अब शार्क को 'चकमा' देगा ये सूट

  • 19 जुलाई 2013

शिकारी शार्क मछलियाँ अपने खूँखार व्यवहार और आतंक के लिए जानी जाती हैं. लेकिन उनकी भी कुछ कमज़ोरियाँ हैं. इन्हीं का फायदा उठाते हुए एक सूट बनाया गया है.

दावा किया जा रहा है कि "द डाइवर्टर" नाम का सूट पहन कर समुद्र में जाने से शार्क के हमले से बचा जा सकेगा.

समुद्र में जाना रोमांचक होता है लेकिन साथ ही समुद्री जीवों के हमले का ख़तरा भी हमेशा बना रहता है. जब शार्क की बात आती है तो अच्छे- अच्छों के छक्के छूट जाते हैं.

इसे बनाने वाले ऑस्ट्रेलिया के दो व्यवसायियों का दावा है कि यह अपनी तरह का पहला सूट है. इसे एक विश्वविद्यालय की शोध परियोजना की मदद से तैयार किया गया है. इसकी बनावट भी ख़ास है.

द डाइवर्टर

पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में शार्क के हमलों के बढ़ते मामलों के बाद इसे बनाने का काम शुरू किया गया था.

"द डाइवर्टर" के निर्माताओं का कहना है कि उन्होंने इस सूट को शार्क के बारे में मिली नई वैज्ञानिक जानकारियों के आधार पर तैयार किया है.

निर्माताओं का कहना है कि शार्क रोशनी को किस तरह से देखती है. किन रंगो को वह देख पाती हैं, किन्हें नहीं देख पाती है, इन सारी बातों को ध्यान में रखते हुए इस सूट को तैयार किया गया है.

उन्होंने कहा कि यह शार्क की नज़र से गोताखोर या उसकी साँस लेने की नली को छिपा सकेगा.

दोनों ऑस्ट्रेलियाई उद्यमियों में से एक क्रेग एंडर्सन ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि यह वेटसूट शार्क की नज़र को भ्रमित कर देगा.

शार्क की नज़रों से दूर

वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया विश्वविद्यालय की शोधकर्ता, शोइन कॉलिन कहती हैं कि काले- सफ़ेद रंग वाला यह सूट इंसान से शार्क को दूर रखेगा.

वह कहती हैं, कई जानवर पट्टियों को देख कर दूर भागते हैं. इससे उन्हें संकेत मिलते है कि इसका शिकार करना सुरक्षित नहीं होगा.

पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने टाइगर शार्क पर परीक्षण करने के लिए वित्तीय मदद दी है.

परीक्षण के लिए पुतलों को वेटसूट पहना कर समुद्र में डाला गया. पाया गया कि टाइगर शार्क उन पुतलों के पास से आगे बढ़ गई, जिन पुतलों ने पट्टीदार वेटसूट पहना था. शार्क ने उन्हीं पुतलों पर हमला किया जिन्होंने काली पोशाक पहन रखी थी.

दक्षिण ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के समुद्र में और भी परीक्षण किये जाने हैं.

परीक्षणों का दौर

क्रेग एंडर्सन ने कहा कि दुनिया भर में शार्क को दूर भगाने की तकनीक की बहुत अधिक माँग है.

उन्होंने कहा, " सभी को उपाय चाहिए, दुनिया में सभी को पानी में जाने से घबराहट होती है."

ब्रिटेन में शार्क संरक्षण ट्रस्ट की अध्यक्ष एली हुड ने बीबीसी को बताया कि पानी के खेलों में लोगों की रूचि बढ़ी है और अब पहले से ज्यादा लोग पानी में जा रहे हैं.ट्रस्ट शार्क को दूर रखने के उपायों में हो रही प्रगति का स्वागत करता है.

उन्होंने यह भी कहा कि शार्क से संबंधित दुर्घटनाएँ या मौतें तभी होती हैं जब लोग तटों पर लगाई गई चेतावनी पर ध्यान न देकर समुद्र में चले जाते हैं. सुबह और शाम के समय समुद्र में जाने से शार्क का खतरा बढ़ जाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकतें हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार