एक आवाज़ पर करेगा गूगल सर्च

गूगल

सर्च इंजन गूगल ने अपने सर्च एल्गॉरिद्म में बड़ा बदलाव किया है. गूगल ने अपने नए एल्गॉरिद्म का नाम हमिंगबर्ड रखा है. पिछले तीन सालो में अपने सर्च एल्गॉरिद्म में गूगल द्वारा किया गया यह सबसे बड़ा बदलाव है.

यह एल्गॉरिद्म करीब एक महीने से प्रयोग में है और गूगल पर की जाने वाली तकरीबन 90 प्रतिशत खोज इसके द्वारा की जा रही है.

गुरुवार के इस एल्गॉरिद्म का प्रदर्शन करते हुए गूगल के अधिकारी इसकी खासियत के बारे में ज़्यादा कुछ नहीं बता पाए लेकिन उनका कहना था कि गूगल सर्च का यह नया संस्करण लंबी और जटिल खोजों में ज़्यादा कारगर होगा.

गूगल ने जोर देकर कहा कि नया एल्गॉरिद्म खास है क्योंकि उपयोगकर्ता ज़्यादा प्राकृतिक और संवादपरक सर्च इंजन चाहते हैं. उपभोक्ता चाहते हैं कि मोबाइल, स्मार्टवॉच या ऐसी ही दूसरे गैजेट उनकी आवाज़ को पहचान कर उनका कहा मानें.

हमिंगबर्ड रैंकिग सूचना के आधार पर ज्यादा बुद्धिमत्तापूर्ण ढंग से सर्च करता है. जबकि इसका पूर्ववर्ती एल्गॉरिद्म कैफीन वेबसाइटस की बेहतर इंडेक्सिंग के आधार पर सर्च करता था.

ज़्यादा समझदार

हमिंगवर्ड शब्दों की बजाय विचारों और अवधारणाओं को ज़्यादा बेहतर तरीके से समझता है. इसलिए इसका उपयोग ज्यादा सरल है.

इस तरह यह गूगल के नॉलेज ग्रॉफ का एक विस्तार ही है. पिछले साल जारी किया गया गूगल नॉलेज ग्रॉफ को इंटरनेट सर्च को ज़्यादा मानवीय और संवादपरक बनाने के लिए लाया गया था.

गूगल सर्च के नए संस्करण के प्रदर्शन के दौरान गूगल की अधिकारी ने अपने फ़ोन से आवाज़ के माध्यम से एफिल टावर की तस्वीर को खोज कर दिखाया. तस्वीर के आ जाने के बाद उन्होंने सर्च इंजन से पूछा कि एफिल टावर की ऊँचाई क्या है. जब गूगल ने टावर की ऊँचाई सही-सही बता दी तो उन्होंने कहा कि मुझे इसके निर्माण की तस्वीरें दिखाओ तब गूगल ने टावर के निर्माण से जुड़ी कई तस्वीरें पेश कीं.

एक सर्च इंजन के विशेषज्ञ डैनी सुलीवैन ने कहा कि हमिंगबर्ड की सफलता के बारे में कोई अनुमान लगाना अभी जल्दबाजी होगी."

सर्च इंजन 'लैंड' के संस्थापक सुलीवैन ने कहा, " गूगल को इस नई तकनीकी से बड़ा लाभ मिल सकता है लेकिन यह कैसा प्रदर्शन करेगा यह समय बीतने के साथ ही पता चलेगा."

गूगल ने यह घोषणा सिलिकॉन वैली स्थित उस गैराज में की जहाँ सर्गेई ब्रिन और लैरी पेज ने 15 साल पहले इस सर्च इंजन की शुरुआत की थी.

इस मौके पर गूगल ने ऐपल आईओएस के नए ऐप को भी जारी किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहाँ क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार