क्या ख़ास है ऐपल के नए आईफ़ोन में

ऐपल जो भी कमाई करता है उसका बड़ा हिस्सा फ़ोन से आता है. ऐसे फ़ोन का अगर नया वर्ज़न लॉन्च हो तो वो उसके आर्थिक भविष्य के लिए ख़ासा अहम भी होगा.

मोबाइल फ़ोन इंडस्ट्री में बाक़ी लोगों के लिए ऐपल का ये लॉन्च एक चिंता की बात थी. वे यही सोचने में लगे होंगे कि तेज़ी से बदलती इस टेक्नॉलॉजी की दुनिया में आख़िर ये लॉन्च क्या तहलका मचाएगा?

देखिए अब तक आए अलग-अलग आईफ़ोन

मगर इस फ़ोन से जुड़ी इतनी बातें लीक हो चुकी थीं कि आईफ़ोन के पहले से थोड़े बड़े आकार और हल्के होने को लेकर कोई बड़ा आश्चर्य नहीं हुआ.

कैमरे की क्वॉलिटी बेहतर हुई है, आवाज़ से संचालित होने वाला इसका सिरी फ़ीचर अब ज़्यादा कामों में इस्तेमाल हो सकेगा और ऐपल ने अब अपना मैप वाला सिस्टम लॉन्च किया है जिससे नैविगेशन बेहतर हो सके. ये सब कुल मिलाकर एक प्रभावशाली फ़ोन पेश कर रहे हैं.

मगर एंड्रॉयड का इस्तेमाल करने वाले और उसमें भी ख़ास तौर पर सैमसंग के गैलेक्सी एस3 का इस्तेमाल कर रहे लोग कहेंगे कि ऐपल सिर्फ़ उनके फ़ोन के फ़ीचर्स की बराबरी करने की कोशिश कर रहा है. एक पैनोरमा व्यू वाली यानी लंबी आयताकार तस्वीर खींचने की क्षमता तो उनके फ़ोनों में कई वर्षों से थी.

मगर इन सबके बावजूद इस नए फ़ोन को हिट होने से कोई नहीं रोक सकता क्योंकि ऐपल का मौजूदा फ़ोन इस्तेमाल करने वाले अपनी फ़ोन सर्विस देने वाली कंपनियों के साथ हुए अनुबंध के ख़ात्मे के नज़दीक हैं.

जो लोग आइओएस सिस्टम का इस्तेमाल करने के आदी हो चुके हैं वे उसी सिस्टम के साथ रहना पसंद करेंगे जबकि स्मार्टफ़ोन की दुनिया में पहली बार क़दम रखने वालों के लिए ये आईफ़ोन एक नई चमचमाती शुरुआत होगी.

ऐपल के इस नए मॉडल का ख़ासतौर पर ब्रिटेन के मोबाइल फ़ोन बाज़ार पर जो असर होगा वो काफ़ी दिलचस्प होगा. जब ऐपल ने ये घोषणा की कि उसका 4जी वाला आईफ़ोन5 ईई कंपनी के 4जी नेटवर्क पर काम करेगा तो आप सोच सकते हैं कि उस कंपनी के मुख्यालय में कितना ज़बरदस्त शोर मचा होगा.

Image caption अब तक आए आईफ़ोन

संबंधित समाचार