क्या आप ख़रीदेंगे छह लाख का मोबाइल फ़ोन?

वेर्टू
Image caption वेर्टू के मोबाइल फोन दुनिया के सबसे कीमती हैंडसेट होते हैं.

भारत में या दुनिया के किसी भी देश में क़रीब छह लाख रुपए में एक अच्छी कार खरीदी जा सकती है पर ख्वाहिशों के आसमां का कोई छोर नहीं होता.

दुनिया के सबसे महंगे मोबाइल फोन बनाने वाली कंपनी वेर्टू ने पहली बार एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म पर अपना नया मॉडल पेश किया है.

वेर्टू के इस मॉडल की क़ीमत पांच लाख 71 हज़ार रुपए रखी गई है.

कंपनी के मुखिया पेरी ओस्टिंग ने बीबीसी से कहा कि 'वेर्टू टी' नाम का यह मॉडल कोई सजाकर रखने वाली चीज नहीं है, ये किसी भी दूसरे फ़ोन की तरह उपयोगी है.

इसके डिजाइनर हच हचिसन ने ‘वेर्टू टी’ की खूबियां गिनाते हुए कहा,“हैंडसेट का फ्रेम टाइटेनियम और इसका डिस्प्ले सैफायर की बनी है. हालांकि इस मॉडल में ‘फोर-जी’ तकनीक की सुविधा नहीं रखी गई है”.

ऑपरेटिंग सिस्टम

पिछले साल वेर्टू पर मोबाइल फोन बनाने वाली दुनिया की नामचीन कंपनी नोकिया की मिल्कियत थी और इसके महंगे मॉडल सिम्बियन ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ उपलब्ध थे.

कंपनी के मुख्य कार्यकारी पेरी ओस्टिंग ने बीबीसी से कहा, “वेर्टू ने अब विंडोज़ की जगह एंड्रॉयड को तरजीह दी है क्योंकि यह अधिक प्रचलित और लोकप्रिय है.”

फिलहाल कंपनी का आम लोगों तक पहुंचने का कोई इरादा नहीं है.

दस सालों से दुनिया के बाजार में मौजूद इस कंपनी ने अब तक केवल तीन लाख 26 हज़ार हैंडसेट्स ही बेचे हैं.

ओस्टिंग कहते हैं कि हम ज्यादा संख्या में हैंडसेट नहीं बनाते और ये बात हमारी कीमत से पता चलती है.

सफायर स्क्रीन

Image caption दुनिया के चंद रईस लोग ही वेर्टू रखते हैं.

वेर्टू के मोबाइल पूरी तरह से हाथ से बने होते हैं, जिसे अंग्रेज़ी में कहते हैं, हैंड क्राफ़्टेड.

इसके कल पुर्जों को जोड़ने वाले कारीगर का नाम और उसका दस्तखत इसके भीतर सिम कार्ड लगाने की जगह पर लेज़र से अंकित किया जाता है.

दुनिया भर में केवल पांच सौ ऐसी दुकानें हैं जहां वेर्टू के मॉडल्स उपलब्ध हैं जिनमें 70 दुकानें कंपनी खुद चलाती है.

इस फ़ोन की एक ख़ास बात ये भी है कि ये नाज़ुक नहीं है. कंपनी का दावा है कि इसकी मजबूती का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि दुर्घटनावश इस पर से ट्रक गुजर जाने के बाद भी यह ठीक से काम कर रहा था.

ओस्टिंग ने बताया कि सफायर स्क्रीन पर केवल हीरे से खरोंच आ सकती है.

संबंधित समाचार