्यादा प्रसन्न, तनाव और चिंतामुक्त रहते हैं.

प्रोफेसर स्टोन कहते हैं, "चूंकि रविवार की तुलना में सोमवार को लोगों के मूड में काफी बदलाव दिखाई देता है. इसलिए सोमवार को कुछ ज्यादा ही बदनाम कर दिया गया है."

तो अगली बार जब आपको सोमवार को काम पर जाने का मन न कर रहा हो तो इस अध्ययन को याद कीजिएगा.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.