क्या ख़ास है नोकिया लूमिया 925 में

Image caption नोकिया लूमिया 925 लूमिया 920 के मुक़ाबले हल्का है

नोकिया ने विंडोज़ पर चलने वाले अपने स्मार्टफ़ोन लूमिया का नया वर्ज़न- लूमिया 925- लॉंच किया है.

लंदन में प्रदर्शित- लूमिया 925- से वायरलेस चार्जिंग को हटा दिया गया है, जिससे यह लूमिया 920 के मुकाबले हल्का हो गया है.

इसके अलावा नोकिया ने लूमिया का कैमरा भी बदला है. कंपनी का दावा है कि यह तकनीक फ़ोन में पहली बार इस्तेमाल की जा रही है.

लूमिया का नया मॉडल जून में यूरोप और चीन में बेचना शुरू किया जाएगा. इसके बाद यह अमरीकी बाज़ार में उतारा जाएगा.

मेटल फ्रेम

नोकिया ने लूमिया 925 को इसके पूर्ववर्ती का “नया अवतार” बताया है. लूमिया 920 भी बाज़ार में मौजूद रहेगा.

लूमिया 925 का वज़न 139 ग्राम है जो लूमिया 920 से 46 ग्राम कम है और 8.5 मिमी मोटाई के साथ यह पुराने फ़ोन से 2.2 मिमी पतला है.

स्नेपड्रेगन एस4 प्रोसेसर और 2,000 एमएएच की बैट्री पुराने जैसे ही है लेकिन 16 जीबी की इंटरनल स्टोरेज क्षमता पुराने फ़ोन के मुकाबले आधी है.

फोन का 32 जीबी स्टोरेज वाला संस्करण वोडाफ़ोन के लिए ख़ास तौर पर निकालने की योजना है.

नोकिया के प्रोडक्ट डिज़ाइन चीफ़ स्टीफ़न पैनेबेकर कहते हैं, “नए फ़ोन में हमने कुछ छोटी-मोटी चीज़ें हटा दी हैं- जैसे कि वायरलेस चार्जिंग. वैसे कवर लगाकर आप इसका भी इस्तेमाल कर सकते हैं.”

वह कहते हैं, “हमने एक ऐसा उत्पाद बनाया है जो ज़्यादा गठा हुआ है और हाथ में ज़्यादा आसानी से समाता है.”

लूमिया 925 की स्क्रीन में कोई बदलाव नहीं है और यह 4.5 इंच की ही है हालांकि नया एमोलेड डिस्पले लूमिया 920 के आईपीएस आधारित डिस्पले से बेहतर है.

एक और बदलाव मेटल फ्रेम है जो सिर्फ़ सफ़ेद, काले या ग्रे रंगों में उपलब्ध होगा.

नई तकनीक

लूमिया 925 का मुख्य कैमरा पुराने वाले की ही तरह 8.7 मेगापिक्सल का रेज़ोल्यूशन और “फ़्लोटिंग लैंस” इमेज स्टेबिलाइज़िंग तकनीक का इस्तेमाल करता है.

लेकिन कैमरे में भी एक बदलाव है. इसका ऑप्टिकल सिस्टम एक छह-तहों वाले लेंस से लैस है. इमेज सेंसर तक पहुंचने से पहले रोशनी छह सतहों से गुज़रती, जो उसे बेहतर बनाने में मदद करते हैं.

Image caption नोकिया का दावा है कि नई तकनीक के कैमरे से शानदार तस्वीरें ली जा सकेंगी

इससे पहले बहुत अच्छे स्मार्टफ़ोनों में ज़्यादा से ज़्यादा चार या पांच तहें होती थीं.

नोकिया के इमेजिंग तकनीक के मुखिया जुहा अलाकारहु ने बीबीसी को बताया, “हर तह रोशनी को थोड़ा अलग ढंग सेमोड़ती है. उपभोक्ता के लिए इसका मतलब हुआ ज़्यादा सटीक तस्वीर.”

एक नवीनतम सॉफ्टवेयर से कुछ अन्य फ़ायदे भी मिलेंगे. यह सॉफ़्टवेयर दूसरे विंडोज़ 8 फोनों के लिए उपलब्ध होगा.

वह कहते हैं, “अधिकतम आईएसओ 800 से 3,200 तक जाता है जिसका मतलब यह है कि हम कम रोशनी में भी बेहतर तस्वीरें ले सकेंगे. हमने अपने रंग और रोशनी की गणना विधि को भी उल्लेखनीय रूप से बेहतर किया है.”

इन सुधारों के साथ नोकिया उन आलोचनाओं का जवाब दे सकता है जिनमें लूमिया 920 की तस्वीरों को सैमसंग गैलेक्सी एस4 और आईफ़ोन5 के मुकाबले बहुत हल्का बताया जाता है.

नोकिया स्मार्ट कैम नाम का एक नया ऐप फोटो खींचने के कई तरीके उपलब्ध करवाता है. इनमें मोशन फ़ोकस भी शामिल है जो तस्वीर के विषय को चमका देता है और पृष्ठभूमि को धुंधला कर देता है, जिससे ऐसा लगता है कुछ चल रहा है.

हालांकि लूमिया 925 में एक विशेषता की कमी है, जो इसके जैसे ही एक अन्य फ़ोन लूमिया 928 में मौजूद है- ज़ेनॉन फ़्लैश. इसके बजाय वह कम क्षमता वाली एलईडी तकनीक का इस्तेमाल करता है.

छह महीने और

मार्केट रिसर्च फ़र्म आईडीसी के अनुसार नोकिया की बिक्री पिछले साल के मुकाबले 46 फ़ीसदी गिरी है. साल 2012 की पहली तिमाही में कंपनी की बिक्री 11.90 करोड़ थी जो जनवरी से मार्च 2013 में सिर्फ़ 6.40 करोड़ रह गई है.

Image caption नोकिया को उम्मीद है कि लूमिया फ़ोनों की बिक्री जल्द ही बढ़ेगी

आंकड़ों के अनुसार नोकिया का बाज़ार हिस्सा 3 फ़ीसदी गिरा है जबकि सैमसंग, एलजी, हुवाइ और ज़ेडटीई सबमें वृद्धि हुई है.

यह आंकड़े कंपनी की नेतृत्व क्षमता पर दबाव बढ़ाते हैं. हेलसिंकी में पिछले हफ़्ते हुई वार्षिक आम बैठक में एक निवेशक ने ज़ोर देकर कहा था, “कृपया कोई दूसरा रास्ता चुनिए.”

नोकिया की लगातार कोशिशों के बावजूद विंडोज़ फ़ोन की मांग गूगल के एंड्राएड आधारित फ़ोनों के मुकाबले काफ़ी कम है.

कुछ विशेषज्ञ नोकिया को यह रास्ता बदलने की सलाह भी दे रहे हैं लेकिन आईडीसी के अनुसार यह जल्दबाज़ी होगी.

आईडीसी के यूरोपीय फ़ोन उत्पादों के शोध निदेशक फ्रांसिस्को जेरोनिमो कहते हैं, “नोकिया को पहले सकारात्मक परिणाम मिलने वाले हैं. कंपनी को दूसरी तिमाही में लूमिया फ़ोनों की बिक्री में 30 फ़ीसदी वृद्धि का अनुमान है. अगर वह इसी रफ़्तार से बढ़ते रहते हैं तो यह ठीक रहेगा.”

वह कहते हैं, “इस वक्त एंड्राएड मार्केट में निवेश करने का मतलब शून्य से शुरू करना होगा. लेकिन अगर छह महीने में बिक्री नहीं बढ़ती तो उन्हें रणनीति पर पुनर्विचार करना होगा.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार