धूम्रपान का लड़कियों की उम्र से रिश्ता

 रविवार, 28 अक्तूबर, 2012 को 20:24 IST तक के समाचार
धूम्रपान

बीड़ी-सिगरेट पीने वाली और हुक्का गुड़गुड़ाने वाली जो लड़कियां 30 साल तक की उम्र तक धूम्रपान की लत छोड़ देती हैं, उनमें तम्बाकू संबंधी बीमारियों से मौत का खतरा लगभग पूरी तरह खत्म हो जाता है.

ब्रिटेन में 10 लाख से ज्यादा महिलाओं पर किये गये एक अध्ययन से ये बात सामने आई है. इस अध्ययन के नतीजे लांसेट पत्रिका में छपे हैं.

शोध में कहा गया है कि धूम्रपान करने वाले लोग, धूम्रपान ना करने वाले लोगों की तुलना में एक दशक कम जीते हैं. इसी तरह जो लोग 40 की उम्र तक धूम्रपान करते हैं, वे अपेक्षाकृत एक वर्ष जल्दी दम तोड़ देते हैं.

अध्ययन के मुताबिक, 30 की उम्र तक आते-आते धूम्रपान से तौबा कर लेने वाले लोगों की उम्र बस एक महीने कम हो जाती है. स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि इसका मतलब ये नहीं है कि 20 साल की उम्र तक जितना चाहे, उतना धूम्रपान किया जा सकता है.

तम्बाकू और मौत का रिश्ता

"हम जो कहना चाह रहे हैं, वो ये है कि यदि महिलायें भी पुरुषों की तरह धूम्रपान करेंगी तो वो भी पुरुषों की तरह ही जल्दी मर जाएंगी."

प्रोफेसर रिचर्ड पेटो

अध्ययन में पहली पीढ़ी की उन महिलाओं को शामिल किया गया जिन्होंने 1950 और 1960 के दशक में धूम्रपान शुरू किया था.

पुरुषों की तरह बहुत अधिक धूम्रपान की लत महिलाओं को काफी बाद में लगी. इसी आधार पर लंबे समय तक धूम्रपान से उम्र पर पड़ने वाले असर को जानने के लिए अध्ययन में केवल महिलाओं को शामिल किया गया.

शोध में अहम भूमिका निभाने वाले ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर, सर रिचर्ड पेटो कहते हैं, ''हम जो कहना चाह रहे हैं, वो ये है कि यदि महिलायें भी पुरुषों की तरह धूम्रपान करेंगी तो वो भी पुरुषों की तरह ही जल्दी मर जाएंगी.''

उन्होंने बीबीसी को बताया, ''धूम्रपान करने वाली आधी से अधिक महिलायें तम्बाकू की वजह से मारी जायेंगी. धूम्रपान जितना जल्दी बंद करेंगे, उतना अच्छा होगा.''

एक लाख बीस हजार महिलाओं पर किये शोध से पता चला है कि जो महिलायें एक दिन में 10 से भी कम सिगरेट पीती हैं, उनके जल्दी मरने की संभावना बढ़ती जाती है.

सर रिचर्ड पेटो कहते हैं कि पुरूषों पर भी ये बात समान रूप से लागू होती है.

ब्रिटिश लंग-फाउंडेशन का कहना है कि लोग यदि 30 साल की उम्र से पहले धूम्रपान छोड़ दें तो लंबे समय तक अच्छे स्वास्थ्य की संभावना बढ़ जाती है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.