पीसी की बिक्री में ज़बर्दस्त गिरावट

पीसी
Image caption आईडीसी के अनुसार मौजूदा साल में पीसी की बिक्री में 'रिकार्ड तोड़ गिरावट' आने वाली है.

अनुसंधान कंपनी इंटरनेशनल डाटा कॉरपोरेशन (आईडीसी) ने इस बात की आशंका जताई है कि साल 2013 में पीसी की वैश्विक बिक्री में 'रिकॉर्ड-तोड़ गिरावट' दर्ज होगी.

कंपनी का कहना है कि इस साल पीसी की बिक्री 10.1 फीसदी कम होगी. पिछले अनुमान में पीसी की बिक्री में 9.7 फीसदी गिरावट की आशंका जताई गई थी.

पिछली छह तिमाही यानि डेढ़ सालों में पीसी की बिक्री में आने वाली इस कमी को ऐतिहासिक बताया जा रहा है.

टेबलेट्स और स्मार्टफोन का प्रचलन बढ़ने के कारण पीसी की विश्वस्तरीय बिक्री को नुकसान पहुंचा है.

आईडीसी में वरिष्ठ अनुसंधान विश्लेषक जे चाऊ ने एक बयान में कहा है, "भविष्य में पीसी की मांग संभवतः इसलिए घट रही है क्योंकि अब ये सिस्टम काफी पुराना हो गया है. इसकी जगह कोई नया और तेज सिस्टम नहीं खोजा गया."

यही नहीं, आईडीसी का ये भी कहना है कि इसकी बिक्री में साल 2014 में भी गिरावट जारी रहेगी, मगर यह धीमी गति से होगा.

ग्राहकों का मिजाज़

जुलाई 2013 में इस कंपनी ने कहा था कि उसे अभी भी आशा है कि साल की अंतिम छमाही में पीसी की बिक्री बेहतर हो सकती है. मगर ताजा बयान उसके पहले के नजरिए से एकदम विपरीत है.

इससे ये जाहिर होता है कि पीसी में लोगों की दिलचस्पी तेजी से सीमित होती जा रही है.

वैसे उभर रही नई बाजार व्यवस्था में पीसी की बिक्री के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण विकास नजर आता है. मगर आईडीसी का कहना है कि वहां भी लोगों की रुचि कम हो रही है और इसीलिए 2014 में इसकी बिक्री और गिरेगी.

Image caption माना जा रहा है कि सस्ते एंड्रॉयड टेबलेट्स की भारी आपूर्ति से पीसी को नुकसान हो रहा है.

मौजूदा साल के शुरुआत में अनुसंधान कंपनी 'गार्टनर' ने कहा था कि उभरते बाजार में सस्ते एंड्रॉयड टेबलेट्स की भारी आपूर्ति ने उपभोक्ताओं को पहली बार आकर्षित किया. इसका नतीजा ये हुआ कि पीसी की बिक्री को नुकसान होने लगा.

इसके विपरीत, कारोबारी बिक्री इस साल उपभोक्ता बिक्री से आगे रही है.

आईडीसी के मुताबिक साल 2013 में कारोबारी बिक्री में 5 फीसदी गिरावट आने की संभावना दर्ज की गई जबकि उपभोक्ता बिक्री में इसकी तुलना में करीब 15 फीसदी गिरावट दर्ज की गई है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार