पत्थर मार मार कर प्यार!

बालों वाला बंदर इमेज कॉपीरइट AP

मादा बंदरों के व्यवहार पर फ़िल्माए गए वीडियो से पता चला है कि वह अपने संभावित साथियों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने के लिए उन पर पत्थर फेंकती हैं. वैज्ञानिकों के मुताबिक़, मादा बंदरों का यह एक बहुत ही गंभीर व्यवहार है क्योंकि अपनी साथी पर हक़ जताने का यह उनके लिए एकमात्र अवसर होता है.

फ़िल्म निर्माताओं ने ब्राज़ील के सेरा डा केपिवारा राष्ट्रीय उद्यान में गुच्छेदार बालों वाले बंदरों की एक उप-प्रजाति दाढ़ी वाले बंदरों का फ़ु्टेज तैयार किया. उसी से यह जानकारी मिली है.

शुष्क सवाना बंदरों की इस प्रजाति को उत्तर पूर्वी ब्राज़ील में कैटींगा के रूप में जाना जाता है.

इन बंदरों का प्रचलित नाम गुच्छेदार बंदर उनके ख़ास तरह के बालों की बनावट की वजह से पड़ा. लेकिन इसका वैज्ञानिक नाम सैपेजियस लिबिडिनस है जो इन बंदरों के भावुक होने का संकेत देता है.

पिछले दो साल से डरहम, ब्रिटेन और ब्राज़ील के साओ पाओलो विश्वविद्यालय से बंदरों के सामाजिक संबंधों पर पीएचडी करने वाली कैमिला कोएल्हो ने बंदरों के यौन जीवन के रहस्यों को उजागर करने में फ़िल्म निर्माताओं की मदद की.

अनोखा व्यवहार

Image caption बालों वाले बंदर अपने नर साथी को लुभाने के लिए पत्थर फेंकते हैं.

ग़ैर इंसानी प्रजातियों में बंदर ही एक ऐसी प्रजाति है जो अपनी बुद्धिमता के लिए जाना जाता है.

वर्षों से बंदरों का व्यवहार वैज्ञानिकों के लिए कौतूहल का विषय रहा है और हाल के अध्ययन ने इनके पत्थर फेंकने की क्षमता की ओर ध्यान आकर्षित कराया है.

अन्य बंदरों के विपरीत, इस प्रजाति के मादा बंदर "प्रजनन काल" दिखाने के लिए किसी भी तरह के शारीरिक संकेत का इस्तेमाल नहीं करते हैं.

चमकीले रंग, फूले हुए जननांगों या तेज़ महक या तरल पदार्थ के उत्सर्जन के विपरीत इस प्रजाति के मादा बंदर पत्थर फेंकने के अपने व्यवहार से प्रजनन की इच्छा दिखाते हैं.

पत्थर फेंकने का इनका यह व्यवहार आक्रामकता के बजाए तारीफ़ का संकेत देता है.

कैमिला कोएल्हो ने बताया, "अन्य प्रजातियों की तरह ही दाढ़ी वाले बंदरों की इस प्रजाति के नर बंदर, मादा बंदरों के अपने चरम पर पहुँचने का इंतजार करते हैं."

जीव-विज्ञानी कैमिला कोएल्हो बताती है कि वह इस बात पर अध्ययन कर रही हैं कि विभिन्न प्रजातियों में व्यक्तिगत व्यवहार, व्यापक तौर पर परंपरा कैसे बन जाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार