बच्चों के लिए जीती रहती है मादा व्हेल

  • 16 सितंबर 2012
Image caption किलर व्हेल प्रजनन की उम्र खत्म होने के बाद भी लंबे समय तक जीवित रहती है

एक अध्ययन में पाया गया है कि मादा किलर व्हेल अपने बच्चों को संरक्षण देने के लिए लंबे समय तक जिंदा रहती हैं.

आमतौर पर मादा व्हेल तीस साल की उम्र में बच्चे पैदा करती हैं लेकिन इसके बाद वो करीब पचास साल तक जिंदा रहती हैं.

एक्स्टर विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने इसकी वजह जानने के लिए लंबे समय तक कुछ रिकॉर्ड्स इकट्ठा किए.

वैज्ञानिकों ने इससे ये निष्कर्ष निकाला कि माँ की मौजूदगी नर व्हेलों को लंबे समय तक यानी उनके प्रजनन की उम्र तक जीवित रहने को सुनिश्चित करती है.

शोध के ये निष्कर्ष विज्ञान पत्रिका ‘साइंस’ में छपे हैं.

शोध

प्रमुख शोधकर्ता डॉक्टर डेरेन क्रॉफ्ट का कहना है, “रजोनिवृत्ति के बाद भी लंबा जीवन प्रकृति के बड़े रहस्यों में से एक है.”

इस मामले में किलर व्हेल यानी ओरका शुरू से वैज्ञानिकों की रुचि की वजह रही हैं क्योंकि मनुष्य के बाद यही एक प्रजाति है जिसकी प्रजनन के बाद भी इतनी लंबी आयु होती है.

जंतुओं की ज्यादातर प्रजातियों में बच्चे खुद ही बड़े होते हैं लेकिन चिंपैंजी और हाथी जैसी कुछेक प्रजातियों में मादाएं अपने बच्चों की तब तक देखभाल करती हैं जब तक कि वो वयस्क नहीं हो जाते.

किलर व्हेलों में बच्चे अपनी माताओं का साथ कभी नहीं छोड़ते और हमेशा एक समूह में रहते हैं.

डॉक्टर क्रॉफ्ट कहते हैं, “इस नजदीकी रिश्ते की वजह से उम्रदराज मादाएं अपने प्रजनन और ज्यादा समय तक जीवित रहने में अपने बच्चों की मदद करती हैं. इससे उन्हें अपने जीन्स को आगे बढ़ाने का अवसर मिलता है.”

अपने अनुमानों के परीक्षण के लिए शोधकर्ताओं ने किलर व्हेल के 36 साल के जीवन का अध्ययन किया जिसमें कनाडा और अमरीका के करीब 500 व्हेलों के जन्म और मृत्यु के तरीकों का आंकड़ा जुटाया गया.

निष्कर्ष

इस टीम में यॉर्क विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक भी शामिल थे.

इन आँकड़ों के आधार पर वे ये गणना करने में सफल हुए कि किलर व्हेलों में किस उम्र में जीने की कितनी संभावना होती है.

डॉक्टर क्रॉफ्ट कहते हैं, “हमारा शोध दिखाता है कि तीस साल के नर के लिए उसकी माँ की मौत का मतलब ये होता है कि एक साल के भीतर उसके मरने की संभावना 14 गुना ज्यादा होती है. जबकि मादा में ये संभावना सिर्फ तीन गुना ज्यादा होती है.”

शोधकर्ताओं का कहना था कि इन निष्कर्षों से ये जानने में काफी उत्साहजनक परिणाम मिले हैं कि कुछ प्रजातियों में प्रजनन के बाद भी इतनी ज्यादा उम्र क्यों होती है.

लेकिन अभी भी ये सवाल अनुत्तरित है कि वास्तव में कैसे माताएं अपने बच्चों की देखभाल करती हैं.

संबंधित समाचार